इंदिरा गांधी जीवन परिचय निबंध – Indira Gandhi Biography in Hindi



Indira Gandhi Biography essay in Hindi – नमस्कार दोस्तों आज हम आपके साथ जिनका जीवन परिचय और बायोग्राफी शेयर करने वाले हैं उनका नाम है श्रीमती इंदिरा गांधी जी. आज के इस पोस्ट में हम आपको इंदिरा गांधी का जीवन परिचय और उनके बारे में निबंध हिंदी में शेयर करने वाले हैं हम उम्मीद करते हैं कि आजकल यह हिंदी बायोग्राफी आपको बहुत ज्यादा पसंद आएगा

चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम आज के इस पोस्ट की शुरुआत करते हैं

पढ़े – Lal Bahadur Shastri Essay in Hindi

इंदिरा गांधी का जीवन परिचय और निबंध

Indira Gandhi Biography Essay in Hindi

Indira Gandhi Biography Essay in Hindi

भारतीय नारी को राजनीतिक उच्चता के गौरव शिखर तक पहुंचाने वाली श्रीमती इंदिरा गांधी का वास्तविक नाम इंदिरा प्रियदर्शनी था. वह दूरदर्शन और साहसी महिला थी.

इंदिरा गांधी भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी थी. इंदिरा गांधी जी का जन्म 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद के आनंद भवन मैं हुआ था. इंदिरा गांधी जी पंडित जवाहरलाल नेहरु की एकमात्र औलाद थी इसलिए उसको बड़े लाड़ प्यार से उनका पालन पोषण किया गया था

उन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई विदेश में switzerland में की थी और उनकी बाकि की पढ़ाई लिखाई इंडिया में कोलकाता की शांति निकेतन तथा ऑक्सफर्ड में पूरी हुई थी. ऑक्सफर्ड में पढ़ाई करते समय इंदिरा गांधी जी का राजनीति के साथ कुछ कुछ संबंध बनने लग गया था

पढ़े – सुभाष चंद्र बोस पर निबंध

ऑक्सफोर्ड से भारत वापस आने के बाद 1938 में जब हुए मात्र 21 साल की थी तब उन्होंने राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में भाग लिया था. इसके बाद वह हर एक राष्ट्रीय आंदोलन में अपना पूरा भागीदारी निभाती थी

26 मार्च 1942 को इंदिरा गांधी जी का विवाह फिरोज गांधी के साथ हो गया जो खुद एक देशभक्त कार्यकर्ता थे. उसके बाद से ही उनका नाम इंदिरा गांधी पड़ गया था.

उनकी शादी होने के कुछ समय बाद ही भारत छोड़ो आंदोलन के लिए उनको जेल भी जाना पड़ा था. 1959 में वे अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्ष चुनी गई थी

जैसे जैसे वह ज्यादा राजनीति में एक्टिव होती गई पति से उनका एक प्रकार का अनकहा दुराव भी बढ़ता गया. पर इसी बीच में संजय और राजीव नामक दो बेटे की मां बन चुकी थी

1962 में चीनी आक्रमण के बाद राष्ट्रीय रक्षा के यज्ञ की तैयारी के लिए अपने समस्त आभूषणों का दान देकर उन्होंने अपनी उदारता व राष्ट्रीयता का परिचय दिया था

1954 में पंडित जवाहरलाल नेहरु की मृत्यु के बाद श्री लाल बहादुर शास्त्री सरकार में इंदिरा गांधी जी सूचना और प्रसारण मंत्री बन गई थी. 1966 में लाल बहादुर शास्त्री जी की मृत्यु होने के बाद इंदिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री बन गई

पढ़े – जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

जैसे ही इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री बनी उसके बाद उन्होंने बहुत सारे महत्वपूर्ण कार्य किए जिसकी वजह से उनका नाम पूरे विश्व में प्रसिद्ध हो गया था. 1969 में बैंकों का राष्ट्रीयकरण उन्होंने ही किया था और राजाओं के प्रिवीपर्स बंद करवाया था

अनाज की दृष्टि से भी उन्होंने देश को आत्मनिर्भर बना दिया था. 1971 में पाकिस्तान पर विजय प्राप्त करके बांग्लादेश की स्थापना उन्होंने ही की थी

1975 में निर्धनों तथा पिछले जाति के लोगों के भला करने के लिए २०-सूत्री कार्यक्रम बनाया था. 1982 में नई दिल्ली में एशियाई खेल उन्हीं के वजह से संभव हो पाया था और 1983 में निर्गुट सम्मेलन आयोजित करके उन्होंने खूब प्रशंसा प्राप्त की थी

बड़े दुर्भाग्य की बात है कि भारत की इस दृढ़ निश्चय वाली महिला की इनके अपने ही अंग रक्षकों ने 21 अक्टूबर 1984 को गोली मारकर हत्या कर दी थी. लेकिन इसके बावजूद भी उनका देश के लिए किया गया यह बलिदान हमारे बीच सदा अमर रहेगा

इंदिरा गांधी ने भारत के लिए जो कुछ भी किया वह बहुत ही काबिले तारीफ है और उनको हम तहे दिल से सलाम बोलते हैं और इंदिरा गांधी जी हमेशा हमारे दिल में बसी रहेंगी और हम उनका मान सम्मान मरते दम तक करते रहेंगे

पढ़े – महात्मा गांधी पर निबंध

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था इंदिरा गांधी का जीवन परिचय और निबंध ( Indira Gandhi Biography Essay in Hindi ) हम उम्मीद करते हैं कि आज का यह हिंदी बायोग्राफी पढ़कर आपको इंदिरा गांधी जी कि जीवन के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी

यदि आपको हमारा यह निबंध पसंद आया हो तो कृपया करके इसे दूसरे विद्यार्थियों के साथ और लोगों के साथ Facebook WhatsApp Twitter और Google plus पर जरूर शेयर करें

और ऐसे ही और भी अधिक जीवन परिचय और निबंध पढ़ने के लिए नियमित रूप से हमारे ब्लॉग पर आया करें धन्यवाद दोस्तों