Lal Bahadur Shastri Essay in Hindi | लाल बहादुर शास्त्री का जीवन परिचय निबंध

Lal Bahadur Shastri biography Essay in Hindi – नमस्कार दोस्तों आज हम आपके साथ और एक बहुत ही बढ़िया निबंध और जीवनी लेकर आए हैं जिसमें आज हम बात करेंगे लाल बहादुर शास्त्री जी का जीवन परिचय और उनके बारे में एक निबंध

हम उम्मीद करते हैं कि आप लोगों को हमारा यह हिंदी निबंध जरूर पसंद आएगा चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए आज के इस हिंदी निबंध की शुरूआत करते हैं और देखते हैं लाल बहादुर शास्त्री जी का जीवन परिचय हिंदी में

Lal Bahadur Shastri Biography Essay in Hindi

लाल बहादुर शास्त्री का जीवन परिचय और निबंध

Lal Bahadur Shastri Essay in Hindi

एक साधारण व्यक्ति का साधारण वातावरण में और परिस्थितियों में जन्म लेना और असाधारण काम करके दिखाना अपने आप में एक बहुत बड़ी बात है और ऐसा कारनामा करने वाले व्यक्तित्व का नाम है लाल बहादुर शास्त्री जी

लाल बहादुर शास्त्री जी पंडित जवाहरलाल नेहरु की मृत्यु होने के बाद भारत के दूसरे प्रधानमंत्री बने थे उन्होंने 9 जून 1964 को प्रधानमंत्री पद की शपथ ग्रहण की थी

श्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर १९०४ को वाराणसी जिले के छोटे से ग्राम मुगल सराय में हुआ था. सामान्य शिक्षक का कार्य करने वाले उनके पिता शारदा प्रसाद मात्र डेढ़ वर्ष की आयु में ही उस बालक को अनाथ करके स्वर्ग सिधार गए थे

माता श्रीमती रामदुलारी नेगी जैसे तैसे करके लाल बहादुर शास्त्री जी का पालन पोषण किया था. इतनी मुश्किल परिस्थितियों के बावजूद भी उन्होंने अपनी पढ़ाई लिखाई वाराणसी के एक स्कूल से कंप्लीट कर दी थी

गांधी जी के बुलावा पर मात्र 17 वर्ष की आयु में ही अपनी पढ़ाई लिखाई छोड़ कर वह स्वाधीनता संग्राम में कूद पड़े थे. ढाई वर्ष की जेल होने के बाद भी शास्त्री जी इसके बाद काशी विद्यापीठ में एडमिशन ले कर फिर से अपनी पढ़ाई लिखाई जारी रखी

यहीं पर उन्हें शास्त्री की उपाधि प्राप्त हुई थी और तभी से सब लोग उन्हें लाल बहादुर शास्त्री बोलते थे. यहां पर उन्होंने 4 साल तक संस्कृत तथा दर्शन का अध्ययन किया था

लाल बहादुर शास्त्री जी का जीवन बड़ा ही संघर्षपूर्ण रहा था हरिजनों द्वार मैं भी उनका बहुत बड़ा योगदान रहा था. शास्त्री जी १९३७ में उत्तर प्रदेश विधान सभा के सदस्य चुने गए थे

लेकिन पहले 1940 में और फिर 1942 में उन्हें गिरफ्तार करके जेल में डाल दिया था. वे अपने पूरे जीवनकाल में लगभग 18 बार जेल जा चुके थे बाद में 1947 में जब पंत जी के नेतृत्व में नया और स्वतंत्र मित्र मंडल गठित हुआ तब शास्त्री जी को उसमें गृह मंत्री का पद प्रदान किया गया था

लाल बहादुर शास्त्री जी की कार्य निष्ठा और योग्यता को देखते हुए 1951 में पंडित जवाहर नेहरू जी ने उन्हें आम चुनावों में कांग्रेस के कार्य के लिए दिल्ली बुला लिया था. 1956-57 मैं वह इलाहाबाद के शहरी क्षेत्र से लोकसभा के सदस्य चुने गए थे

नए मित्र मंडल में नेहरू जी ने उन्हें संचार और परिवहन मंत्री बनाया. लाल बहादुर शास्त्री जी एक बहुत ही ईमानदार और परिश्रमी व्यक्ति थे उनका स्वभाव बहुत ही ज्यादा शांत गंभीर व संकोची था

इसी कारण वे जनता के सच्चे ह्रदय सम्राट बनी रहे उनकी बेजोड़ योग्यता और महान नेतृत्व का परिचय हमें 1955 के भारत-पाकिस्तान युद्ध और भी अधिक देखने को मिला था

यह बहुत ही अनोखी और जबरदस्त सूझबूझ के इंसान थे, उनके सफल नेतृत्व में भारत ने पाकिस्तान को पूरी तरीके से हरा दिया था इस घटना से जनता का लाल बहादुर शास्त्री जी के प्रति विश्वास और भी ज्यादा बढ़ गया और वह हर एक के दिलों में बस गए थे और लोग उनको बहुत प्यार और मान सम्मान दिया करते हैं

लाल बहादुर शास्त्री जी एक ऐसे महान पुरुष थे जिन्होंने हर एक क्षेत्र में अपना हंड्रेड परसेंट दिया और अपनी कुशलता के दम पर पूरे दुनिया में बहुत ज्यादा नाम कमाया. शास्त्री जी आज भी हमारे बीच में अमर है उन्होंने भारत के लिए बहुत कुछ किया है और हम को उन का तहे दिल से धन्यवाद कहना चाहिए

रिलेटेड पोस्ट:

Mahatma Gandhi par nibandh

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

Subhash Chandra Bose Essay in Hindi

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था लाल बहादुर शास्त्री जी का जीवन परिचय और निबंध ( Lal Bahadur Shastri biography Essay in Hindi ) हम उम्मीद करते हैं कि आज का यह पोस्ट पढ़कर आपको लाल बहादुर शास्त्री जी की जीवनी बहुत ज्यादा पसंद आई होगी

यदि आप लोगों को हमारा यह निबंध पसंद आया हो तो कृपया करके उसे दूसरे विद्यार्थियों के साथ और दोस्तों के साथ Facebook WhatsApp Twitter और Google plus पर जरूर शेयर करें और ऐसे ही और भी ज्यादा महान लोगों के जीवन परिचय और निबंध के लिए आप नियमित रूप से हमारे ब्लॉग पर आया करें धन्यवाद दोस्तों

Leave a Comment

Your email address will not be published.