जवाहरलाल नेहरू पर निबंध – Jawaharlal Nehru Essay in hindi



Jawaharlal Nehru Essay in hindi – नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से हमारे इस हिंदी निबंध संग्राम में एक और महान व्यक्ति के बारे में आज हम आपके साथ बात करने वाले हैं. आज जो निबंध हम आप लोगों के साथ शेयर करने वाले हैं वह पंडित जवाहरलाल नेहरू जी के बारे में हैं

दोस्तों पंडित जवाहरलाल नेहरु एक ऐसे व्यक्ति थे जो देश की सेवा करने के साथ-साथ इसके बच्चों के साथ भी बहुत ज्यादा प्यार करते थे उनको छोटे बच्चे बहुत ही ज्यादा पसंद थे. हम हमारे इस ब्लॉग पर छोटे बच्चों के लिए और स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए ऐसे निबंध लेकर आते हैं जिनसे कि उनको इम्तिहान में अच्छे नंबर मिल पाए

पढ़े – Mahatma Gandhi Essay in Hindi

चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम आज के हिंदी निबंध की शुरूआत करते हैं

जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

Jawaharlal Nehru Essay in hindi

Jawaharlal Nehru Essay in hindi

महात्मा गांधी जी यदि स्वतंत्र भारत के राष्ट्रपति थे तो पंडित जवाहरलाल नेहरु को आधुनिक भारत का निर्माता माना जाता था. राजसी परिवार में जन्म लेकर तथा सभी तरह की सुख सुविधा भरे वातावरण में पलकर भी पंडित जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय स्वतंत्रता और आन बान की रक्षा के लिए अपना स्वार्थ त्याग दिया था

पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 अक्टूबर 1889 को इलाहाबाद के आनंद भवन में हुआ था उनके पिता पंडित मोतीलाल नेहरू अपने युग के प्रमुख वकील थे उनकी माता का नाम श्रीमती स्वरूप रानी नेहरू था

उनकी प्राथमिक शिक्षा घर पर ही हुई थी उन के बाद वह हायर एजुकेशन प्राप्त करने के लिए इंग्लैंड चले गए वहां से बैरिस्टर बनकर सन 1912 में वापस भारत आ गए और अपने पिताजी के साथ प्रयाग में वकालत करने लगे

सन 1915 में रौलट एक्ट के विरुद्ध होने वाली मुंबई कांग्रेस में नेहरू जी ने भाग लिया था यही से नेहरू जी का राजनीतिक जीवन की शुरूआत हुई थी

नेहरु जी की शादी 1916 में श्रीमती कमला जी के साथ हुई थी. 1917 में 19 नवंबर के दिन उनके घर इंदिरा प्रियदर्शनी नामक लड़की ने जन्म लिया

पढ़े – Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi

कुछ दिन पश्चात नेहरू जी कांग्रेस के सदस्य बन गए और फिर महात्मा गांधी जी के नेतृत्व में देश की सेवा के कार्य में लग गए

1919 के किसान आंदोलन और 1921 के असहयोग आंदोलन में भाग लेने के कारण पंडित जवाहरलाल नेहरु जी को जेल जाना पड़ा था. 1931 में उनके पिता श्री मोतीलाल नेहरु और 1936 में उनकी धर्मपत्नी कमला नेहरू का निधन हो गया था

15 अगस्त 1947 को भारतीय वर्ष स्वतंत्र हो गया तब वह सर्वसम्मति से भारत के प्रथम प्रधानमंत्री बने और जीवन के अंत तक इसी पद पर बने रहे थे. नेहरू जी ने भारत को आर्थिक सामाजिक और राजनीतिक दृष्टि से उन्नत करने के लिए बहुत बड़े बड़े काम किए थे

उन्होंने जातिभेद को दूर करने, स्त्री जाति की उन्नति करने व शिक्षा प्रसार जैसे अनेक काम भी किए थे. युद्ध के कगार पर खड़े विश्व को उन्होंने शांति का मार्ग दिखाया

नेहरु जी ने पंचशील के सिद्धांतों ने विश्व शांति की स्थापना में सहायता की थी. पंडित जवाहरलाल नेहरू एक महान राष्ट्र नेता थे ही वह उच्च कोटि के चिंतक, विचारक और लेखक भी थे

उनकी रची मेरी कहानी, भारत की कहानी, विश्व इतिहास की झलक व पिता के पुत्री के नाम पत्र आदि रचनाएं आज भी बहुत ज्यादा विश्व प्रसिद्ध है पंडित जवाहरलाल नेहरु छोटे बच्चों से बहुत प्यार करते थे इसलिए बच्चे उन्हें आदर तथा प्यार से चाचा नेहरू कहकर पुकारते थे

उनके जन्म को आज भी बाल दिवस के रुप में मनाया जाता है वह विश्व शांति का मसीहा 27 मई 1964 को हमारे बीच से उठ गया. देश-विदेश से विशेष प्रतिनिधि उनके अंतिम दर्शन के लिए आए थे 28 मई 1964 को उनका शरीर अग्नि को समर्पित कर दिया था उनकी वसीयत के अनुसार उनकी भस्म खेतों और गंगा नदी मैं बहा दिया गया था

पंडित जवाहर नेहरू ने भारत देश के लिए जो कुछ भी किया है उनके लिए हमारे शब्द बहुत ज्यादा छोटे होंगे. उन्होंने भारत को आजाद बनाने में एक बहुत ही कठिन और संघर्ष जीवन का सामना किया लेकिन अंत में भारत को उन्होंने स्वतंत्रता दिलाने में काफी ज्यादा मदद करी थी

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था पंडित जवाहरलाल नेहरु जी पर निबंध ( Jawaharlal Nehru Essay in hindi  ) हम उम्मीद करते हैं कि आज का यह हिंदी निबंध आपको पढ़कर पंडित जवाहरलाल नेहरू जी के जीवनी के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी

यदि आप लोगों को हमारा यह हिंदी निबंध पसंद आया हो तो कृपया करके इसे दूसरे बच्चों के साथ facebook WhatsApp Twitter और Google plus पर जरुर शेयर करें और ऐसे ही और भी ज्यादा हिंदी निबंध पढ़ने के लिए नियमित रूप से हमारे ब्लॉग पर आया करें धन्यवाद दोस्तों