ऊंट और सियार की कहानी – Camel and Jackal Story in Hindi



Camel and Jackal Story in Hindi – हेलो दोस्तों आज हम आप लोगों के साथ ऊंट और सियार की कहानी शेयर करने वाले हैं और इस कहानी को पढ़ने के बाद आपको एक बहुत ही अच्छी सीख मिलेगी जिसमें आप लोगों को पता चलेगा कि अच्छे लोगों के साथ अच्छा करना चाहिए और बुरे लोगों के साथ बुरा करना चाहिए यानी कि जैसे को तैसा.

हम आप लोगों से यह रिक्वेस्ट करेंगे कि इस कहानी को आप पूरा पढ़ें ताकि आपको यह कहानी अच्छे से समझ में आ जाए. तो चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम आज के इस स्टोरी की शुरुआत करते हैं.

पढ़े – ईश्वर जो करता है अच्छा ही करता है कहानी

ऊंट और सियार की कहानी

Camel and Jackal Story in Hindi

Camel and Jackal Story in Hindi

एक गांव में ऊंट और सियार रहते थे वे दोनों एक दूसरे के बहुत अच्छे मित्र थे. दोनों मिल जुलकर खेत में गन्ना खाते थे. प्यार बड़ा ही स्वार्थी चालाक और दुष्ट प्रकार का था.

ऊंट बहुत ही सीधा साधा था और बहुत ही अच्छा था. एक दिन सियार ने ऊंट से कहा- अरे पास के गांव में बहुत मीठे गन्ने उगे हुए हैं चलो चलते हैं और उसको खाते हैं. ऊंट ने कहा की गन्ने के खेत का मालिक पास में ही रहता है यदि उसने हम लोगों को देख लिया कि हम उनका गन्ना चुरा कर खा रहे हैं तब हमारी बहुत पिटाई होगी.

लेकिन सियार बहुत चालाक था उसने अपनी बातों से ऊंट को गन्ने खाने के लिए तैयार कर लिया और अपने साथ उसको गन्ने की खेत पर लेकर चला गया. गन्ना खाते-खाते सियार का पेट भर गया और सियार ने कहा कि मुझे हुक हुकी आ रही है.

ऊंट ने उससे कहा यदि तुम्हारी हुक हुकी की आवाज गन्ने के खेत का मालिक सुन लेगा तब वह हम दोनों को बहुत दंड देगा और खूब मारेगा. लेकिन सियार बड़ा दुष्ट था उसने जोर जोर की हुक हुकी करने लगा जिसकी आवाज सुनकर खेत का मालिक वहां पहुंच गया.

पढ़े – Patriotism story in hindi

सियार को झाड़ी में छुप गया लेकिन ऊंट की माली में डंडे से खूब पिटाई कर डाली. फिर सियार और ऊंट दोनों ही जल्दी-जल्दी खेत से भाग गए. सियार अपनी चालाकी से मार खाने से बच गया लेकिन ऊंट को बहुत पिटाई लगी.

यह बात ऊंट को बहुत ज्यादा खराब लगा क्योंकि उसके ना कहने पर भी सियार ने उसकी बात नहीं मानी जिसकी वजह से उसकी पिटाई होगी. ऊंट सियार से इस बात का बदला लेना चाह रहा था क्योंकि जैसा उसने उसके साथ किया वह उसके साथ भी वैसा ही करना चाह रहा था.

जब वह लोग खेत से भाग रहे थे तब रास्ते में एक नदी आ गई. ऊंट जो बहुत लंबा होता है तब वह आसानी से नदी पार कर सकता था लेकिन सियार यदि गहरे पानी में उतरता तब वह डूब कर मर जाता.

इसलिए सियार ने उनसे कहा कि कृपया करके मुझे अपनी पीठ पर बिठाकर नदी पार करा दो. ऊंट ने सियार की बात को मान ली और उसको अपने पीठ पर बिठाकर नदी पार करने लगे.

नदी के बीचो-बीच पहुंच कर ऊंट ने कहा कि मुझे लूट लुटी आ रही है. सियार बहुत ज्यादा डर गया और उसने कहा कि यदि तुम ऐसा करोगे तब मैं तो नदी में डूबकर मर जाऊंगा. लेकिन ऊंट ने भी प्यार की बात को नहीं माना और वह नदी के बीच में जाकर लोटने लगा.

जिसकी वजह से सियार पानी में डूब गया और वह दम घुटने की वजह से मर गया.

शिक्षा – दोस्तों इस कहानी से हम लोगों को यह शिक्षा मिलती है कि दुष्ट के साथ दुष्टता का व्यवहार करना चाहिए. यानी कि जैसे को तैसा.

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह आउट और सियार की कहानी ( Camel and Jackal Story in Hindi ) हम उम्मीद करते हैं कि आज की हिंदी स्टोरी पढ़कर आपको बहुत अच्छा लगा होगा यदि आप लोगों को हमारी है ऊंट सियार की कहानी पसंद आई हो तो कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ और घर परिवार वालों के साथ जरुर शेयर करें और ऐसे ही अन्य रोमांचक कहानी और आर्टिकल पढ़ने के लिए नियमित रूप से हमारे ब्लॉग पर आया करे.