प्यासा कौवा की कहानी – Thirsty Crow Story in Hindi with Moral



Thirsty Crow Story in Hindi with Moral – नमस्कार भाइयों और बहनों आज आपके साथ जो हम कहानी शेयर करने वाले हैं उसका नाम है प्यासा कौवा की कहानी. और यह कहानी हम बचपन से किताबों में पढ़ते आ रहे हैं और बहुत ही ज्यादा लोकप्रिय है

हम चाहते हैं कि आप इस कहानी को पूरे अंत तक पढ़ें ताकि आपको इस्टोरी से क्या सीख मिलती है इसके बारे में आप जान पाओगे. यह कहानी एक ऐसे कौवे की है जिसको बहुत ज्यादा प्यास लगी रहती है और वह बहुत ज्यादा प्यासा रहता है

इस कहानी में आप देखेंगे कि कैसे एक प्यासे कौवे ने अपनी प्यास को बुझाई और कैसे उसने अपने दिमाग का इस्तेमाल किया. चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए आज के इस मनोरंजक और बेहद सीख देने वाली स्टोरी की शुरुआत करते हैं

पढ़े – चालक लोमड़ी की कहानी

Thirsty Crow Story in Hindi with Moral

प्यासा कौवा की कहानी Story

Thirsty Crow Story in Hindi with Moral

एक बार एक प्यासा कौवा पानी की तलाश में इधर-उधर बहुत देर से भटक रहा था उसको बहुत जोर की प्यास लगी थी. वह कौवा बहुत देर से पानी की तलाश में इधर उधर उड़ रहा था और धूप भी बहुत ज्यादा तेज थी जिसकी वजह से उसकी प्यास और भी ज्यादा बढ़ गई थी

और उसको तुरंत पानी पीने की आवश्यकता महसूस होने लगी वरना उसको यह लग रहा था कि अगर मुझ को पानी नहीं मिलेगा तो मैं मर जाऊंगा

यही सोचकर प्यासा कौवा इधर उधर पानी की तलाश में भटक रहा था और सोच रहा था कि कहीं उसको थोड़ा सा पानी पीने को मिल जाए तो उसकी प्यास बुझ जाएगी. लेकिन कुछ प्यासे कौवे को पानी कहीं भी मिल नहीं रहा था

लेकिन बहुत देर तक पानी की तलाश में भटकते हुए प्यासे कौवे को दूर एक पानी का घड़ा दिखाई दिया. कौवा बहुत तेजी से उड़कर कुछ पानी के घड़े के ऊपर जाकर बैठ गया और पानी के घड़े में झांकने लगा

पढ़े – नकलची बंदर की कहानी

किस्मत से उस घड़े में पानी तो था लेकिन पानी बहुत ज्यादा नीचे था और कौवे की चोंच वहां तक पहुंच नहीं पा रही थी जिसकी वजह से वह पानी पी नहीं सकता था और अपनी प्यास को बुझा नहीं सकता था

यह देखकर कौवा बहुत ही ज्यादा परेशान हो गया और वह यहां वहां देखने लगा कि शायद कोई और पानी का घड़ा मिल जाए जिसमें ज्यादा पानी हो और वह अपनी प्यास को बुझा सके

लेकिन बुरी किस्मत वहां पर उस घड़े के इलावा कोई और घड़ा नहीं था जिससे कि वह पानी पी सके. कौवा बहुत ज्यादा हताश हो गया कि अब मैं क्या करूं घड़े में पानी दो लेकिन मेरी सोच वहां तक पहुंच नहीं पाएगी अब मैं क्या करूं

कौवा परेशान होकर फिर से पानी की तलाश में कहीं और जाने की फिराक में था लेकिन अचानक उसकी नजर कुछ ही दूर पर मकान बनाने के लिए पड़े हुए कंकड़-पत्थर पर गई

कंकड़ पत्थर को देखकर कौवे के दिमाग में एक आइडिया आया वह तुरंत ही कंकड़ पत्थर की तरफ गया और अपनी चोंच की मदद से एक एक पत्थर उठाकर पानी के घड़े में डालना शुरू कर दिया

कुछ ही देर मेहनत करने से और पानी के घड़े में पत्थर डालने से पानी का स्तर ऊपर बढ़ गया और यह देखकर कौवा बहुत ही खुश हो गया. उसके बाद कौवे ने जी भर कर पानी पिया और अपनी प्यास को पूरी तरीके से बुझा लिया

पानी पीने के बाद कौवे को बहुत आराम मिला और वह वहीं पर थोड़ी देर एक पेड़ पर उसने आराम किया और फिर उसके बाद भोजन की तलाश में वहां से खुशी-खुशी उड़ गया

पढ़े – भेड़िया आया की कहानी

इस कहानी से दोस्तों आपको क्या सीख मिलती है

Moral of this Story

दोस्तों प्यासे कौवे की कहानी सुनकर हम लोगों को यह सीख मिलती है कि हमको कभी भी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए. हमको बुरे परिस्थितियों में भी उनका हल निकालने के बारे में सोचना चाहिए

अपनी कोशिश जरूर करनी चाहिए और आप लोगों को तो पता ही है कि कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती और मेहनत करने वालों को उसका फल जरूर मिलता है

और ठीक यही इस कहानी में प्यासे कौवे ने किया जब उसको लगा की वहां पानी में अपनी चौच डालकर पानी नहीं पी सकता है क्योंकि पानी का स्तर बहुत ज्यादा नीचे था

पढ़े – सोने की कुल्हाड़ी की स्टोरी

तब उसने अपना दिमाग लगाया और कंकड़ पत्थर की मदद से पानी के स्तर को ऊपर ले कर आया और उसके बाद कौवे ने अपनी प्यास बुझा ली

इसलिए यदि आप कभी अपने जीवन में किसी ऐसी परिस्थिति में फंस जाए जहां पर आपको लगता है कि यह काम मैं नहीं कर सकता हूं तो आपको उस काम को पूरा करने के लिए दूसरा रास्ता चुनना चाहिए और सलूशन निकालने की कोशिश करना चाहिए हाथ में हाथ धरकर और हार मान कर कभी भी बैठना नहीं चाहिए

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था प्यासे कौवे की कहानी ( Thirsty Crow Story in Hindi with Moral ) हम उम्मीद करते हैं कि आज की इस स्टोरी को पढ़कर आपको बहुत बढ़िया सीखनी ही होगी

यदि आपको हमारी यह स्टोरी पसंद आई हो तो कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ और घर परिवार वालों के साथ Facebook WhatsApp Twitter और Google plus पर जरूर शेयर करें और हमारे इस ब्लॉग पर आते रहें ताकि आपको और भी रोमांचक पोस्ट और कहानी पढ़ने को मिले धन्यवाद दोस्तों

पढ़े – चतुर लोमड़ी और कौआ की कहानी