बाल दिवस पर भाषण | Children’s Day Speech in Hindi

Children’s Day Speech in Hindi: नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख के हम आपके साथ बाल दिवस पर भाषण शेयर करने वाले है जिसको पढ़कर आपको बहुत अच्छा लगेगा. भारत में 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है.

भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरु जी की वजह से चिल्ड्रेन डे मनाया जाता है क्यूंकि उनको बच्चो से बहुत प्रेम था. तो फिर चलिए दोस्तों बिना कोई वक़्त बर्बाद करते हुए सीधे इस पोस्ट को स्टार्ट करते है.

1. बाल दिवस पर हिंदी भाषण
(children’s day speech in hindi)

childrens day speech in hindi

सुप्रभात!

आदरणीय शिक्षकगण और प्रधानाचार्य महोदय को मेरा सादर प्रणाम.. जैसा कि आप सभी जानते हैं आज बाल दिवस है.. बाल दिवस के मौके पर मैं आपके समक्ष कुछ वयक्त करना चाहता/चाहती हूं अगर कोई ग़लती हो तो मुझे क्षमा करे।

मेरे प्यारे दोस्तो बाल दिवस स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन के उपलक्ष में 14 नवंबर को मनाया जाता है… पंडित जी बच्चों से बहुत प्यार करते थे इनका जन्म 14 नवंबर 1889 को इलाहाबाद में हुआ.. इसे नेहरू जयंती कहे या बाल दिवस यह उन्हीं की याद में मनाया जाता है।।

पंडित जी का बच्चों से बहुत अधिक स्नहे हुआ करता था और बच्चे उन्हें प्यार से चाचा जी कहकर बुलाते… पंडित जी बच्चों से अत्यधिक प्रेम करते थे यही कारण है कि नेहरू जी का जन्म दिवस बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है।।

बच्चे मन के प्यारे और सच्चे होते हैं.. बच्चे ही इस राष्ट्र को नीव है और उनके प्रति सबका लगाव और स्नेह भी इस बात को प्रमाण है.. पंडित जी ने हमेशा बच्चों की शिक्षा पर ध्यान दिया है और उनको आगे बढ़ने कि लिए प्रेरित किया है..हमे भी पंडित जी के पद चिन्हों पर आगे बढ़ते हुए उन्हीं के मार्ग का अनुसरण करना चाहिए।।

बाल दिवस हर वर्ष 14 नवम्बर को प्रत्येक स्कूल और विद्यालय में मनाया जाता है.. इस दिन सभी बच्चों मै खुशी का माहौल होता है और विद्यालयों मै बाल मेले का आयोजन होता है…सभी बच्चे आंनद के साथ इस दिन को मनाते है.. इसी के साथ मै अपना स्थान ग्रहण करता हूं।।

आप सब ने मुझे इतने प्यार से सुना उसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

2. बाल दिवस पर प्रेरणादायक भाषण
(Children’s day motivational speech)

आप सभी को प्रातः काल का नमस्कार!

मंच पर बैठे हुए सम्मानित शिक्षकगण और मुख्य अतिथि महोदय को मेरा सादर प्रणाम.. प्रधानाचार्य जी को दिल से अभिनंदन करते हुए मैं अपने भाषण की शुरुआत करता हूं
जैसा कि आप सभी जानते हैं हम आज यहां बाल दिवस मनाने के लिए इकट्ठा हुए हैं..बाल दिवस हर वर्ष 14 नवंबर को मनाया जाता है। स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की जयंती को हम बाल दिवस के रुप में मनाते हैं।।

बच्चों के प्रति पंडित जी का स्नेह और लगाव अपार था इसीलिए बच्चे भी उन्हें चाचा नेहरू कहकर संबोधित करते थे और नहेरू जी उनके लिए नए उपहार लाते थे..इनका जन्म इल्हाबाद मै 14 नवंबर को 1889 मै हुआ था।। पंडित जी ने हमेशा बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य पर मुख्य रूप से ध्यान दिया था बच्चे हमारे देश का भविष्य है और उनको सही ज्ञान और वातावरण देना हमारी जिम्मेदारी बनती है।।

पर आज के आधुनिक दौर में क्या ये सब संभव है आजकल बच्चे खेलने कूदने की जगह मोबाइल मै गेम खेलते है इससे उनके मानसिक स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है…माता पिता को इस बात पर ध्यान देना चाहिए ताकि बच्चे एक सुदृढ भविष्य के पथ पर अग्रसर हो सके।।

बाल दिवस हमे बहुत सारी प्रेरणा देता है और सीख भी आज के दिन बच्चे बहुत खुश होते है ओर यही खुशी उनके लिए जरुरी है हर विद्यालय मै बाल दिवस मनाया जाता है और बाल विकास कार्यक्रमों को बढ़ावा दिया जाता है।।

अंत में कुछ पंक्तियों के साथ आपसे विदा लेने चाहूंगा
“बच्चे है देश का भविष्य इनका मान करो
इनसे है होगी राष्ट्र की नींव मजबूत
इनको सुखी ओर स्वस्थ वातारण प्रदान करो”…।

आप सभी का बहुत बहुत आभार!

3. बाल दिवस पर बच्चों के लिए भाषण
(Children’s day speech for Children’s)

आप सभी को प्रात: काल का वंदन ओर मंच पर बैठे हुए सम्मानित शिक्षकगण और मुख्य अतिथि महोदय को मेरा सादर प्रणाम मै आज आप सब के समक्ष बाल दिवस पर कुछ विचार वयक्त करना चाहता हूं।।

बाल दिवस हर वर्ष 14 नवंबर को मनाया जाता है ये बच्चों का उत्सव होता है इस दिन हमारे विद्यालय के साथ सभी स्कूलों में बाल मेला का आयोजन होता है…जैसा कि आप सब जानते है बाल दिवस माननीय पंडित जवाहर लाल नेहरू की जयंती के दिन उनकी याद मै मनाया जाता है।।

पंडित नेहरू बच्चों से बहुत प्यार करते है इसलिए ये दिन उन्होंने बच्चों को समर्पित किया था उनका लगाव है था बच्चों से जो बच्चे भी उन्हें इटन प्रेम करते थे और उनको चाचाजी कहकर बुलाते थे… पंडित जी जब भी बच्चों से मिलने जाया करते थे वो उनके लिए उपहार ओर मिठाइयां के जाया करते थे और उनको कंधो पर बिठाकर सेर करवाते थे।।

इस दिन सभी स्कूल मै बहुत सारे बच्चे इक्कट्ठे होकर बाल मेला लगाते है जिसमे वो सभी तरह की दुकानें लगाते है हर तरफ हर्ष ओर उल्लास का वातावरण होता है।। ओर सभी बच्चे भाईचारे के साथ मिलकर इस दिन को मनाते है।।

इसी के साथ मै अपना स्थान ग्रहण करता हूं और आपका बहुत बहुत आभार व्यक्त करता हूं जो आपने मुझे सुना।।

4. बाल दिवस पर छात्रों के लिए भाषण
( Children’s day speech for student)

गुड मॉर्निंग!

जैसा कि आप सब जानते हैं आज बाल दिवस है और हर वर्ष 14 नवंबर को इसे मनाया जाता है और इस उपलक्ष में आज मुझे बोलने का मौका मिला इसके लिए मैं सम्मानित टीचर्स और प्रधानाचार्य महोदय का आभार व्यक्त करता हूं और साथ ही उनको प्रणाम करता हूं।।

जैसा कि आप सभी को पूर्व ज्ञात, आज हम सब यहां बाल दिवस मनाने के लिए इकट्ठा हुए हैं बाल दिवस हर वर्ष स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की याद में मनाया जाता है वो बच्चों से अत्यधिक प्रेम करते थे इसी कारण यह दिवस नेहरू जयंती या बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है।।

बच्चे मन के सच्चे होते हैं हम इनको जैसा सिखाते हैं यह वैसा ही सीख जाते हैं बच्चों को शिक्षा स्कूल से मिलती है लेकिन उनको संस्कार का ज्ञान घर पर ही दिया जाता है.. एक सुदृढ़ भारत बनाने के लिए अति आवश्यक है कि हम बच्चों की नींव को मजबूत करें और राष्ट्र के प्रति योगदान की भावनाओं के मन में डालें।।

उनको अच्छा वातावरण दें पढ़ने के साथ-साथ अन्य गतिविधियों में उनका ध्यान केंद्रित करें और उनकी प्रति सकारात्मक सोच का आदान प्रदान करें… हर वर्ष दिवस आता है और भाई चारे के साथ साथ प्रेम और एकता का भी संदेश देता है यहां पर कोई बड़ा या छोटा नहीं होता सभी बच्चे एक समान होते हैं और उनके लिए प्यार भी सब के दिल में होता है…पंडित जवाहरलाल नेहरू ने जो भारत के बच्चों के लिए सपना देख रहा था उस सपने को पूरा करना अब हमारी जिम्मेदारी है और बच्चों को एक अच्छा भविष्य देना स्कूल के मार्गदर्शन में जरूरी होता है।।

अंत में दो लाइनों के साथ विदा लेना चाहता हूं
“बच्चों से होता है घर प्यारा संसार
यह होते हैं मन के सच्चे सब करते हैं इनको दुलार”

आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद!

5. बाल दिवस पर छोटा भाषण
(Short speech on children’s day)

सुप्रभात!

आप सभी को सर्वप्रथम बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और मंच पर बैठे हुए सभी सम्मानित अतिथि दोनों को मेरा सादर प्रणाम जैसा कि आप सब जानते हैं या 14 नवंबर का दिन है और इस दिन बाल दिवस मनाया जाता है जो भी पंडित जवाहरलाल नेहरू की याद में मनाया जाता है।।

पंडित जवाहरलाल नेहरू भारत के प्रथम प्रधानमंत्री थे उन्होंने भारत के विकास के लिए बहुत सारे कार्य में योगदान किया है… कहीं नहरे और जल परियोजनाओं के विकास के साथ भारत की समृद्धि के हिस्से में योगदान दिया है.. उनका बच्चों से अत्यधिक लगाव के कारण वो उनसे बहुत जल्दी घुल मिल जाते थे… पंडित जी ने भारत का अखंड सपना देखा था जिसके लिए वह बच्चों को अच्छी शिक्षा और अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रेरित करते थे।।

इस दिन सभी विद्यालयों में बाल दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है और साथ ही नेहरू जयंती भी मनाई जाती है और उनको श्रद्धा के फूल चढ़ाए जाते हैं बच्चों को शांति और अमन का संदेश दिया जाता है और पंडित जवाहरलाल नेहरू के बारे में बताया जाता है।।

पंडित जी के सपनों को साकार करने के लिए भारत आज राष्ट्रीय शिक्षा की उन्नति के पथ पर लगातार अग्रसर हो रहा है.. और बच्चों की नींव को मजबूत करने में शिक्षा का अहम योगदान होता है।।

बाल दिवस सभी देशों में अलग-अलग तिथियों को मनाया जाता है लेकिन भारत में 14 नवंबर को मनाया जाता है और इसी दिन बच्चों को अच्छी-अच्छी बातें और जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा दी जाती है।।

इसी के साथ में अपने शब्दों को विराम देता हूं आप सब ने मुझे इतनी प्यार से सुना उसके लिए आपका बहुत-बहुत शुक्रिया।।

आपकी और दोस्तों

तो दोस्तों ये था बाल दिवस पर भाषण, हम उम्मीद करते है की ये स्पीच आपको जरुर पसंद आये होंगे. यदि आपको हमारा ये चिल्ड्रेन्स डे स्पीच पसंद आई है तो पोस्ट को १ लाइक और शेयर जरुर करे. ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो इस स्पीच को पढ़ पाए, धन्येवाद दोस्तों|

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.