वर्षा ऋतु पर निबंध – Rainy Season Essay in Hindi



Rainy Season Essay in Hindi – नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में हम आपके साथ वर्षा ऋतु पर हिंदी निबंध शेयर करने वाले हैं जिस में हम आपको बताएंगे कि वर्षा ऋतु का हमारे जीवन पर और प्रकृति पर कितना ज्यादा योगदान प्रदान करती है.

ज्यादातर विद्यार्थियों को इम्तिहान में वर्षा ऋतु पर निबंध लिखने को कहा जाता है लेकिन वह लोग इसको सही ढंग से नहीं लिख पाते हैं इसलिए सभी विद्यार्थियों की मदद करने के लिए हम आज आपके साथ वर्षा ऋतु पर निबंध शेयर करने जा रहे हैं.

आप इस निबंध को किसी भी प्रकार से इस्तेमाल कर सकते हैं तो चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम आज के इस पूरी निबंध की शुरूआत करते हैं.

पढ़े – Importance of Games Essay in Hindi

वर्षा ऋतु पर निबंध

Rainy Season Essay in Hindi

वर्षा ऋतु का आगमन देसी महीने के हिसाब के सावन भादो मैं उस समय होता है जब ग्रीष्म ऋतु के कारण चारों ओर हाहाकार मच जाती है और सब प्राणी भगवान से वर्षा की मांग करने लगते हैं. ग्रीष्म का ताप सारी धरती के स्वरूप को झुलसा दिया करता है.

तब धरती प्रकृति और प्राणी जगत की प्यास तथा गर्मी को मिटाने के लिए एकाएक पुरवाई चलकर बादलों के आगमन की सूचना दी जाती है अर्थात वर्षा शुरू हो जाती है. वर्षा ऋतु का समय आषाढ़ मास आश्विन मास तक माना जाता है जिस कारण इसे चौमासा भी कहते हैं.

वर्षा ऋतु के आने पर आकाश में काले काले बादल छा जाते हैं शीतल वायु बहने लगती है बिजली चमकने लगती है फिर बादल बरसने लगते हैं. चारों ओर पानी ही पानी हो जाता है. छोटे-छोटे नदी-नाले आपे से बाहर हो जाते हैं.

बरसात के मौसम में रात के समय पर जुगनुओं की चमक दमक से रात को नजारा बहुत अच्छा दिखाई देता है. जंगल और बागों में मोर मस्त होकर नाचने लगते हैं.

पढ़े – नारी शिक्षा का महत्व

वर्षा का आगमन भारतीय किसानों के लिए किसी वरदान से कम महत्वपूर्ण नहीं होता है. भारतवर्ष एक कृषि प्रधान देश है और वर्षा का यहां विशेष महत्व होता है.

वर्षा से खेतों में हरियाली छा जाती है. धान ज्वार बाजरे और मक्का के लहलहाते खेत कृषको को नया जीवन प्रदान करते हैं. वर्षा प्रारंभ होने पर कि किसान अपने खेतों में हल चलाते हैं.

बरसात के मौसम की सुहावने मौसम में स्त्रियों का प्रसिद्ध त्यौहार तीज का त्यौहार आता है. इस त्यौहार के आने पर बागों में बड़े-बड़े पेड़ों पर झूले डाले जाते हैं. इन झूलो पर स्त्रिया झूलकर और गाना गाकर सावन मास का स्वागत करते हैं.

इस ऋतु में फलों के राजा आमों की बहार आ जाती है. छोटे-छोटे बच्चे छप छप करते हुए वर्षा के पानी में नहाते हैं और घूमते हुए दिखाई देते हैं.

वर्षा ऋतु में जहां एक तरफ सभी के मन में खुशी और प्रसन्नता की लहर दौड़ की देखी जाती है वहीं दूसरी तरफ हमें दुखों का भी सामना करना पड़ता है. चारों और मच्छरों की भरमार देखी जाती है जिससे जन जीवन की बर्बादी हो जाती है.

लेकिन यह ऋतु जल रूपी जीवन का दान करने के कारण और गर्मी की सपन बुझाने के कारण बहुत ज्यादा जरूरी है. इसके विषय में यह जो कहा है कि कि कहा है कि यदि बसंत ऋतु का राजा है तो वर्षा ऋतु की रानी है.

पढ़े – विज्ञान वरदान या अभिशाप है

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था वर्षा ऋतु पर निबंध हम उम्मीद करते हैं कि आज का यह आर्टिकल पढ़कर आपको वर्षा ऋतु पर निबंध लिखने में कोई भी प्रॉब्लम नहीं होगी.

यदि आप लोगों को हमारा यह हिंदी एस्से पसंद आया हो तो कृपया करके इसे दूसरे विद्यार्थियों के साथ और अपने दोस्तों के साथ Facebook WhatsApp Google और Twitter पर जरूर शेयर करें और ऐसे ही दूसरी हिंदी निबंध पढ़ने के लिए नियमित रूप से हमारे ब्लॉग पर आया करें धन्यवाद दोस्तों