UPI Full Form in Hindi | UPI का फुल फॉर्म क्या है

Upi Full Form in Hindi: दोस्तों हमारे आज के इस आर्टिकल में हम आपको ” यूपीआई के फुल फॉर्म” के बारे में जानकारी देने वाले हैं। अगर आप इंटरनेट पर यह सर्च करते रहते हैं कि, यूपीआई का फुल फॉर्म क्या होता है या फिर यूपीआई का मतलब क्या होता है, तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं, क्योंकि आज के इस आर्टिकल में आपको यूपीआई से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त होगी।

दोस्तों क्या आप जानते हैं कि यूपीआई क्या होता है और यूपीआई काम कैसे करता है। कुछ सालों पहले हमें पैसों के लेनदेन करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था क्योंकि तब बैंकिंग सिस्टम इतना एडवांस नहीं था, जितना कि आज हो गया है।

परंतु साल 2014 में जब हमारे भारत देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी बने, तब उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ कडक कदम उठाते हुए 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए,जिसे नोटबंदी का नाम दिया गया था। इसके पीछे यह उद्देश्य था कि जिन लोगों ने अवैध रूप से काला धन इकट्ठा किया है, उनके सभी काले धन बर्बाद हो जाएंगे।

क्योंकि उस समय हमारे देश में 500 और 1000 की नोट ही सबसे बड़ी नोट होती थी और इसीलिए जिन लोगों ने अवैध रूप से काला धन इकट्ठा किया था, उनमें से काफी लोगों को काफी भारी नुकसान हुआ था

परंतु जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने नोट बंदी का कानून लाया था, उसके बाद काले धन वाले तो परेशान हो गए, उसके साथ ही हमारे भारत देश की सामान्य जनता भी काफी परेशान हुई थी जिसके बाद मोदी जी ने हमारे भारत देश की जनता को कैशलेस लेनदेन का सुझाव दिया था।

कैशलेस लेनदेन का मतलब होता है कि अब हमें अपने हाथों से किसी को भी पैसे नहीं देने हैं, बल्कि हमें उन्हें ऑनलाइन पेमेंट करनी है।

हालाकी कैशलैस इकोनामी की तरफ बढ़ना इतना आसान नहीं है, परंतु हम कोशिश तो कर ही सकते हैं। आज के समय में इंटरनेट का कितना महत्व है, इस बात से हम सभी भलीभांति परिचित हैं।

परंतु फिर भी हमारे भारत देश में ऐसी कई जगह अभी भी है, जहां पर इंटरनेट की स्पीड बहुत ही कम है और कई लोग ऐसे भी हैं जिन्हें इंटरनेट के बारे में पता तो है, परंतु उसका इस्तेमाल कैसे करना है उसके बारे में नहीं जानते हैं।

तो ऐसे में हम युवा वर्ग का यह फर्ज बनता है कि हम उन लोगों को इंटरनेट का इस्तेमाल करना सिखाए और घर पर ही कैसे पैसे का लेन देन कर सकते हैं, इसके बारे में भी बताएं।

अब बात यह आती है कि, अगर हमें पैसे का लेन देन ऑनलाइन करना हो तो हम वह कैसे कर सकते हैं तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वर्तमान के समय में गूगल प्ले स्टोर पर ऐसे कई एप्लीकेशन मौजूद है जिसका इस्तेमाल करके हम ऑनलाइन मनी ट्रांसफर कर सकते हैं और इन एप्लीकेशन को चलाने के लिए हमें ज्यादा टेक्निकल आवश्यकता की भी जरूरत नहीं होती है।

क्योंकि इन सभी एप्लीकेशन का इंटरफ़ेस काफी आसान होता है। हम जिन एप्लीकेशन का इस्तेमाल करके ऑनलाइन फंड ट्रांसफर कर सकते हैं, उनमें प्रमुख एप्लीकेशन के तौर पर फोन पे,पेटीएम, मोबिक्विक और फ्रीचार्ज ऐसी एप्लीकेशन शामिल है।

आप में से बहुत से लोगों ने इनमें से किसी ना किसी एप्लीकेशन का इस्तेमाल पैसे ट्रांसफर करने के लिए किया ही होगा और ऐसे में आपके सामने कभी ना कभी यूपीआई का विकल्प आया ही होगा। यूपीआई का इस्तेमाल करके हम 24 घंटे कभी भी किसी को भी पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

अनुक्रम दिखाएँ

Upi Full Form in Hindi

UPI का फुल फॉर्म क्या है

UPI Full Form in Hindi

■ यूपीआई का फुल फॉर्म क्या होता है

सबसे पहले तो आइए जान लेते हैं कि यूपीआई का फुल फॉर्म क्या होता है। यूपीआई का फुल फॉर्म होता है “यूनिफाइड पेमेंट सर्विस” यह एक ऐसा तरीका है जिसकी मदद से हम अपने घर बैठे बैठे ही अपने स्मार्टफोन के माध्यम से अपने बैंक अकाउंट से किसी भी अन्य व्यक्ति के बैंक अकाउंट में तुरंत पैसे भेज सकते हैं।

इसके लिए हमें बस चार पांच स्टेप करने होते हैं। इन चार पांच स्टेप को करने के बाद आपने जिस व्यक्ति को पैसे भेजे होते हैं उसके खाते में पैसे सुरक्षित रूप से पहुंच जाते हैं।आमतौर पर यूपीआई पेमेंट करने के बाद सामने वाले व्यक्ति के अकाउंट में तुरंत पैसे पहुंच जाते हैं।

जैसे अगर आपने किसी व्यक्ति को पैसे भेजे तो वह सामने वाले व्यक्ति के अकाउंट में तुरंत दिखाने लगता है और इस प्रक्रिया को करने में 1 मिनट से भी कम का समय लगता है।

इसलिए वर्तमान के समय में यूपीआई का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर होने लगा है। इसके अलावा आप यूनिफाइड पेमेंट सर्विस का इस्तेमाल पैसे रिसीव करने के लिए भी कर सकते हैं।

यूपीआई का इस्तेमाल करके आप किसी भी तरह की पेमेंट कर सकते हैं।जैसे मान लीजिए अगर आपने ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट जैसे फ्लिपकार्ट, अमेजॉन या फिर किसी अन्य वेबसाइट से कोई सामान खरीदा और अगर आप उसकी पेमेंट ऑनलाइन करना चाहते हैं, तो आप उसकी पेमेंट यूपीआई के माध्यम से ऑनलाइन कर सकते हैं।

इसके अलावा अगर आपने बाजार में से कुछ खरीदारी की है, तो आप उसकी पेमेंट करने के लिए यूपीआई का इस्तेमाल कर सकते हैं, साथ ही टैक्सी का भाड़ा,किसी पिक्चर की टिकट के पैसे,एयरलाइन की टिकट के पैसे, मोबाइल रिचार्ज, डीटीएच रिचार्ज, सभी पेमेंट यूपीआई के माध्यम से कर सकते हैं

और यह बिल्कुल तेजी से होता है, साथ ही इससे पेमेंट करना बिल्कुल सुरक्षित माना जाता है। हालांकि आमतौर पर कभी-कभी यूपीआई से पेमेंट करने के बाद पेमेंट ना तो सामने वाले व्यक्ति के बैंक अकाउंट में पहुंचती है और आपके अकाउंट से कट भी जाती है।

ऐसी अवस्था में चार से 5 दिन के अंदर पेमेंट या तो सामने वाले व्यक्ति के बैंक अकाउंट में पहुंच जाती है या फिर आपके बैंक अकाउंट में वापस आ जाती है, इसीलिए इसमें ज्यादा चिंता करने की कोई भी बात नहीं होती है।

■ यूपीआई को शुरू करने की पहल

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यूपीआई को शुरू करने की पहल एनपीसीआई के द्वारा हुई थी। एनपीसीआई का पूरा नाम है “नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया” यह संस्था हमारे इंडिया में लगे हुए सभी एटीएम को मैनेज करने का काम करती है और उनके इंटर बैंक ट्रांजैक्शन को भी मैनेज करती है।

उदाहरण के स्वरूप अगर मान लीजिए आपके पास बैंक ऑफ बड़ौदा का डेबिट कार्ड है, तो आप बैंक ऑफ बड़ौदा के डेबिट कार्ड से आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं,ठीक इसी तरह आप यूपीआई का इस्तेमाल करके किसी भी बैंक से किसी भी बैंक में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं, इन सभी पेमेंट की निगरानी एनपीसीआई करती है।

■ यूनिफाइड पेमेंट सर्विस का इस्तेमाल कैसे करें

अगर आप यूपीआई का इस्तेमाल करके ऑनलाइन पैसों का लेनदेन करना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे पहले आपको अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन में इसकी एप्लीकेशन को डाउनलोड करना होगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बहुत सारी बैंकों के अपने खुद के एप्लीकेशन मौजूद है, जिसमें यूपीआई का ऑप्शन होता है जैसे कि आंध्र बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, एक्सिस बैंक,आईसीआईसीआई बैंक इत्यादि।

हालांकि वर्तमान के समय में लोग बैंकों की ऑफिशियल एप्लीकेशन को इस्तेमाल करने की जगह गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद अन्य कंपनी की पेमेंट ट्रांसफर एप्लीकेशन का इस्तेमाल करते हैं।खास तौर पर लोग गूगल पे ,फोन पे,पेटीएम जैसी एप्लीकेशन का इस्तेमाल पैसे ट्रांसफर करने के लिए करते हैं।

जब आप बैंक की एप्लीकेशन या फिर अन्य किसी थर्ड पार्टी की एप्लीकेशन अपने फोन में इंस्टॉल कर ले, तब उसे ओपन करें फिर वहां पर आप अपना वह फोन नंबर इंटर करें जिस फोन नंबर को आपने अपने बैंक अकाउंट में दिया हुआ है।

फोन नंबर इंटर करने के बाद आप डन बटन पर क्लिक करें, इसके बाद ऑटोमेटिक एक एसएमएस के द्वारा आपका नंबर वेरीफाई हो जाएगा।उसके बाद आप अपनी बैंक की डिटेल भरकर अपना अकाउंट बना लें, जिसके बाद आपको एक वर्चुअल आईडी मिल जाएगी और आप वहां पर अपनी आईडी जनरेट कर ले।

वह आईडी आपकी आधार कार्ड का नंबर हो सकता है या फिर आपका फोन नंबर हो सकता है। उदाहरण के स्वरूप [email protected]) बस इतना कर लेने के बाद आपका काम वहीँ पर ख़तम हो गया।आपका UPI में account बन जाने के बाद आसानी से पैसे भेज भी सकते हैं और पैसे ले भी सकते हैं।

■ UPI काम कैसे करता है

यूपीआई आइएमपीएस यानी कि इमीडिएट पेमेंट सर्विस सिस्टम पर आधारित होता है। इसका इस्तेमाल हम दूसरे बाकी नेट बैंकिंग एप्लीकेशन को मोबाइल पर इस्तेमाल करते वक्त करते हैं। यूपीआई की सर्विस का इस्तेमाल हम हर वक्त हर दिन कर सकते हैं।

फिर उस दिन चाहे किसी भी बैंक में हॉलीडे हो या फिर ना हो या फिर चाहे देश में कोई भी छुट्टी हो, हम यूपीआई का इस्तेमाल करके पैसे भेज सकते हैं परंतु यहां पर सवाल यह उठता है कि अगर यूपीआई और बाकी सभी तरह के नेट बैंकिंग एप्लीकेशन एक ही तरह के काम करते हैं तो इस में डिफरेंस क्या है, आइए हम आपको इसे उदाहरण सहित समझाते हैं।

मान लीजिए कि आपके किसी दोस्त या फिर आपके किसी रिश्तेदार को पैसे की सख्त आवश्यकता है और आपको उन्हें जल्दी से जल्दी पैसे भेजने हैं तो आप पहले वाले एप्लीकेशन में क्या करते थे, आप सबसे पहले उस एप्लीकेशन को खोलते थे और फिर उसमें अपना अकाउंट लॉगिन करते थे

फिर जिस व्यक्ति को पैसे भेजने हैं उस व्यक्ति के बैंक अकाउंट की डिटेल को ऐड करते थे और उसके बाद उसे पैसे भेजते थे और इतना करने में आपका कम से कम 5 मिनट का समय जाता ही था, हालांकि कई बार जब सरवर नहीं होता है, तो अधिक समय लग जाता है।

वही यूपीआई इससे थोड़ा डिफरेंट काम करता है।यूपीआई का इस्तेमाल करके आप किसी भी व्यक्ति को तुरंत ही पैसे भेज सकते हैं।

यूपीआई के द्वारा पैसे भेजने के लिए आपको सिर्फ उस व्यक्ति की वर्चुअल आईडी
इंटर करनी होती है और वर्चुअल आईडी इंटर करने के बाद आपको कितने पैसे भेजने हैं वह डालने होते हैं और उसके बाद अपना यूपीआई ट्रांजैक्शन पिन इंटर करके आप सामने वाले व्यक्ति को पैसे भेज सकते हैं।

इस तरह इसमें ना तो कोई बैंक अकाउंट को जोड़ने की आवश्यकता होती है ना ही इसमें ज्यादा समय लगता है, साथ ही सामने वाले व्यक्ति को यह बताने की आवश्यकता भी नहीं होती है कि उसका बैंक अकाउंट किस बैंक में है।

क्योंकि यूपीआई ऑटोमेटिक उसके अकाउंट का नाम पता लगा लेती है, साथ ही आपको यूपीआई के माध्यम से पैसे भेजने के कारण किसी भी बैंक का आईएफएससी कोड भी याद करने की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि यह सब काम यूपीआई खुद ही कर लेती है।

■ यूपीआई से पैसे भेजने की लिमिट

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यूपीआई से आप जितना चाहे मर्जी उतना पैसा नहीं भेज सकते हैं बल्कि इसमें एक लिमिट भी होती है पैसे भेजने की। यूपीआई में पर ट्रांजैक्शन आप ₹100000 भेज सकते हैं।

इसके अलावा ज्यादा रुपए भेजने के लिए आपसे कुछ चार्ज लिए जाते हैं। जो पर ट्रांजैक्शन 50 पैसे के आसपास होते हैं। जो कि बहुत ही कम है, इसलिए बहुत से लोग चार्ज की परवाह किए बिना पैसे भेजते हैं।

■ यूपीआई इनेबल बैंक की लिस्ट

  • State Bank of India
  • Kotak Mahindra Bank
  • ICICI Bank
  • HDFC
  • Andhra Bank
  • Axis Bank
  • Bank of Maharashtra
  • Canara Bank
  • Catholic Syrian Bank
  • DCB
  • Federal Bank
  • Karnataka Bank KBL
  • Punjab National Bank
  • South Indian Bank
  • United Bank of India
  • UCO Bank
  • Union Bank of India
  • Vijaya Bank
  • OBC
  • TJSB
  • IDBI Bank
  • RBL Bank
  • Yes Bank
  • IDFC
  • Standard Chartered Bank
  • Allahabad Bank
  • HSBC
  • Bank of Baroda
  • IndusInd

■ यूनिफाइड पेमेंट इंटरफ़ेस से जुड़े अन्य सवाल

1. UPI क्या है

यूपीआई को हम यूनिफाइड पेमेंट इंटरफ़ेस के नाम से जानते हैं और यह एक रियल टाइम फंड ट्रांसफर की प्रोसेस होती है, जिसे नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के द्वारा बनाया गया है।यूपीआई के द्वारा हम आइएमपीएस का इस्तेमाल करके किसी भी व्यक्ति को तुरंत पैसे भेज सकते हैं या फिर पैसे रिसीव कर सकते हैं। यूपीआई का सिस्टम आइएमपीएस इंटरफ़ेस पर काम करता है।

2. कौन सी यूपीआई एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिए सही है

गूगल प्ले स्टोर में ऐसी बहुत सी एप्लीकेशन है जो यूपीआई को सपोर्ट करते हैं। आप अपनी सुविधा के अनुसार और अपनी पसंद के अनुसार किसी भी एप्लीकेशन को डाउनलोड कर सकते हैं। हालांकि हमारे इंडिया में थर्ड पार्टी एप्लीकेशन के तहत लोग फोन पे, पेटीएम और गूगल पे जैसी एप्लीकेशन का इस्तेमाल करते हैं।

3. क्या यह आवश्यक है कि उपयोगकर्ता अपनी ही बैंक का यूपीआई ऐप डाउनलोड करें

नहीं यूजर कोई भी यूपीआई एप्लीकेशन को डाउनलोड कर सकता है और उसका इस्तेमाल कर सकता है। इसमें इस बात का कोई भी फर्क नहीं पड़ता है कि आपकी बैंक कौन सी है या फिर आप जिसे पैसे भेजना चाहते हैं, उसकी बैंक कौन सी है।

4. UPI PIN क्या होता है

यूपीआई एक ऐसा पिन होता है, जिसे रजिस्ट्रेशन की प्रोसेस के दरमियान सेट किया जाता है और इसका इस्तेमाल सारे यूपीआई ट्रांजैक्शन को ऑथराइज करने के लिए होता है।

5. अगर किसी user का UPI transaction करने के दोरान पैसे debit हो जाते हैं उसके bank account से तब ऐसे में उसे क्या करना चाहिए

ऐसी अवस्था में सामान्य तौर पर यूजर के अकाउंट में पैसे 1 घंटे के अंदर लौट आते हैं और अगर ऐसा नहीं होता है, तो उसे अपने कस्टमर केयर से अवश्य बात करनी चाहिए। हालांकि कभी-कभी हॉलिडे के कारण भी पैसे वापस आने में देरी हो जाती है।

6. कई बार पैसे अकाउंट से कट जाने के कारण ट्रांजैक्शन पेंडिंग दिखाता है तो ऐसे में क्या करना चाहिए

यह इसलिए दिखाता है क्योंकि आपने जिसे पैसे भेजे हैं, उसके अकाउंट में सर्वर का इश्यू होता है और ऐसी अवस्था में अगर यह इश्यू 24 घंटे में हल नहीं होता है, तब आपको अपनी बैंक के कस्टमर केयर से या फिर आप जिस यूपीआई एप का इस्तेमाल कर रहे हैं उसके कस्टमर केयर से संपर्क करना चाहिए।

7. क्या यह मुमकिन है कि हम एक ही स्मार्ट फोन में अलग-अलग यूपीआई एप्लीकेशन का इस्तेमाल कर सकते हैं

जी यह हो सकता है। आप एक ही स्मार्ट फोन में अलग-अलग यूपीआई एप्लीकेशन का इस्तेमाल कर सकते हैं।

8. ऐसे कौन से प्लेटफार्म कौन है जहां पर हम यूपीआई का इस्तेमाल कर सकते हैं

आप एंड्रॉयड और आईओएस डिवाइस पर यूपीआई एप्लीकेशन का इस्तेमाल कर सकते हैं।

9. अधिक से अधिक हम कितने पैसे यूपीआई से ट्रांसफर कर सकते हैं

आप अधिक से अधिक पर ट्रांजैक्शन ₹100000 यूपीआई से ट्रांसफर कर सकते हैं।

10. अगर मुझे कभी कोई कंप्लेंट करनी हो तो मैं कैसे करूंगा

अगर आपको कभी कोई कंप्लेंट करनी हो तो यह कंप्लेंट आप यूपीआई एप्लीकेशन में ही कर सकते हैं। इसके लिए सभी एप्लीकेशन मे एक विकल्प दिया गया होता है।

11. अगर कभी किसी ने गलत UPI PIN enter कर दिया तब इसका परिणाम क्या होगा?

अगर कोई यूजर गलती से गलत यूपीआई ट्रांजैक्शन पिन इंटर कर देता है, तो उसका ट्रांजैक्शन फेल हो जाता है और उसे दोबारा से ट्रांजैक्शन करनी होती है।

12. अगर UPI app के द्वारा किसी user का bank name detect न हो तब ऐसे में क्या करना चाहिए

सबसे पहले तो यह देखना चाहिए कि यूजर का मोबाइल नंबर बैंक अकाउंट के साथ लिंक है या नहीं और अगर ऐसा नहीं है तो कभी भी एप्लीकेशन आपके बैंक को रिकॉग्नाइज नहीं करेगा और आपकी लिंकिंग प्रोसेस भी कंप्लीट नहीं होगी।

13. क्या दुसरे merchants को UPI के द्वारा payment दिया जा सकता है

जी हां आप यूपीआई का इस्तेमाल करके ऑनलाइन इकोमरस को पेमेंट दे सकते हैं, क्योंकि सभी ई-कॉमर्स वेबसाइट पर यूपीआई पेमेंट का विकल्प मौजूद होता है।

14. कैसे आप UPI online में pay कर सकते हैं

सबसे पहले आपको मर्चेंट साइड पर जाना होगा, उसके बाद यूपीआई विकल्प को पसंद करना होगा।उसके बाद अपनी वर्चुअल पेमेंट आईडी को इंटर करना होगा और उसके बाद यूपीआई पिन को एंटर करना होगा। ऐसा करने पर पेमेंट हो जाएगी।

15.क्या यूपीआई से छुट्टी के दिनों में भी पैसे भेज सकते हैं

जी हां यूपीआई छुट्टी से कोई भी लेना देना नहीं है। आप यूपीआई के माध्यम से 24 घंटे कभी भी पैसे भेज सकते हैं, फिर चाहे वह छुट्टी का दिन ही क्यों ना हो।

आपकी और दोस्तों

तो दोस्तों ये था UPI का फुल फॉर्म क्या है, हम उम्मीद करते है की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद upi pin का फुल फॉर्म के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी|

अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगी है तो पोस्ट को १ लाइक जरुर करे और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे| धन्येवाद दोस्तों

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.