शिक्षक दिवस पर निबंध – Teachers Day Essay in Hindi



Teachers Day Essay in Hindi – हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप लोग आज हम आपके साथ शिक्षक दिवस पर निबंध शेयर करने वाले है क्यूंकि हमसे बहुत विधार्थियों ने कहा की इस टॉपिक पर हमको निबंध लिखने को बहुत बार कहा जाता है और हमको लिखने में थोड़ी प्रॉब्लम होती है.

तो हमने सोचा की स्टूडेंट्स की हेल्प करनी चाहिए और इसीलिए हम आज आपके साथ teachers day essay in hindi में शेयर करने जा रहे है ताकि आप सही को इस टॉपिक पर निबंध लिखने में कोई भी प्रॉब्लम ना हो.

दोस्तों शिक्षक हमारे लाइफ में बहुत ही जरुरी रोल निभाते है, जब हम छोटे होते है एक तो माता पिता हमको अच्छी चीजे सिखाते है और दुसरे होते है हमारे teachers. जैसे हम लोग अपने माता पिता को भगवन का रूप देते है वैसे ही टीचर भी हमारे लिए किसी भगवन से कम नहीं होते है.

तो चलिए दोस्तों ज्यादा वक़्त बर्बाद ना करते हुए हम आज के इस आर्टिकल की शुरुवात करते है.

पढ़े – महाशिवरात्रि पर निबंध

शिक्षक दिवस पर निबंध

Teachers Day Essay in Hindi

शिक्षक अथवा अध्यापक वह व्यक्ति होता है. जो दूसरों को पढ़ा लिखा कर शिक्षा देने का काम करता है. भारत देश सदेव से गुरुओ व शिक्षकों का देश रहा है. इस देश में शिक्षकों अध्यापकों का गुरुओं का मान सम्मान हमेशा से बहुत अधिक रहा है जो आजकल ना के बराबर है.

आजकल भारत में भी संसार के अन्य देशों के समान शिक्षा का लेना देना एक प्रकार का व्यवसाय बन रह गया है. यह स्थिति कोई बढ़ई के लायक तो नहीं है. शिक्षा के महत्व को समझा जाए, शिक्षक भी शिक्षा देने को व्यवस्थाएं न मानकर उसे एक पवित्र कार्य या कर्तव्य समझे शिक्षा का खोया सम्मान उसे फिर से प्राप्त हो जाए या उसे यह सम्मान दिलाया जा सके यही भावना रही है

शिक्षा दिवस को मनाने के पीछे. शिक्षा दिवस मनाने का संबंध जोड़ा गया देश के राष्ट्रपति रहे महामहीम सर्वपल्ली डॉक्टर राधाकृष्ण के जन्मदिवस के साथ. अथार्थ तभी से यह दिवस प्रतिवर्ष 5 सितम्बर को मनाया जाने लगा. इसके पीछे कारण था उनका आदर्श अध्यापक्त्व .

वे अपने जीवन में एक कुशल शिक्षक भी रहे थे. शिक्षा दिवस के दिन सभी विद्यालयों में सभाए होती है. बच्चों को अध्यापकों के मान सम्मान से संबंधित प्रेरणा दी जाती है. कई विद्यालयों में तो इस दिन विद्यार्थियों को भी अध्यापन का कार्य सौंपा जाता है.

ताकि उन्हें अध्यापक के कार्य के महत्व का आभास हो सके. अध्यापकों के संग संगठन भी इस दिन को शिक्षकों के गौरव के अनुरूप, गौरव को स्थाई बनाए रखने के लिए विभिन्न विचारों का आदान प्रदान किया करते हैं.

पढ़े – Taj Mahal Essay in Hindi

कई बार प्रांतीय एवं राष्ट्रीय स्तर के सम्मेलन भी आयोजित किए जाते है. इस दिन प्रांतीय और राष्ट्रीय स्तर पर उच्च आदर्श स्थापित करने वाले अध्यापकों को पुरस्कृत भी किया जाता है. अब तो अध्यापकों के चुनाव में राजनीति का समावेश होने लगा है.

यह निंदा का विषय है. इस दिवस को मनाने का मूल उद्देश्य है कि राष्ट्र के निर्माता कहे या माने जाने वाले शिक्षक को उचित सम्मान दिया जाना. यदि हम सच्चे मन से, सादगी और राजनीतिक हट से इस दिवस को मनाएं तो हम भारत की परंपरागत गुरु शिष्य परंपरा को सब तरह से पुनर्जीवित कर सकते हैं.

आपकी ओर दोस्तों

तो दोस्तों ये था शिक्षक दिवस पर निबंध हम उम्मीद करते है की आज का ये लेख रीड करने करने के बाद आपको शिक्षक दिवस पर एस्से लिखने में कोई भी प्रॉब्लम नहीं आयेगी.

यदि आपको ये आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और व्हात्सप्प पर जरुर शेयर करे ताकि ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट्स लोगो की हेल्प हो पाए और उनको इस टॉपिक पर निबंध लिखने में किसी भी तरीके की प्रॉब्लम ना हो. धन्येवाद दोस्तों