शेर की खाल में गधा की कहानी – Donkey in the Lion’s Skin Story in Hindi



Donkey in the Lion’s Skin Story in Hindi – नमस्कार दोस्तों कैसे हो आप लोग आज हम आपके साथ और एक बहुत ही छोटी थी कहानी लेकर आए हैं जिसमें हम आपको एक गधे की कहानी बताएंगे और इस कहानी को पढ़ने के बाद आपको हम इस कहानी से आपको क्या सीखना चाहिए इसके बारे में भी बताने वाले हैं

इसलिए हम आपको यह रिक्वेस्ट करेंगे कि आप इस छोटी सी कहानी को अंत तक पढ़े ताकि आपको इस कहानी के बारे में पता चल पाए. दोस्तों हम लोग इस ब्लॉग पर ज्यादा से ज्यादा छोटे बच्चों के लिए कहानी लिखते हैं क्योंकि हम समझते हैं छोटे बच्चे भारत का भविष्य है और यदि उनको बचपन में अच्छी सीख दी जाती है तब बड़े होकर उनकी सोच भी वैसी होती है

जब बच्चे छोटे होते हैं तब वह लोग बहुत जल्दी सब कुछ सीख जाते हैं और बचपन में जो माता पिता अपने बच्चों को सिखाते हैं वही आगे चलकर उनके दिमाग में रहता है. हम अपनी इस ब्लॉग पर कहानी से लिखते हैं क्योंकि बच्चे भी वेबसाइट का आनंद ले पाए और आप लोगों को तो पता ही होगा कि बच्चों को कहानी सुना कितना ज्यादा पसंद होता है और यदि कहानी के साथ-साथ इनको कोई अच्छी सीख मिलती है तो यह बहुत ही बढ़िया है तो चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम आज शेर की खाल में गधा की कहानी की शुरुआत करते हैं

पढ़े – Monkey and Two Cats Story in Hindi

शेर की खाल में गधा की कहानी हिंदी में

Donkey in the Lion’s Skin Story in Hindi

Sher Ki Khaal Me Ghadha ki Kahani

किसी गांव में एक गधा रहा करता था. उसका मालिक उसको बहुत ज्यादा परेशान करता था और उससे भारी भारी हुआ वजन लादकर उसे बहुत काम करवाता था

इस बात को लेकर गधा बहुत ज्यादा परेशान रहता था क्योंकि उसका मालिक उस को कभी भी आराम करने को नहीं देता था. गधे के मन में हमेशा यह बात आती थी कि वह अपने मालिक को छोड़कर जंगल भाग जाए और वहां पर फिर वह आराम से अपने मनमुताबिक जी पाएगा और उसको खाने पीने के लिए भी मालिक की इजाजत नहीं लेनी पड़ेगी क्योंकि जंगल में पेड़ पौधों की कमी नहीं होती है

लेकिन उसका मालिक गधे को रस्सी से बांधकर रखा था, गधे ने कई बार भागने की कोशिश करी थी लेकिन गधे का मालिक उसको मार मार कर फिर से रस्सी से बांधकर रख देता था और उसको खाने पीने के लिए भी कुछ नहीं देता था

एक दिन किसी कारणवश गधे का मालिक ने गधे को रस्सी से बांधना भूल गया और यही वह दिन था जिस दिन गधे ने सोचा कि आज जो मुझको मौका मिला है आज के बाद कभी नहीं मिलेगा और यही सही समय है कि मैं जंगल भाग सकता हूं

पढ़े – चिड़िया की कहानी

गधे ने तुरंत जंगल में भागने का निर्णय लिया और वह अपने मालिक को छोड़कर जंगल भाग गया. लेकिन आप लोगों को तो पता ही होगा कि गधे को कोई भी मान-सम्मान नहीं देता है और ठीक इसी तरीके से उसको भी कोई जंगल में मान सम्मान नहीं देता था

एक दिन गधा बहुत ज्यादा परेशान हो गया क्योंकि उसने अपने मालिक को भी छोड़ दिया था और वह जंगल बात कराया था लेकिन जंगल में भी उसको वह चैन सुकून नहीं मिल पा रहा था

यह दिल हो परेशान होकर जंगल में घूम रहा था तब अचानक से उसको शेर की खाल मिल गई और उसने अपना दिमाग लगाया कि मुझको गांव वाले भी मारते हैं और जंगल में भी कोई मुझसे डरता नहीं है तो क्यों ना मैं इस शेर की खाल पहन कर पूरे गांव और जंगल में घूमने ताकि सब लोग मुझको देखकर डर जाएं और मैं आराम से घूम कर सकता हूं और जंगल में भी कुछ भी खा पी सकता हूं और सब लोग और जानवर मुझ से डरेंगे

यही सोच कर गधे ने शेर की खाल को पहन लिया और उसके बाद वह जंगल में घूमने लगा जैसे ही वह गधे को कोई जानवर देखता या पशु पक्षी देखकर तो वह लोग उससे डर कर भाग जाते इस तरीके से गधे को जीने में बहुत मजा आने लगा क्योंकि वह आराम से जंगल में घूम सकता था और उसे सब प्राणी डरते थे

इसी तरीके से वह फिर गांव में भी घूमने लगा गांव में भी जब भी जाता तो वहां भी सब लोग उसको देखकर डर कर भाग जाते हैं

जंगल के बगल में एक खेत था और वहां पर गांव के बहुत सारे किसान काम करने के लिए रोज आया करते थे. क्योंकि उस गधे को पहले गांव वालों ने बहुत परेशान किया था तब गधा अपना बदला लेना चाहता था

पढ़े – लोमड़ी और शेर की कहानी

गधा शेर की खाल पहन कर हर रोज उन किसानों को डराता था और ऐसा करने से गधे को बहुत मन में शांति मिलती थी. वह सोचता था कि अब तो मुझसे जंगल वाले भी डरते हैं और गांव वाले भी डरते हैं.

और फिर वह गधा रोज शेर की खाल पहन कर किसानों को डराया करता था लेकिन एक दिन अचानक से जब वह किसानों को डराने के लिए गया तब वहां पर अचानक से बहुत तेजी से हवा चलने लगी

और उस हवा में गधे के ऊपर से शेर की खाल उड़ गई और उसके बाद किसानों ने देख लिया की शेर की खाल में गधा छुपा हुआ है. जोकि किसानों को उस गधे ने बहुत ज्यादा परेशान किया था शेर की खाल पहन कर और उनका काम का बहुत नुकसान होता था क्योंकि जब कभी भी किसान काम करने के लिए आते थे तो शेर की खाल में गधा वहां पहुंच जाता था और उन किसानों को डरा कर भगा देता था

किसानों को शेर की खाल में गधे को देखकर बहुत गुस्सा आया और उन्होंने उस गधे को लाठी से पीट-पीट कर मार दिया

पढ़े – लोमड़ी की कहानी

यह कहानी से आप लोगों को क्या सीख मिलती है दोस्तों

Moral of this Hindi Story

शेर की खाल में गधे की कहानी को सुनकर हमको यह सीख मिलती है कि कभी भी आपको अपने मालिक को धोखा देकर भागना नहीं चाहिए और कभी भी दूसरे के कंधे पर रखकर गोली नहीं चलानी चाहिए

हमारा कहने का मतलब यह है कि कभी भी किसी दूसरे का आपको गलत इस्तेमाल नहीं करना चाहिए और आप जो है आपको उसी में खुश रहना चाहिए दूसरे की तरह बनने की कोशिश नहीं करना चाहिए

पढ़े – प्यासे कौवे की कहानी

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था शेर की खाल में गधे की कहानी ( Donkey in the Lion’s Skin Story in Hindi ) हम उम्मीद करते हैं कि आज की यह कहानी पढ़कर आपको बहुत मजा आया होगा और हम चाहते हैं कि आप की स्टोरी को अपने दोस्तों के साथ और घर परिवार वालों के साथ जरूर शेयर करें

आप इस हिंदी कहानी को facebook WhatsApp Twitter और Google plus पर शेयर कर सकते हैं ताकि सब लोगों को एक बहुत अच्छी सीख मिल पाए इस कहानी से धन्यवाद दोस्तों

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *