शेर और चूहे की कहानी – Lion and Mouse Story in Hindi with Moral



Lion and Mouse Story in Hindi with Moral – नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से आपका हमारे इस ब्लॉग पर स्वागत है और आज हम आपके सामने एक बहुत ही प्रसिद्ध बच्चों की कहानी शेयर करने जा रहे हैं और यह स्टोरी है शेर और चूहे की कहानी

आज की यह कहानी आप लोगों को बहुत ज्यादा पसंद आएगी क्योंकि इस कहानी में शेर और चूहे के बीच में क्या घटना घटी इसके बारे में यह कहानी है और इस कहानी से आपको क्या सीख मिलती है और शिक्षा मिलती है इसके बारे में भी आज के इस छोटी सी हिंदी स्टोरी मैं आपको बताने वाले हैं

इसलिए हम आपसे कहेंगे कि आप इस कहानी को पूरे अंत तक पढ़ना, ताकि आपको पता चल जाए कि आज के हमारी इस हिंदी स्टोरी को आप लोगों के साथ शेयर करने का मकसद क्या था और इससे आप लोगों को क्या सीख लेनी चाहिए

चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम आज की इस रोमांचक शेर और चूहे की कहानी की शुरुआत करते हैं

पढ़े – लालची कुत्ता की कहानी

शेर और चूहे की कहानी हिंदी में

Lion and Mouse Story in Hindi with Moral

Lion and Mouse Story in Hindi with Moral

एक दिन एक जंगल में शेर अपनी गुफा में आराम कर रहा था वह बड़े ही मज़े से सो रहा था. तभी अचानक से चूहे ने शेर को सोते हुए देख लिया और उसके दिमाग में थोड़ी मस्ती आ गई उसने सोचा शेर तो अभी मज़े से सो रहा है तो क्यों ना थोड़ा सा इस शेर के ऊपर चढ़ कर कूद लिया जाए

क्योंकि चूहे को यह लग रहा था उसका वजन तो बहुत ज्यादा कम है और यदि वह शेर के ऊपर कूदेगा कब शेर को कुछ भी पता नहीं चलेगा और चूहे का थोड़ा सा मनोरंजन हो जाएगा

इसी वजह से चूहा शेर के ऊपर चढ़ गया और कूदना शुरू कर दिया, चूहे को बहुत ज्यादा मजा आ रहा था लेकिन अचानक से शेर की आंख खुल गई और उसने देखा कि चूहा उसके ऊपर बड़े मजे से कूद रहा है

उसी समय शेर ने तुरंत ही चूहे को अपने पंजे में पकड़ लिया और कहा कि तुम मेरे ऊपर कूद रहे हो और मैं सो रहा था तुमने मेरी नींद खराब कर दी और अब मैं तुमको नहीं छोडूंगा और अब मैं तुमको खा जाऊंगा

पढ़े – Lion & Dog Story in Hindi

यह बात सुनकर चूहा बहुत ज्यादा डर गया उसको लगा कि अब तो यह शेर मुझ को खा जाएगा और मेरी मौत हो जाएगी वह पसीने से तरबतर हो गया. उसको लगा कि आज तो मेरी जिंदगी का आखरी दिन है और यह शेर मुझ को बिल्कुल भी नहीं जिंदा रहने देगा यह मुझ को खा जाएगा क्योंकि मैंने इसकी नींद खराब कर दी है

शेर ने जैसे ही अपना मुंह चूहे को खाने के लिए खोला उसी समय चूहे ने अपने दोनों हाथ जोड़कर शेर से कहा कि कृपया करके मुझे मत खाओ मुझको छोड़ दो मुझको जाने दो मैं आज के बाद ऐसी हरकत बिल्कुल भी नहीं करूंगा

और 1 दिन जरूरत पड़ने पर मैं तुम्हारी जरुर मदद करूंगा कृपया करके मुझको जाने दीजिए मुझको मत खाइए. यह बात सुनकर शेर ने सोचा कि इतना छोटा सा चूहा मेरी क्या मदद कर पाएगा लेकिन जिस तरीके से चूहा शेर से अपनी जिंदगी की भीख मांग रहा था शेर को उस छोटे से चूहे पर दया आ गई और उसने कहा कि अच्छा चलो मैं तुमको नहीं खाऊंगा मैं तुमको जाने देता हूं और शेर ने उस चूहे को जाने दिया

जाने से पहले चूहे ने शेर से कहा कि आपका यह एहसान मैं जिंदगी भर नहीं भूलूंगा और एक दिन मैं आपका यह एहसान जरूर पूरा कर दूंगा मैं आपका दिल से धंयवाद करता हूं और जिस दिन भी आपको मेरी मदद होगी उस दिन मैं आपकी जरुर मदद करूंगा

यह बात कहकर चूहा वहां से चला गया. बहुत दिन बीत गए थे एक दिन शेर को बहुत ज्यादा भूख लगी थी और वह शिकार करने के लिए जंगल में चला गया. शिकार करते समय अचानक से शेर एक जाल में फस गया जो कि वहां पर शिकारी ने शिकार पकड़ने के लिए लगाया हुआ था

शेर बहुत जोर का दहाड़ मारने लग गया और तभी वहां से वही छोटा सा चूहा जा रहा था उसको शेर की दहाड़ सुनाई दे दी वह तुरंत ही वहां पर पहुंच गया और उसने देखा कि शेर जाल में फंसा हुआ है

उसने ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए तुरंत ही अपने नुकीले दांत से जाल को काटना शुरु कर दिया और कुछ ही देर में उसने पूरे जाल को अपने दांतो से काट दिया था

उसके बाद शेर आजाद हो गया और उसने चूहे को बहुत-बहुत शुक्रिया का और चूहे ने कहा कि आपको याद है एक दिन आपने मुझको जाने दिया था और आपने मुझको नहीं खाया था और उस दिन मैंने आपसे कहा था कि जिस दिन जरूरत होगी मैं आपकी जरुर मदद करूंगा और आपका यह एहसान जरूर पूरा करूंगा

शेर को उस दिन की बात याद आ गई और उसने चूहे को दिल से शुक्रिया अदा करें और उसके बाद शेर और चूहे में बहुत गहरी दोस्ती हो गई

पढ़े – सोने का अंडा की कहानी

इस कहानी से आप लोगों को क्या सीख मिलती है दोस्तों

Moral of this Hindi Story

दोस्तों इस चूहे और शेर की कहानी से हमको यह सीख मिलती है कि हमको कभी भी किसी इंसान को या किसी को भी छोटा नहीं समझना चाहिए उसकी काबिलियत पर कभी भी शक नहीं करना चाहिए

क्योंकि इंसान की काबिलियत उसके कद काठी पर निर्भर नहीं होती है इसलिए हमको कभी भी किसी इंसान को छोटा नहीं समझना चाहिए

इस कहानी से हमको और एक सीख मिलती है कि हमको दूसरों की कभी भी मदद करना चाहिए और मुसीबत के समय में हमेशा अपने मित्रों की सहायता करनी चाहिए

इस दुनिया में ऐसे बहुत लोग हैं जो लोग सोचते हैं कि दूसरों का भला क्यों करें और दूसरों की मदद क्यों करें लेकिन वह लोग यह बात से अनजान रहते हैं कि यदि हम किसी की मदद करते हैं तो उसका फल हमको जरूर भगवान कभी ना कभी जीवन में देता है

इसलिए हमको कभी भी किसी की मदद करने से पीछे नहीं हटना चाहिए और हमेशा एक दूसरे की सहायता करना चाहिए क्योंकि यदि आप अच्छा काम करोगे तो आपको जरूर अच्छा फल मिलेगा आज नहीं तो कल मिलेगा लेकिन जरूर मिलेगा

पढ़े – Donkey Story in Hindi

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था शेर और चूहे की कहानी ( Lion and Mouse Story in Hindi with Moral ) हम उम्मीद करते हैं कि आज कि यह हिंदी स्टोरी पढ़कर आपको एक बहुत ही बढ़िया सीख मिली होगी कि हमको जीवन में कभी भी किसी को छोटा नहीं समझना चाहिए और कभी भी किसी की काबिलियत पर कभी भी शक नहीं करना चाहिए

यदि आप लोगों को हमारी यह हिंदी कहानी पसंद आई हो तो कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ और घर परिवार वालों के साथ Facebook WhatsApp Twitter और Google plus पर जरुर शेयर करें

ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को पता चल पाए कि हम को कभी भी किसी को छोटा नहीं समझना चाहिए और हमेशा एक दूसरे की मदद करनी चाहिए. हम आपसे यह भी रिक्वेस्ट करेंगे कि आप हमारे ब्लॉग पर नियमित रूप से आते रहें ताकि आपको और भी मजेदार और अच्छे पोस्ट पढ़ने को मिले धन्यवाद दोस्तों