रूठे पति को मनाने की शायरी

हेल्लो दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपके साथ रूठे पति को मनाने की शायरी शेयर करने वाले है जिसको पढ़कर आपके पति का गुस्सा एकदम शांत हो जायेगा.

दोस्तों ये सभी शायरी बहुत ही मस्त है जिसको आपको अपने हस्बैंड के साथ जरुर शेयर करना चाहिए. कई बार ऐसा होता है की पति छोटी छोटी बातों पर नाराज हो जाते है तो उनको मानना थोडा मुश्किल हो जाता है.

लेकिन ये सभी शायरी को पढ़कर आपके पति की नाराजगी दूर हो जाएगी और वो आपकी तरफ खिचे चले आयेंगे. तो फिर चलो सीधे पोस्ट को स्टार्ट करते है.

रूठे पति को मनाने की शायरी

pati-ko-manane-ki-shayari

1
हर बात पर नाराज हो जाते हो
हर बात पर रूठ जाते हो
कितना गुस्सा करते हो तुम
हर बार मुझे बड़ा सताते हो

2
तुम्हारी नाराजगी किस बात पर जाहिर हो जाए
कोई कह नहीं सकता हम
तुमसे कितना प्यार करते हैं कि
हम तुम्हारे बिना रह नहीं सकते
तुम अब इस तरह नाराज ना रहो हमसे
हम तुम्हारी नाराजगी बर्दाश्त कर नहीं सकते

3
जब भी तुम मुझसे नाराज हो जाते हो
मुझे कुछ अच्छा नहीं लगता
तुम्हारे बिना मेरा कौन है यहां
पर तुम्हें ऐसे नाराज़ देखकर
मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता

4
तुम जब रूठ जाते हो
तो भी अच्छा लगता है
तुम्हें मनाना भी अच्छा लगता है
तुम मुझसे नाराज ना रहा करो इस तरह
मुझे तुमसे दूर जाना
बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता है

5
तेरी नाराजगी अब इससे ज्यादा बर्दाश्त नहीं हो सकती
बहुत कर ली तुझे मनाने की कोशिश
इससे ज्यादा अब मै मना नहीं सकतीं
प्लीज़ मान जाओ ना मै तुम्हे रोता हुआ देख नहीं सकती

5
हर बार जब तुम मुझसे कहते हो मान जाओ
तो मै मान जाती हूं ना
तुम्हारे प्यार को अपनाकर में उस में खो जाती हूं ना
फिर तुम क्यों मुझसे नाराज बैठे हो इस तरह
देखो मैं तुम्हें मना रही हूं मैं भी तो मान जाती हूं ना

6
तुम्हारी खुशी के लिए मैंने क्या नहीं किया
तुम मेरी जान लगते हो मैंने तुम्हें हमेशा खुश किया
फिर आज तुम क्यों मुझसे नाराज हो इस कदर
आखिर मैंने तुम्हें ऐसा कौन सा दुख दिया

7
तुम जैसा कहोगे मैं वैसा करने के लिए तैयार हूं
मैं तुम्हारी हर बात मानने के लिए तैयार हूं
मैं तुम्हें आज से कभी तंग नहीं करूंगी
तुम जैसा कहोगे मैं वैसा रहने के लिए तैयार हूं

8
अब तुम इस तरह मुझसे नाराज बेठे ना रहो
मुझसे इस तरह तुम दूर ना रहो
तुम ही मेरे इस दिल की धड़कन हो
तुम मुझे से इस प्रकार दूर ना रहो

9
तुम्हारी नाराज तो नहीं बर्दाश्त कर नहीं सकती
तुमसे ज्यादा देर तक दूर ना रह नहीं सकती
तुम जानते हो मैं तो गुस्से में कुछ भी कह देती हूं
पर मैं तुम्हें दुख देने के बारे में कभी सोच नहीं सकती

10
तुम्हें दुख देने से मुझे भी कोई खुशी नहीं मिलती
मुझे तो तुम्हारे साथ रहने से खुशी मिलती है
तुम जब रहते हो उदास तुम्हें भी उदास ही होती हूं
मुझे तुम्हारे पास रहने से खुशी मिलती है

11
तुम्हारी खुशी को हरदम मैंने चाहा है
तुम्हारी खुशी कोई मैंने अपना सब कुछ माना है
तुम ही रहते हो मेरे आंखों में हमेशा
मैंने तुम्हें अपना खुदा माना है

12
तुम्हारे रूठने ओर मनाने की सिलसिले ऐसे ही चलते रहेंगे
मैं तुम्हें ऐसे ही प्यार करती रहूंगी
हम दोनों एक दूसरे से ऐसे ही मिलते रहेंगे
तुम बस मुझसे कभी भी दूर नहीं जाना
हम दोनों एक दूसरे के साथ ऐसे ही खुश रहे हैं

13
मैं तुम्हारी खुशी के लिए कुछ भी कर सकती हूं
मैं तुम्हारे लिए कहीं भी जा सकता हूं
तुम्हारी हर बात मानने के लिए तैयार हूं मैं
तुम मुझसे नाराज ना हो मैं तुम्हारे लिए हर चीज कर सकती हूं

14
तुम मुझसे नाराज ना रहा करो
तुम मुझसे दूर ना रहा करो
तुम ही मेरे दिल की धड़कन हो
तुम मुझसे इस कदर रुठा ना किया करो

15
तुम जब मुझसे रूठ जाते हो
तो फिर मुझे कुछ अच्छा नहीं लगता
तुम्हारे सिवा मेरा कौन है मुझे यहां पर
कोई भी सच्चा नहीं लगता
तुम ही मेरे पति परमेश्वर हो
मेरा तुम्हारे बिना कहीं मन नहीं लगता

16
मैं अपनी गलती की माफी मांगती हूं
मैं आज के बाद तुम्हारे कहने पर कुछ नहीं करूंगी
तुम जैसा कहोगी मैं वैसे ही रहूंगी
मुझसे हर गलती हो गई मुझे माफ कर दो
फिर मैं तुम्हें प्यार से गले भी लगाऊंगी

17
आज के बाद मैं तुम्हे कभी तंग नहीं करुंगी
आज के बाद मैं तुम्हें कभी परेशान नहीं करुंगी
मै तुमसे कभी दूर जाने की बात नहीं करुंगी
अब तुम मान जाओ ना
मै तुम्हारे सिवा किसी से प्यार नहीं करुंगी

18
देखो अगर तुम्हें मुझसे ऐसे ही नाराज है
तो फिर मैं तुमसे दूर चली जाऊंगी
फिर तुम मुझे मनाते रहना
पर मैं कभी वापस नहीं आऊंगी

19
तुम आज मुझसे नाराज बैठे हो
कल मैं भी तुमसे नाराज हो जाऊंगी
और तुम्हें छोड़ कर कर अपने मायके चली जाऊंगी
फिर सारे घर का काम तुम्हें ही करना पड़ेगा
और मैं फिर कभी वापस नहीं आऊंगी

20
मैंने तुम्हें मनाने की हर कोशिश कर ली है
अब मैं तुम्हें इससे ज्यादा मना नहीं सकती
अगर तुम अब भी नाराज रहे मुझसे
तो फिर मैं तुमसे हमेशा के लिए नाराज हो जाऊंगी
क्योंकि हम तुम्हे जान से ज्यादा प्यार करते है
ये मैं तुम्हें बता नहीं सकती।।

21
उसे बहुत प्यार करती हूं मैं तुम्हारे बिना रह नहीं सकती
मैं तुम्हारी जुदाई एक पल के लिए भी सह नहीं सकती
तुम मेरी जिंदगी का हिस्सा हो
मैं तुम्हारे बिना रहने के बारे में सोच भी नहीं सकती

22
तुम ही मेरी जिंदगी हो तुम ही मेरी जान रखते हो
तुम ही मेरा सब कुछ हो तुम ही मेरी पहचान रखते हो
तुम्हारे बिना तो मैं जीने के बारे में सोच भी नहीं सकती
तुम ही मुझे अपने दिल की धड़कन लगते हो

23
तुम बस इसी तरह से खुश रहना
तुम बस इसी तरह से मुझे कुछ करते रहना
मैं तुम्हें कभी भी नाराज नहीं करूंगी
तुम कभी भी दुखी मत होना
मैं तो तुम्हारी जान हूं ना
तुम मुझे कभी छोड़कर मत जाना
कभी इस तरह उदास मत होना

24
तेरे बिना कोई मेरा नायक नहीं
तेरे बिना कोई मेरा दुखदायक नहीं
मैं तो सिर्फ तेरी हूं तेरे अलावा मेरा कौन है
अगर तू नाराज रहेगा तो फिर मैं भी दुखी हो जाओ
फिर हमारा यह रिश्ता पता कैसे चलेगा तू कौन है मैं कौन हूं

25
चलो मैं तुमसे अपनी हर गलती की माफी मांगती हूं
मुझे माफ भी कर दो ना
इस तरह उदास ना रहो तुम मुझसे
तुम मुझे प्यार भी कर लो ना

26
मैंने तुम्हें मनाने की हर कोशिश कर ली
मैंने तुम्हें अपना प्यार दिखाने की हर कोशिश कर ली
मेरी हर कोशिश नाकाम हुई
और मैंने तुम्हें किसी भी मोहब्बत कर ली

27
मैं तुम से ऐसे ही मोहब्बत करता रहूंगा
मैं तुमसे ऐसे ही प्यार करता रहूंगा
तुम चाहे मुझसे जितना भी दूर जाने की कोशिश कर लेना
मैं तुम्हें हमेशा चाहता रहूंगा

28
मैंने तुम्हें हमेशा प्यार करने की कोशिश की है
मैंने तुम्हें हमेशा ख्वाबों में बसाने की कोशिश की है
तुम ही रहती हो मेरी जिंदगी में हमेशा याद बन कर
मैंने तुम्हें कभी भी दूर जाने की कोशिश नहीं की है

29
मैं तो सब कुछ सिर्फ तुम्हारे लिए ही करती हूं
मैं तो तुम्हारे नाम से भी मोहब्बत करती हूं
मेरी आंखो में देखना कभी तुम झांकर
मैं सिर्फ और सिर्फ तुमसे ही प्यार करती हूं

31
तेरे बिना मेरा इस दुनिया में कोई नहीं है
मैं सिर्फ तुमसे प्यार करती हूं
तेरे सिवा मेरा कोई नहीं है
तुझे ही मैंने देखा है हमेशा अपने ख्वाबों में
तुझसे ज्यादा मेरे लिए अजीज कोई नहीं है

32
तुम ही मेरे दिल में रहते हो
तुम्हें मुझसे नाराज रहते हो
इस तरह उदास क्यों रहते हो तुम मुझसे
तुम ही मुझसे इस तरह दूर दूर रहते हो
मैं फिर कहां जाऊंगी
जब मुझसे मेरे हमसफ़र ही खफा रहते हो

33
अब तुम अपना गुस्सा छोड़ भी दो ना
अभी नाराजगी का रिश्ता तोड़ भी दो ना
हम दोनों प्यार से रहेंगे ना अब
इस तरह रूठा ना किया करो
हम दोनों एक दूसरे को मना लेंगे ना अब

34
हमने तुमसे मोहब्बत दिखाती है
हमें तुमसे आशिकी दिखा दिया
तुम भी हमेशा मेरे पास रहना
मैंने तुम्हें अपना बना लिया है
और तुम्हें सब कुछ दिखा दिया है

36
तुम मुझसे ऐसे ही मोहब्बत करते रहना
तुम हमेशा मेरे ऐसे ही पास रहना
मैंने तुमसे प्यार किया है
तो तुम कभी भी उदास मत रहना
तुम मेरी जिंदगी में हमेशा याद बनकर रहना

37
तेरी मोहब्बत में ही मैंने जीना है
तेरी मोहब्बत में ही मैंने सब कुछ सीखा है
तू कभी भी इस तरह उदास मत हुआ कर
मैंने तो तुझसे ही अपना सब कुछ सीखा है

38
मैं तुझसे हमेशा प्यार करती रहूंगी
मैं तेरा ही इंतजार करती रहोगी
तो कभी भी दुखी मत होना मेरे से
मैं तुझे ऐसे ही मनाते रहूंगी

39
तू चाहे कितना भी दुखी हो जाए
मैं तुम्हें मना ही लूंगी कभी
अपने से दूर जाने नहीं दूंगी
तुम मुझसे कितना भी रूठ जाओ
तुम मुझे अपने से दूर कर नहीं सकते
मैं तुम्हें प्यार कर ही लुंगी अपनी बाहों में भर ही लूंगी

40
तुम्हारे प्यार को पाने के लिए मैंने क्या नहीं किया
मैंने हमेशा क्या तुम्हारा इंतजार नहीं किया
तुम ही रहे हो हमेशा मेरे ख्वाबों में
जो मैंने तुमसे कभी प्यार नहीं किया

41
तुम मेरी जिंदगी की एक हसीन याद बन चुके हो
तुम मेरी जीवन में इस कदर बस चुकी हो
मैं तुम्हें चाहा कभी भूल नहीं सकती
तुम इस तरह मुझे याद हो चुके हो
अब तो मान भी जाओ ना
मैं तुम्हारी कितनी तारीफ करूं
तुम मेरी जिंदगी बन चुके हो

42
तुम्हें ही मैं अपनी जिंदगी बना कर रखूंगी
तुम ही में अपने ख्वाबों में बसा कर रुखुंगी
तुम्हारे अलावा किसी और को सोचूंगी तक नहीं
मैं सिर्फ तुमसे और तुम से ही मोहब्बत करूंगी

43
माना कि मेरी गलती थी
वह मैं मान चुकी हूं
मैं तुम्हें अपना सबकुछ मान चुकी हूं
फिर तुम मुझसे क्यों आज नाराज करते हो
जब मैं तुम्हें अपना खुदा मान चुकी हूं

44
तुम मुझसे अब नाराज ना रहा करो ना
तुम मुझसे अब दूर ना रहा करो ना
तुम्हारी यह नाराज हो मुझसे बर्दाश्त नहीं होती
तुम मुझसे इस तरह उदास मत रहा करो ना

45
मैंने तुमसे प्यार किया है
मैंने तुमसे इजहार किया है
और मैंने तुम्हारा इंतजार किया है
क्यों नाराज रहते हो तुम मुझसे ए मेरी मोहब्बत
मैंने तुझे मनाने की हर मुमकिन कोशिश किया है

46
तेरी नाराज है मुझसे बर्दाश्त नहीं होती
तेरे अलावा मैंने किसी को चाहा नहीं है
और मुझे और किसी से चाहत नहीं होती
अगर तुम मुझसे ऐसे ही रूठे रहोगे
तो फिर मैं दुखी हो जाऊंगी
और तुम मुझे मना नहीं पाओगे
फिर मैं किसी की नहीं हो पाउंगी

47
तू मुझसे नाराज रहता है
तू मुझसे दूर रहता है
तू मेरा हमसफ़र नहीं है शायद
इसीलिए तो इस तरह उदास रहता है
मैं तुझसे कितना प्यार करती हूं
बता नहीं सकती
फिर भी तुम मुझसे खफा रहता है

48
हम दोनों ने साथ-साथ जो वादे किए थे
वह मैं निभा रही हूं
देखो मैं तुम्हें आज कितना मना रही हूं
तुम रूठ जाते हो मुझसे हर बार
और मैं तुम्हें अपना प्यार दिखा रही हूं

49
तुम मुझसे रूठ जाया ना किया करो ना
तुम मुझसे मोहब्बत नहीं झूठे वादे ना किया करो ना
तुमने तो कहा था मैं मान जाऊंगा हमेशा
जब रूठ जाऊंगा पर तुम तो इस कदर मुझसे नाराज बैठे हो और कहते हो कि मैं तुमसे दूर चला जाऊंगा

50
तुम मुझसे दूर कभी न जाना
तुम हमेशा मेरे पास ही रहना
मैं तुम्हारे बिना रह नहीं सकती
तुम कभी भी उदास मत रहना
तुम मेरी जिंदगी मेरी धड़कन हो
तुम मुझसे कभी भी खफा मत रहना

51
मैं तुम्हें हमेशा चाहा है
मैंने तुमसे हमेशा प्यार किया है
मेरे ख्वाबों में भी तुम्हारा इंतजार किया है
तुम ही रहते हैं हमेशा मेरे दिल में
मैंने तुम्हें अपना चाहा यह अपना बनाया है

52
तुम्हें अपना बनाने के लिए मैंने क्या नहीं किया
तुमसे मोहब्बत करने के लिए मेंने क्या नहीं किया
आज तुम ही रहते हो हमेशा मेरे दिल में
मैंने तुम्हें चाहने के अलावा और बताओ क्या-क्या नहीं किया

53
तुम्हें मैंने हमेशा चाहा है तुमसे मैंने हमेशा मोहब्बत की है
तुम्हारे अलावा मैंने किसी और से चाहत नहीं की है
तुम मुझसे रूठ जाते हो फिर भी मै तुम्हें मानती हैं
मैंने कभी भी तुमसे लड़ाई नहीं की है

54
मैं तुमसे हमेशा प्यार करती रहूंगी
मैं तुम्हारा इंतजार करती रहूंगी
तुम कितना भी रूठ जाओ
मैं तुम्हें मनाते रहूंगी
बस तुम कभी भी मुझसे दूर मत जाना
मैं तुम्हें ख्वाबों में हमेशा बसाती रहूंगी

55
तुम मेरी जान लगते हो तुम मुझे अपने लगते हो
तुम मेरे हमसफ़र हो
तुम मेरे मुझे अपनी जिंदगी के सितारे लगते हो
तुम्हारे बिना मेरा अस्तित्व नहीं है
तुम ही मुझे इस दुनिया में सबसे ज्यादा प्यार लगते हो

56
तुम मुझसे नाराज रहते हो
तो फिर मुझे कुछ पता नहीं है
मुझे नींद भी नहीं आती रोटी भी खाई नहीं जाती
तुम मुझसे जब नाराज रहते हो तो मैं उदास उदास सी रहती हूं फिर मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लगता है
अब मुझसे कुछ भी खाया नहीं जाता है

57
हम तुम्हारी नाराजगी के बारे में भी जानते हैं
हम तुम्हें अच्छे से पहचानते हैं
तुम आज क्यों बैठे हो हमसे नाराज इस कदर
जरा बताओ तो हम तुम्हारी नाराजगी का सबब जानते हैं

58
हमसे नाराज होने के बहाने तुम तैयार लेकर बैठे रहते हो
हम तुम्हें मना है तुम हमेशा यही चाहत लिए बैठे हो
ठीक है मैं तुम्हें मना लूंगी इस बार भी
क्योंकि मैं तुमसे प्यार करती हूं
अगर तुम मेरे दिल में अपने लिए मोहब्बत लिए बैठे हो

59
मैं तो तुमसे हमेशा प्यार करती थी और करती रहूंगी
मैं सिर्फ तुम्हें ही अपना मानती रहूंगी
तुम ही मेरी दिल की धड़कन हो
मैं सिर्फ तुमसे ही मोहब्बत करती रहूंगी

60
तुम्हारा प्यार पाने के लिए मैंने क्या-क्या नहीं किया
क्या मैंने तुम्हारा हर घड़ी इंतजार नहीं किया
तुम हमेशा ही मेरे ख्वाबों में रहे हो मेरी जान बनकर
क्या मैंने कभी भी तुमसे इश्क का इजहार नहीं किया

61
हां जो तुम मुझसे इस तरह उदास बैठे हो
आज तुम मुझसे जो इस कदर दूर बैठे हो
इस तरह मुझसे दूर मत रहो ना मेरी जान
तुम मुझसे आज तो नाराज बैठे हो
चलो मान भी जाओ और गले भी लग जाओ
तुम क्यों मुझसे इस तरह दूर दूर बैठे हैं

62
तुम्हारी नाराजगी मुझसे अब बर्दाश्त नहीं की जाती
अब मुझसे तुम्हारी यह बेवकूफी वाली
याद बर्दाश्त नहीं की जाती
तुम मुझे बहुत सजा दे चुके हो मेरी एक गलती की
अब इससे ज्यादा मुझसे बर्दाश्त नहीं की जाती

63
मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं
मैं हर घड़ी से तुम्हारा इंतजार करती हूं
तुमसे ही मोहब्बत है मुझे और तुमसे ही रहेगी
मैं तुमसे खुद से ज्यादा प्यार करती हूं

64
मैं तुमसे हमेशा इसी तरह प्यार करती रहूंगी
मैं तुम्हारा इसी तरह हमेशा इंतजार करती रहूंगी
कि तुम हमेशा मेरे बारे में यहीं आते रहना
मैं तुम से ऐसे ही हमेशा प्यार करती रहूंगी

65
तुमसे मोहब्बत करने के सिवा मुझे कुछ नहीं आता
मुझे तुम्हारे अलावा कुछ नहीं आता
तुम ही रहते हो हमेशा मेरे ख्वाबों में
मुझे तुमसे दूर जाना नहीं आता

66
मैं क्या करूं तुमसे दूर जा पाऊंगी
मैं क्या कभी तुमसे दूर है पाऊंगी
तुम मेरी जिंदगी का एक अनोखा हिस्सा बन चुके हो
हो मैं क्या कभी तुम्हें भुला पाऊंगी
तुम ही मेरी जिंदगी की याद हो मैं क्या करूं
तुमसे दूर जा नहीं पाऊंगी

67
तुम नाराज हो तो मैं मना लूंगी
पर यह दूर जाने की बातें ना किया करो
तुम मुझसे कितना भी नाराज रहो
मुझे मुझसे कभी दूर ना रहा करो
तुम्हारे बिना मैं रह नहीं सकती
तुम मुझसे इस तरह नाराज ना रहा करो

68
मैं तुम्हें कितना भी मनाने की कोशिश कर लूं
पर तुम मानने वाले नहीं हो
क्योंकि तुमने पहले से ही सोच लिया है
कि तुम मुझे परेशान करने वाले हो
ठीक है तुम आज अपने मन की कर लो
मैं तुम्हें मना लूंगी अब तुमने सोच लिया है
तो तुम मुझसे प्यार करने वाले नहीं हो

69
शायद तुम मुझसे कभी प्यार ही नहीं करते थे
इसीलिए आज ना मनाने पर भी मान नहीं रहे हो
ठीक है मैं तुम्हें मना रही हूं ऐसे ही
पर फिर मैं तुमसे कभी मोहब्बत नहीं करूंगी
अगर तुम मुझसे वापस माफी नहीं मांग रहे हो

80
ए मेरी जान तुम मुझसे क्यों नाराज रहता है
तू मुझसे आज क्यों इस तरह दूर दूर रहता है
आ जाओ ना मैं तुम्हें गले से लगाना चाहती हूं
तू आज यूं उदास क्यों रहता है

81
तेरी उदासी और तेरी चेहरे पर यह गम अच्छा नहीं लगता
तू तो मेरा जान है तेरे चेहरे पर यह दुःख अच्छा नहीं लगता
क्यों इस तरह मुंह फुला कर बैठे हो मान भी जाओ ना
तुम्हारे बिना मेरा दिल नहीं लगता

82
तुम जब नाराज होते हो तो
सच में बिल्कुल भी अच्छे नहीं लगते
तो फिर मुझे अपने नहीं लगते
तुम हमेशा मुझसे नाराज रहते हो तो
मैं भी तुमसे नाराज ही रहूंगी
तुम मुझे प्यारे नहीं लगते

83
चलो तुम्हारी नाराजगी बहुत हुई अभी
फालतू का नाटक छोड़ो और मान भी जाओ
वरना फिर मैं तुमसे दूर चली जाऊंगी
और तुम मुझे कभी देख नहीं पाओगे
और फिर तुम कभी मुझे अपने पास बुला नहीं पाओगे

84
तुम्हारी नाराज जी को मैं अच्छे से पहचानती हूं
तुम्हें क्या चाहिए मैं अच्छे से जानती हूं
पर तुम भी थोड़ा समझा करो ना
थोड़े दिन यह मोहब्बत बंद रखो ना
समय आने दो थोड़ा तो सब्र रखो ना

85
तुम मुझसे आज नाराज हो
मैं तुम्हारी नाराजगी का सबब जानती हूं
और मैं तुम्हें अच्छे से पहचानती हूं
चलो आ जाओ मैं तुम्हें गले से लगा लूंगी
अभी रूठना मनाना छोड़ दो चलो मेरे पास चले आओ
अब मुझसे तुम नाराज होना छोड़ दो

86
जरा कमरे में तो आना मुझे तुमसे कुछ बात करनी है
तुम जो मुझसे नाराज बैठे हो उसकी मुझे कीमत अदा करनी है तुम हमेशा मेरे पास रहना मेरी जान बनकर
मुझे तुमसे आज मोहब्बत करनी है

87
तुम्हारी नाराजगी को मैं एक पल में दूर कर सकती हूं
मैं तुम्हें अभी के अभी मना सकती हूं
पर मैं तुम्हें अभी मनाना नहीं चाहती हूं
क्योंकि मैं तुम्हें थोड़ा सा और सताना चाहती हूं

88
छोटी-छोटी बातों में गुस्सा दिलाते हो
छोटी-छोटी बातों में नाराज हो जाते हो
ऐसे कैसे चलेगा हमारा यह रिश्ता
तुम हर बार तो मुझसे रूठ जाते हो

89
तुम मुझसे हमेशा रूठते ही रहते हो
शायद तुम मुझसे कभी प्यार नहीं करते हो
तो हमेशा ही मुझ से नाराजगी जताते हो
मुझसे कभी मोहब्बत नहीं करते हो

90
तुम मुझसे क्यों इस तरह नाराज रहते हो
कि तुम मुझसे सदा दूर दूर रहते हो
तुम जो कहते हो मैं करती हूं ना
तो हमेशा फिर तुम क्यों मेरे पास नहीं आते हो

91
मैंने तो हमेशा सिर्फ और सिर्फ तुमसे ही प्यार किया है ना
फिर तुम मुझसे क्यों दूर बैठे हो जानू
मैंने तो तुम्हें हमेशा मानया है ना
अब चलो पास आ जाओ
मैं तुम्हें किस्सी कर दूंगी
मैंने तुमसे हमेशा प्यार किया है ना

92
देखो मैं तुमसे आखिरी बार कह रही हो
तुम अब मान जाओ वरना फिर मैं तुम्हें छोड़ कर चली जाऊंगी फिर तुम बैठे रहना और मेरी राह देखते रहना
मैं कभी नहीं आऊंगी

93
मेरे बाबू मेरे सोना मुझसे इस तरह नाराज मत होना
मैं तुम्हें कितना प्यार करती हूं प्लीज अब तो मान जाओ ना
मैंने गलती की है मैं माफी मांग रही हूं देखो
अब तुम मेरे पास वापस आ जाओ ना

94
मैंने तो तुमसे मेरी हर गलती की माफी मांग ली है
अब तुम मुझे माफ भी कर दो ना
मैं तुमसे कितना प्यार करते हैं
चलो तुम भी मुझसे प्यार कर लो ना
चलो हम दोनों कमरे में चलते हैं मस्ती करेंगे
तुम वापस से मुझसे बात कर लो ना

95
तुम अब मुझसे दूर मत रहो ना
तुम अब मुझसे बात करो ना
बाबू अब मान भी जाओ
तुम अब लड़ाई मत करो ना

96
मैने तो तुम्हें अपनी हर बात बताई है
मै गुस्सा हो जाती हूं
तुम मत रूठा करो मुझसे
क्युकी फिर मै तुम्हे मानाने नहीं आती हूं

97
तुम मुझसे रूठ जाते हो
तुम मुझसे बात नहीं करते हो
तुम मेरे पास नहीं आते
तुम मुझसे दूर क्यों रहते हो

98
देखो मै तुम्हें कितने प्यार से मना रही हूं
अब तुम मान भी जाओ ना
अपनी जिद छोड़ दो
मेरे पास आ जाओ ना

99
आज तुम्हारी सारी शिकायत दूर कर दूंगी
मै तुमसे आज बहुत प्यार करूंगी
तुम अब ये नाराज होना बंद कर दो
मै तुमसे फिर बहुत सारी बाते करुंगी

100
देखो अब मै तुम्हे मना रही हूं
तो तुम मान नहीं रहे हो
मुझे सता रहे हो
और खुद कितना खुश हो रहे हो।।

Final Words:

तो दोस्तों ये थे रूठे पति को मनाने की शायरी, हम उम्मीद करते है की आपको ये सभी शायरी बहुत पसंद आई होगी. दोस्तों यदि आपका हस्बैंड आपसे नाराज हो गया है तो उनके साथ ये शायरी को जरुर शेयर करे और फिर देखना उनका गुस्सा कैसे दूर हो जाता है.

इसके अलावा आप अपनी शायरी भी हमारे साथ शेयर कर सकते है और हम आपके शायरी को इस पोस्ट में जरुर शामिल करेंगे धन्येवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X