प्री वर्कआउट क्या होता है | Pre Workout Meaning in Hindi

नमस्कार दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपके प्री वर्कआउट क्या होता है इसके बारे में डिटेल में बात करेंगे और आपको इस पोस्ट को पढ़ने के बाद कोई और दूसरे पोस्ट को पढ़ने की जरुरत नहीं होगी।

अक्सर आपने जिम जाने वालों के मुँह से प्री वर्कआउट शब्द बहुत सुना होगा और आप सोचते होने की आखिर इस प्री वर्कआउट का मतलब क्या होता है.

यदि आपको प्री वर्कआउट के बारे में पूरी जानकारी चाहिए तब एक बार इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें. तो फिर चलिए दोस्तों बिना कोई समय बर्बाद करते होगे सीधे इस पोस्ट की शुरुआत करते हैं.

प्री वर्कआउट क्या होता है?

Pre-Workout Meaning in Hindi

pre workout hindi

दोस्तों प्री वर्कआउट का मतलब जिम जाने से पहले आप जो कुछ भी एक्टिविटी या फूड इनटेक करते हो उसको प्री वर्कआउट कहा जाता है.

अब ये दो टाइप के होते है प्री वर्कआउट सप्लीमेंट और  प्री वर्कआउट मील. चलिए इन दोनों को अब थोड़ा देख लेते है की इसका क्या मतलब होता है.

प्री वर्कआउट मील क्या होता है?

प्री वर्कआउट मील वो मील होती है जो की आप जिम जाने से पहले लेते हो इसको आप १ घंटे पहले लेते हो ताकि आपका भोजन अच्छे से डाइजेस्ट हो जाये।

प्री वर्कआउट मील को लेने से आपके बॉडी में एनर्जी और ताकत मिलती है जो की आपको कसरत करने में पावर देती है.

लेकिन हमने कुछ लोगो को देखा है को वो प्री वर्कआउट मील के नाम पर पूरा पेट भर लेते है जिसकी वजह से उनको जिम करने में प्रॉब्लम होती है।

जिम जाने से पहले आपको हल्का डाइट लेना चाहिए ताकि आपको एक्सरसाइज करने में भारी भारी फील ना हो।  बेशक आप जिम से आने के बाद भर पेट हाई प्रोटीन डाइट ले सकते हो।

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट क्या होता है?

जब लोग प्री वर्कआउट के बारे में बात करते हैं तब उनमें से ज्यादातर लोगों का प्री वर्कआउट सप्लीमेंट लेने के बारे में बात होती है.

प्री वर्कआउट कब लेना चाहिए?

प्री वर्कआउट आप जिम जाने के 10 या 20 मिनट पहले ले सकते हो. क्योंकि इसको आपकी बॉडी में absorb होने में इतना टाइम लगता है.

बड़े-बड़े सप्लीमेंट ब्रांड भी यही सलाह देते हैं कि आपको वर्कआउट करने से 10 या 20 मिनट पहले प्री वर्कआउट सप्लीमेंट लेना चाहिए तभी आपको बेस्ट रिजल्ट मिलता है.

कुछ लोग जिम में पहुंचने के बाद प्री वर्कआउट सप्लीमेंट लेते हैं लेकिन उनको इस बात का पता नहीं होता कि प्री वर्कआउट को आपकी बॉडी में एक्टिवेट होने में कम से कम 10 या 15 मिनट का टाइम लगता है.

और कुछ लोग एक घंटा पहले प्री वर्कआउट सप्लीमेंट लेकर बैठ जाते हैं यह भी सही तरीका नहीं है. क्योंकि 1 घंटे तक इसका असर कम होने लगता है जिसकी वजह से आपको वर्कआउट करते समय इसका असर देखने को नहीं मिलेगा.

इसलिए आप हमेशा 15 से 20 मिनट पहले प्री वर्कआउट सप्लीमेंट ले लिया करें इससे आपको जबरदस्त फायदा देखने को मिलेगा.

प्री वर्कआउट कैसे लेना चाहिए?

अब आपको पता चल गया है कि प्री वर्कआउट आपको कितने समय पहले लेना चाहिए चलिए अब जान लेते हैं कि इसको किसके साथ लेना चाहिए ताकि आपको बढ़िया रिजल्ट मिले.

दोस्तों प्री वर्कआउट को हमेशा आप को पानी के साथ लेना चाहिए क्योंकि यह पानी के साथ बहुत अच्छे से मिक्स हो जाता है जिसकी वजह से यह आपकी बॉडी में अच्छी तरह घुल मिल जाती है.

कभी भी इसको जूस या नींबू पानी के साथ नहीं लेना चाहिए. फिटनेस एक्सपर्ट का मानना है कि पानी के साथ लेने से इसका बहुत अच्छा रिजल्ट देखने को मिलता है.

प्री वर्कआउट के फायदे?

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट लेने के फायदे अनेक है जैसे कि:

1. पावर देना

दोस्तों प्री वर्कआउट लेने का सबसे बड़ा फायदा आपको यह मिलेगा कि इसको लेने के बाद आपको वर्कआउट करने में बहुत ज्यादा मजा आएगा.

आपका वजन उठाने की कैपेसिटी बढ़ जाएगी और आप हेवी वेट से एक्सरसाइज कर सकते हो. बहुत लोगों की यह शिकायत होती है कि उनसे हैवी वेट लगता नहीं है जिसकी वजह से उनके मसल्स बनते नहीं है.

अगर आप भी भारी वजन से एक्सरसाइज नहीं कर पाते हो तब आपको पूरी वर्कआउट जरूर लेना चाहिए क्योंकि यह आप की ताकत और पावर को बढ़ा देता है जिसकी वजह से आप हैवी एक्सरसाइज कर पाते हैं.

2. अधिक सेट लगा पाते हैं

हमने बहुत लोगों को देखा है जो केवल एक या दो सेट मारने के बाद उनकी हालत खराब हो जाती है उनका स्टैमिना बहुत कम होता है.

मसल्स बनाने के लिए आपको कम से कम 3 या 4 सेट करना चाहिए तभी आप अपने टारगेटेड मसल्स को अच्छे से ट्रेन कर पाते हो.

प्री वर्कआउट लेने से आपको थकान महसूस नहीं होगी जिसकी वजह से आप ज्यादा से ज्यादा वर्कआउट सेट लगा सकते हो.

3. फोकस बढ़ाता है

दोस्तों बॉडी बिल्डिंग में माइंड और मसल कनेक्शन बहुत ज्यादा जरूरी होता है. जब तक आपका माइंड और मसल कनेक्ट नहीं होता तब तक आप अपने मसल्स को अच्छे से टारगेट नहीं कर पाते हैं जिसकी वजह से उनकी ग्रोथ नहीं होती और उनका साइज नहीं बढ़ता.

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट लेने से आपका वर्कआउट करने की फोकस बढ़ जाती है जिसकी वजह से आप बहुत ही बढ़िया तरीके से अपने सेट को कंप्लीट कर पाते हैं और आपका माइंड और मसल कनेक्शन बहुत बढ़िया बनता है.

4. आलस दूर करती है

दोस्तों पर्सनली हमने यह महसूस किया है कि जिम जाने से पहले हमको बहुत आलस महसूस होता है जिसकी वजह से हम एक दिन जिम जाते हैं और उसके अगले दिन घर पर बैठे रहते हैं.

लेकिन जैसे हम 15 या 20 मिनट पहले प्री वर्कआउट सप्लीमेंट लेते हैं तब हमारा आलस्य पूरी तरीके से दूर हो जाता है और हमारा बॉडी एक्टिव हो जाता है.

5. बॉडी गर्म करती है

आज के समय में लोग कसरत शुरू करने से पहले warm up एक्सरसाइज नहीं करते हैं. जिसकी वजह से उनको इंजरी होने का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है.

कोई भी एक्सरसाइज करने से पहले आपको हल्के वजन से warm up जरूर करना चाहिए. प्री वर्कआउट लेने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इससे आपकी बॉडी वार्म अप हो जाती है.

जब आप पहले दिल प्रे वकआउट सप्लीमेंट लेकर जिम जाओगे तब अपने आप ही आपको शरीर में एक गर्माहट महसूस होगी जिसकी वजह से आपको एक्सरसाइज कर देना और ज्यादा जूस आएगा.

प्री वर्कआउट के नुकसान?

1. आदत लगना

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट के हमने आपको लगभग सभी फायदे और बेनिफिट बता दिए हैं चलिए अब थोड़ा इसके नुकसान के बारे में बात कर लेते हैं.

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट को आपको रेगुलर नहीं लेना चाहिए क्योंकि इसकी आदत पड़ जाती है. और अगर किसी दिन आपने इसे नहीं लिया अब आपको एक्सरसाइज करने का बिल्कुल भी मन नहीं करेगा.

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट को आपको केवल उसी दिन लेना है जिस दिन आपको बहुत ज्यादा हैवी एक्सरसाइज करनी होती है और रोज इसको बिल्कुल भी नहीं लेना चाहिए.

2. रात को नींद आने में परेशानी

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट को आप सोने से 8 घंटे पहले लेना चाहिए क्योंकि इसमें कैफीन की मात्रा बहुत ज्यादा होती है जिसकी वजह से बहुत सारे लोगों को रात को नींद आने में परेशानी होती है.

आजकल के सभी सप्लीमेंट कंपनी अपने प्री वर्कआउट सप्लीमेंट को स्ट्रांग बनाने के चक्कर में उसमें ज्यादा से ज्यादा कैफीन मिलाते हैं.

कैफ़ीन कॉफी में पाया जाता है और यह आपकी बॉडी को एक्टिव बना देती है. लेकिन अगर आपने इसको सोने से कुछ ही घंटे पहले लिया है जैसे कि 7:00 या 8:00 बजे तब आपको अवश्य रात को सोने में प्रॉब्लम जरूर होगी.

जो लोग सुबह के समय पर एक्सरसाइज करते हैं उनको कोई प्रॉब्लम नहीं होती लेकिन जैसा कि हमने आपको पहले बताया कि इसकी आदत पड़ सकती है.

इसलिए इसको हमेशा नहीं लेना चाहिए केवल उसी दिन इसका उपयोग करना चाहिए जिस दिन आपको हेवी बॉडी एक्सरसाइज करनी है.

Related posts:

Post Workout Meaning in Hindi

Pre Workout Diet in Hindi

आपकी और दोस्तों:

हम उम्मीद करते हैं कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप सभी को प्री वर्कआउट क्या होता है इसके बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी.

अगर आपके मन में कोई भी सवाल है तब आप उसको हमारे साथ कमेंट में जरूर पूछें और हम आपको उसका जवाब जल्दी देने की कोशिश करेंगे.

आपको हमारा यह पोस्ट कैसा लगा इसके बारे में भी बताएं और अपने दोस्तों के साथ भी इसे जरूर शेयर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्री वर्कआउट के बारे में सही जानकारी मिल पाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X