PM या प्रधानमंत्री कैसे बने | PM बनने के लिए क्या करे

PM या प्रधानमंत्री कैसे बने: दुनिया के किसी भी देश को सही ढंग से चलाने के लिए सरकार का होना बहुत ही जरूरी होता है, क्योंकि सरकार ही किसी भी देश के संविधान के अनुसार उस देश में कानून व्यवस्था को लागू करती है और उसका अपने अधीनस्थ कर्मचारियों के द्वारा पालन करवाती है।

सरकार ही किसी भी देश को कैसे आगे बढ़ाना है, इसके लिए नीति और योजनाएं तैयार करती है और उसके अनुरूप काम करके अपने देश को आगे बढ़ाने का प्रयत्न करती है। सरकार चलाने के लिए अक्सर व्यक्तियों का चुनाव किसी ना किसी राजनीतिक पार्टी से ही होता है।

अगर हम भारत की बात करें तो हमारे भारत में ऐसी कई राजनीतिक पार्टियां हैं, जिनकी कई राज्यो में सरकार है, वहीं कई ऐसी क्षेत्रीय पार्टियां भी हैं, जो उनके स्टेट में एक मजबूत पार्टी का होल्ड रखती है।

हमारे भारत देश में दो ऐसी राजनीतिक पार्टियां हैं, जिनका इस समय पूरे देश के सबसे अधिक राज्यों पर कब्जा है, जिसमें पहली पार्टी है भारतीय जनता पार्टी और दूसरी राजनीतिक पार्टी है इंडियन नेशनल कांग्रेस, जिसे हिंदी में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस भी कहा जाता है।

यह दोनों पॉलिटिकल पार्टियां हमारे भारत देश की काफी पुरानी राजनीतिक पार्टियां है।इसमें से इंडियन नेशनल कांग्रेस का गठन आजादी के पहले ही हो गया था और भाजपा पार्टी का गठन भी आजादी के पहले या उसके आसपास हुआ था।

जहां पहले राजनीति सिर्फ जनता की सेवा करने के लिए और उनकी समस्याओं का समाधान करने के लिए होती थी, वहीं अब राजनीति में ग्लैमर का तड़का भी लग गया है।

हमारे भारत देश में आम से लेकर खास लोग राजनीति में कोई ना कोई पद रखते हैं।जैसे बॉलीवुड की अभिनेत्री जयाप्रदा मथुरा से भारतीय जनता पार्टी की सांसद है,|

इसके अलावा कॉमेडियन नवजोत सिंह सिद्धू भी पंजाब से मंत्री के पद पर रह चुके हैं। इसके अलावा भी अन्य फील्ड से जुड़े हुए ऐसे कई व्यक्ति हैं, जो राजनीति में कोई ना कोई पद पर विराजमान है।

आज के समय में राजनीति में पद, पैसा और पावर तीनों चीजें हैं, इसीलिए यह आज के समय में हमारे भारत देश के युवा वर्ग के बीच लोकप्रिय बनती जा रही है।

चाहे युवा लड़के हो या लड़कियां अधिकतर लोग अब राजनीति को एक कैरियर की निगाहों से देखते हैं, क्योंकि अगर किसी व्यक्ति को राजनीति में कोई पद प्राप्त हो जाता है, तो उसकी लाइफ सेटल हो जाती है|

क्योंकि राजनीति में कोई पद प्राप्त होने के बाद उसे इतने सारे लाभ और फायदे मिलने लगते हैं, कि उसे किसी भी चीज की चिंता करने की आवश्यकता नहीं होती है।

आपने वह कहावत तो सुनी होगी कि भारत की गली गली में एक युवा नेता रहता है, ऐसे में अगर आप राजनीति में इंटरेस्टेड है और राजनीति में अपना करियर बनाना चाहते हैं|

तो आज हमारे इस आर्टिकल को पूरा अवश्य पढ़ें क्योंकि आज के इस आर्टिकल में हम आपको प्रधानमंत्री कैसे बने, इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं।

आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि प्रधानमंत्री बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है,प्रधानमंत्री बनने के लिए आपके अंदर क्या-क्या योग्यता होनी चाहिए|

प्रधानमंत्री की सैलरी कितनी होती है, प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी क्या होती है, प्रधानमंत्री कौन कौन से काम करता है तथा प्रधानमंत्री को कौन सी सरकारी सुविधाएं मिलती हैं, चलिए चलते हैं मुख्य मुद्दे पर और जानते हैं कि भारत देश का प्रधानमंत्री कैसे बने।

PM या प्रधानमंत्री कैसे बने

PM बनने के लिए क्या करे

Pradhanmantri kaise bane

1.पीएम कौन होता है

दोस्तों पीएम का मतलब प्रधानमंत्री होता है। पीएम को इंग्लिश में प्राइम मिनिस्टर कहा जाता है।हमारे भारत देश का प्रधानमंत्री भारत सरकार की एग्जीक्यूटिव ब्रांच का मुख्य अधिकारी होता है।

प्रधानमंत्री की स्थिति भारत के राष्ट्रपति से अलग होती है। प्रधानमंत्री के पास बहुत से पावर होते हैं, जिनका इस्तेमाल वह देश को आगे बढ़ाने के लिए करते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्रधानमंत्री राष्ट्रपति के सलाहकार के रूप में काम करते हैं और वह मंत्री परिषद के नेता भी होते हैं। प्रधानमंत्री लोकसभा या राज्यसभा का सदस्य भी हो सकता है।

2. 2020 में भारत के प्रधानमंत्री

दोस्तों 2020 में भारत के प्रधानमंत्री श्रीमान नरेंद्र मोदी जी है, जो भारत के प्रधानमंत्री बनने से पहले गुजरात के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं। साल 2014 में भारतीय जनता पार्टी ने नरेंद्र मोदी जी को भारत के प्रधानमंत्री पद के लिए नामांकित किया|

जिसके बाद भारत में प्रधानमंत्री पद के चुनाव हुए और उन इलेक्शन में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में नरेंद्र मोदी जी के बंपर विजय हुई।उस इलेक्शन में भारतीय जनता पार्टी ने 282 से अधिक सीटें प्राप्त की।

प्रधानमंत्री मोदी जी के नेतृत्व में हमारा भारत देश दिन प्रतिदिन विकास की ओर बढ़ता जा रहा है। जब से नरेंद्र मोदी जी हमारे भारत देश के प्रधानमंत्री बने हैं, तब से ही हमारे देश का पुरी दुनिया में काफी मान सम्मान बढ़ा है।

3. पीएम कैसे बनते है

हमारे भारतीय संविधान के अनुसार राष्ट्रपति द्वारा भारत के प्रधानमंत्री को नियुक्त किया जाता है। ऐसा करने में राष्ट्रपति पार्लियामेंट्री सिस्टम के नियमों का पालन करते हैं।

वह प्रधानमंत्री के तौर पर लोकसभा में बहुमत के पॉलिटिशन की नियुक्ति करते हैं। जब भी इलेक्शन में किसी पार्टी को बहुमत मिलता है, तो राष्ट्रपति अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए प्रधानमंत्री के रूप में पार्टी या फिर जॉइंट अलायंस के नेता को नियुक्त करते हैं।

परंतु कभी-कभी किसी चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिलता है, तो ऐसी स्थिति में राष्ट्रपति प्रधानमंत्री की नियुक्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

4. पीएम की ताकत

हमारे भारतीय संविधान के अनुच्छेद 74 में कहा गया है कि राष्ट्रपति को एडवाइज और हेल्प लेने के लिए प्रधानमंत्री के साथ-साथ मंत्री परिषद की आवश्यकता होती है, जो सलाह के अनुसार अपने काम करते हैं।

वैसे तो मुख्य शक्ति प्रधानमंत्री के पास ही होती है। भारत का पीएम संघ की फील्ड में आने वाले काम करता है और संविधान में दी गए शक्ति के अनुसार भारत का पीएम हमारे देश का सबसे ताकतवर व्यक्ति होता है।सबसे महत्वपूर्ण शक्तियों में से कुछ नीचे दिए गए हैं।

हमारे भारत देश के प्रधानमंत्री अपने मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्रियों की नियुक्ति करता है।

इसके अलावा भारत देश के प्रधानमंत्री भारत के राष्ट्रपति को सलाह अथवा मशवरा दे सकता है, कि वह अपना कार्यकाल खत्म होने से पहले लोकसभा को समाप्त कर दें।

भारत का प्रधानमंत्री भारत के राष्ट्रपति को यूपीएससी के अध्यक्ष, ऑडिटर जनरल, राज्यपाल जैसे महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्तियों के लिए सलाह दे सकता है, हालांकि राष्ट्रपति सलाह लेने के लिए बाध्य नहीं है।

इंडिया का प्रधानमंत्री मंत्रिमंडल की बैठकों के साथ-साथ मंत्रिमंडल की लीडरशिप भी करते हैं।अगर भारत देश के प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपति को आपातकाल की घोषणा करने की सलाह दी है, तो राष्ट्रपति संपूर्ण देश में आपातकाल की घोषणा कर सकते हैं।

इसके उदाहरण के तौर पर इंदिरा गांधी जी का नाम शामिल है, जिन्होंने देश में आपातकाल लगाया था।

भारत का प्रधानमंत्री इंटरनेशनल लेवल पर हमारे भारत देश का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसके अलावा हमारे देश के प्रधानमंत्री केंद्र के साथ-साथ राज्यों के विभाग जैसे आईपीएस और आईएएस को किसी भी प्रकार का उचित निर्णय देने की शक्ति रखते हैं।

5. पीएम की सैलरी और अन्य भत्ते

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हमारे भारत देश के प्रधानमंत्री को एक सांसद जितनी ही तनख्वाह मिलती है, लेकिन प्रधानमंत्री को सांसद से अधिक सुविधाएं मिलती हैं, जिसमें प्रधानमंत्री को देश के अंदर या विदेशों में जाने के लिए फ्री यात्रा मिलती है।

इसके अलावा प्रधानमंत्री को स्पेशल प्रोटक्शन फोर्स भी मिलती है, जो 24 घंटे प्रधानमंत्री के साथ रहकर उनकी सुरक्षा का काम करती है। इसके अलावा भारत के प्रधानमंत्री को सरकारी आवास रहने के लिए दिया जाता है और इनके पास विभिन्न प्रकार की शक्तियां होती है।

6. प्रधानमंत्री की मासिक सैलरी

अगर हम प्रधानमंत्री की सैलरी के बारे में बात करें तो हमारे भारत देश के प्रधानमंत्री को निम्नलिखित सैलरी मासिक तौर पर प्राप्त होती है।नीचे जो जानकारी दी है, वह एक आरटीआई के माध्यम से प्राप्त हुई है।

प्रधानमंत्री का मूल वेतन ₹50000 होता है। इसके अलावा इन्हें ₹3000 संपर्क भत्ता और दैनिक भत्ते के तौर पर ₹62000 इसके अलावा निर्वाचन क्षेत्र के भत्ते के तौर पर ₹45000 मिलते हैं। इस तरह इनका कुल मासिक वेतन होता है ₹160000।

अगर आपको जानकारी ना हो, तो आपको बता दें कि हमारे भारत देश के प्रधानमंत्री दुनिया के सबसे अधिक सैलरी लेने वाले प्रधानमंत्री की लिस्ट में 12वें स्थान पर आते हैं। यह हमारे पड़ोसी देश चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग से भी आगे हैं।

7. प्रधानमंत्री बनने से संबंधित जानकारी

अगर आप इंडिया का प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं, तो इसके लिए सबसे पहले आपको लोकप्रिय नेता बनना होगा। लोकप्रिय नेता बनने के लिए आप जिस पार्टी की विचारधारा से प्रेरित है, उस पार्टी को ज्वाइन कर सकते हैं।

हां पर इस बात का ख्याल रखें कि आप जिस भी पार्टी को ज्वाइन करें, वह पार्टी परिवारवाद की विचारधारा को फॉलो ना करती हो, क्योंकि अगर वह पार्टी परिवारवाद की विचारधारा पर चलती होगी|

तो आपको उस पार्टी में रहने से कोई फायदा नहीं होगा, क्योंकि उस पार्टी के लोग सबसे पहले अपने सगे संबंधियों को ही आगे बढ़ाने की कोशिश करेंगे। इसीलिए हमेशा कैडर बेस्ट पार्टी ही ज्वाइन करें, ताकि आपको आगे बढ़ने का मौका मिले।

8. एक लोकप्रिय नेता बने

दोस्तों अगर आपको पीएम या सीएम बनना है, तो इसके लिए सबसे पहले आपको नेता बनना होगा, हालांकि यह अनिवार्य नहीं है परंतु जरूरी है, क्योंकि किसी भी फील्ड में एंट्री पाने के लिए बेसिक लेवल से शुरुआत करनी होती है।

अब ऐसा तो है नहीं कि आपको सीधा भारत का पीएम का पद मिल जाएगा, इसीलिए बेसिक चीजों से अपनी शुरुआत करें। नेता बनने के लिए सबसे पहले आपको अच्छे अच्छे नेताओं से अपना संपर्क बनाना होगा।

नेताओं से अपना संपर्क बनाने के लिए आप उनके द्वारा आयोजित रैलियों में जाकर उनसे मिल सकते हैं। ऐसा करने से धीरे-धीरे आपका उनके साथ संपर्क स्थापित हो जाएगा और नेता तथा आप एक दूसरे को जानने लगेंगे।

#1 कोई चुनाव जीते

अगर आप राजनीति में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको कोई चुनाव जीतना जरूरी है, केवल किसी राजनीतिक पार्टी को ज्वाइन कर लेने से ही आपका काम नहीं हो जाएगा।

इसीलिए जब आप कोई भी राजनीतिक पार्टी ज्वाइन कर लें, तो फिर पार्टी की नजरों में लगातार बने रहें और पार्टी के लिए लगातार काम करते रहें।

इसके अलावा अपने क्षेत्र के लोगों की मदद करें, ऐसा करने से लोग आपके तथा आपकी पार्टी के बारे में जानेंगे और उन्हें यह विश्वास होगा कि आप तथा आपकी पार्टी दोनों सही हैं|

और उनके सुख दुख में शामिल होती हैं।दोस्तों यह जरूरी नहीं है कि आपकी पार्टी की तरफ से आपको पहला टिकट ही विधायक या सांसद का मिल जाएगा|

हो सकता है कि आपको नगर निगम के पार्षद का टिकट मिले परंतु आपको इस मौके को भी छोड़ना नहीं है कयोंकि किसी भी फील्ड में धीरे-धीरे ही प्रगति होती है।

हमारे हिसाब से अगर आप 21 साल की उम्र में कोई राजनीतिक पार्टी में शामिल होते हैं और पार्टी के लिए अच्छा काम करते हैं, तो निश्चित ही पार्टी आपको टिकट देगी।

यह टिकट नगर निगम का हो सकता है, विधायक का हो सकता है या फिर सांसद अथवा एमएलए का भी हो सकता है।आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि जो लोग ऐसा सोचते हैं, कि कोई भी पार्टी कभी भी पहली बार किसी भी व्यक्ति को टिकट नहीं देती है तो उन्हें तेजस्वी सूर्या के बारे में पढ़ना चाहिए।

तेजस्वी सूर्या को भारतीय जनता पार्टी ने साउथ बेंगलुरु से चुनाव लड़ने के लिए नामांकित किया था, जिसमें वह पहली बार में ही विजयी हुए।

#2 प्रधानमंत्री बनने की अवस्था

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत का प्रधानमंत्री केवल कोई भारत का सांसद ही बन सकता है, चाहे वह लोकसभा का सांसद हो या फिर राज्यसभा का।

दोनों सदनों में से उसे किसी एक सदन का सदस्य होना जरूरी है। अगर प्रधानमंत्री पद का उमेदवार किसी भी सदन का सदस्य नहीं है परंतु अगर सांसदों ने उसे अपना नेता बनाया है, तो भी वह पीएम बन सकता है|

परंतु यह सिर्फ 6 महीने के लिए ही संभव है। 6 महीने के अंदर प्रधानमंत्री को लोकसभा या राज्यसभा में से किसी एक की सदस्यता छोड़नी पड़ती है।

#3 सांसदों का समर्थन हासिल करें

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि लोकसभा में जिस राजनीतिक पार्टी को बहुमत मिलता है या फिर जिस गठबंधन की सरकार बनती है, उन्हें अपना एक नेता चुनना होता है, तभी वह पीएम बन सकता है।

यानी पीएम बनने के लिए सिर्फ सांसद होना ही जरूरी नहीं है, बल्कि इसके अलावा जब आप की पार्टी, आपका नाम पीएम के पद के लिए नामांकित करेगी तभी आप चुनाव लड़ सकते हैं और आपकी अगर उन चुनावों में विजय होती है तो आप भारत के पीएम बन सकते हैं|

क्योंकि कौन सांसद भारत का प्रधानमंत्री बनेगा, इसका निर्णय पार्टी के अन्य सदस्य लेते हैं। जनता तो बस राजनीतिक पार्टी को वोट देती है।

उदाहरण के तौर पर हमारे भारत देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को ही ले लीजिए। साल 2014 में जब प्रधानमंत्री पद का चुनाव होने वाला था|

तो उसके पहले नरेंद्र मोदी जी गुजरात के मुख्यमंत्री थे और साल 2014 में भारतीय जनता पार्टी ने नरेंद्र मोदी जी का नाम भारत के प्रधानमंत्री पद के संभावित उम्मीदवार के तौर पर आगे बढ़ाया।

इसके बाद भारत में प्रधानमंत्री पद के चुनाव हुए और उन चुनावों में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में नरेंद्र मोदी जी की विजय हुई। इसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने नरेंद्र मोदी जी को भारत का प्रधानमंत्री बनाया।

9. भारत का प्रधानमंत्री बनने के लिए योग्यता

जो व्यक्ति भारत का प्रधानमंत्री बनना चाहता है, उसे भारतीय नागरिक होना जरूरी है। इसके अलावा उसका नाम भारत की मतदाता सूची में होना चाहिए, इसके साथ ही वह व्यक्ति राज्यसभा या लोकसभा में से किसी एक का सदस्य होना चाहिए।

सदस्य ना होने की अवस्था में उसे 6 महीने के अंदर दोनों सदनों में से किसी एक का सदस्य होना चाहिए।वरना उसे अपने पद से त्यागपत्र देना होता है। प्रधानमंत्री बनने के लिए व्यक्ति की उम्र कम से कम 25 साल होनी चाहिए।

10. भारत के अभी तक के प्रधानमंत्रियों की सूची

जब हमारा देश साल 1947 में अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ, तो उसके बाद हमारे भारत देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जी बने थे तथा उनके बाद अभी तक हमारे देश में कई प्रधानमंत्री हो चुके हैं। आजादी से लेकर अब तक हमारे देश में कितने प्रधानमंत्री हुए हैं,आइए उनकी जानकारी प्राप्त करते हैं।

  • जवाहरलाल नेहरू
  • गुलजारीलाल नंदा
  • लाल बहादुर शास्त्री
  • इंदिरा गांधी
  • मोरारजी देसाई
  • चौधरी चरण सिंह
  • राजीव गांधी
  • विश्वनाथ प्रताप सिंह
  • पी नरसिम्हा राव
  • चंद्रशेखर
  • अटल बिहारी बाजपाई
  • एच डी देवगौड़ा
  • इंद्र कुमार गुजराल
  • मनमोहन सिंह
  • नरेंद्र मोदी

आपकी और दोस्तों

तो दोस्तों यह था पीएम या प्रधानमंत्री कैसे बने, हम उम्मीद करते हैं कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप सभी को पता चल गया होगा कि भारत का प्रधानमंत्री बनने के लिए क्या करना पड़ता है|

यदि आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर करना ना भूले|

क्योंकि हम चाहते हैं कि अधिक से अधिक लोगों को यह पता चल पाए कि भारत का पीएम बनने की तैयारी कैसे करते हैं धन्यवाद दोस्तों|

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.