नकली फेक सप्लीमेंट की पहचान कैसे करे – ओरिजिनल सप्लीमेंट्स ख़रीदे



नकली फेक सप्लीमेंट की पहचान कैसे करे – नमस्कार दोस्तों क्या आप जानना चाहते हैं नकली सप्लीमेंट की पहचान कैसे करें या फेक सप्लीमेंट को कैसे पहचाने तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पर हो क्योंकि आज हम आपके सामने कुछ ऐसे खुलासे करेंगे जिसकी मदद से आप आसानी से पता कर पाएंगे कि कौन सा सप्लीमेंट असली है और कौन सा सप्लीमेंट नकली है

दोस्तों नकली सप्लीमेंट्स का कारोबार भारत में कितना ज्यादा बढ़ चुका है आजकल किसी भी दुकान से अगर हम कोई प्रोटीन सप्लीमेंट या फूड सप्लीमेंट खरीदते हैं तो हम बिल्कुल भी नहीं बता पाएंगे कि कौन सा सप्लीमेंट ओरिजिनल है और कौन सा सप्लीमेंट नकली जिसे हम फेक सप्लीमेंट कैसे हैं

हमसे कई बच्चों ने पूछा और उनका यह बहुत ज्यादा खराब एक्सपीरियंस रहा क्योंकि उन्होंने सप्लीमेंट के काफी ज्यादा पैसे दिए दुकानदार को और बदले में उनको क्या मिला नकली सप्लीमेंट जिसकी वजह से ना तो उनको कोई फायदा हुआ और ना ही उनको उनके पैसे की कीमत नहीं पाई

किसी के दौरान हमने यह निर्णय लिया कि अपने रीडर को हम पहले से ही सचेत कर देते हैं और कुछ ऐसे हिंट बताएंगे जिसकी मदद से आप आसानी से पहचान पाएंगे कि कौन सा सप्लीमेंट असली है या नकली।

चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम सीधे अपने मेन मुद्दे पर आते हैं और देखते हैं कि नकली सप्लीमेंट को आप कैसे आसानी से पहचान सकती हो

Jarrur padhe

जिम कैसे करे 

बॉडी बिल्डिंग कैसे करे

बॉडी बनाने के तरीके

नकली सप्लीमेंट कैसे पहचाने
फेक सप्लीमेंट की पहचान कैसे करें

दोस्तों यहां पर हम आपको कुछ ऐसी बातें बताएंगे जिससे कि आप यह पता कर पाएंगे कि जो सप्लीमेंट्री दुकानदार आपको दे रहा है वह असली है या नकली

१. सबसे पहली चीज जो आपको गौर करनी है वह है डब्बे की पैकिंग कैसी है इस डब्बे में आपको आपका सप्लीमेंट मिलेगा उस डब्बे की क्वालिटी बहुत ही ज्यादा लो क्वालिटी की होगी।

आज हम आपको यहां पर बताना चाहते हैं ज्यादातर प्रोटीन सप्लीमेंट और फूड सप्लीमेंट जो होते हैं वह विदेश में बनते हैं और जो उनकी पैकिंग होती है वह बहुत ही बढ़िया तरीके की होती है और उत्तम क्वालिटी की होती है

लेकिन जो फेक सप्लीमेंट कंपनी जो भारत में अंडरग्राउंड तरीके से चलती है वह लोग पैकिंग पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं इसलिए आप जब कभी भी कोई प्रोटीन सप्लीमेंट लेने जाए तो उसकी पैकिंग पर थोड़ा ध्यान दे दीजिए अगर आपको थोड़ा सा भी डाउट लगे कि यह नकली सप्लीमेंट है तो आप उस सप्लीमेंट को बिल्कुल भी ना खरीदें

पढ़े – बॉडी बनाने के लिए क्या खाये

२. स्पेलिंग की जांच करें

दोस्तों यह बहुत ही जबरदस्त तरीका है किसी भी नकली और असली सप्लीमेंट के बीच में फरक पहचानने की. अक्सर जो नकली सप्लीमेंट बनाने वाली कंपनी होती है वह लोग कभी भी किसी ओरिजिनल प्रोडक्ट की हूबहू स्पेलिंग अपने प्रोडक्ट में नहीं इस्तेमाल कर सकते हैं

इसलिए वह लोग हमेशा स्पेलिंग में एक या दो वर्ड का हेराफेरी करते हैं आप जब कभी भी कोई भी सप्लीमेंट खरीदने मार्केट में जाएं तो उस की स्पेलिंग को बिल्कुल ध्यान से पढ़ें अगर नकली सप्लीमेंट होगा तो कहीं ना कहीं आप एक या दो शब्द में कोई ना कोई गड़बड़ी देख लोगे इससे आपको पता चल पाएगा कि सप्लीमेंट असली है या नकली

३. होलोग्राम को चेक करें

दोस्तों अगर आप हमसे एक तरीका पूछेंगे नकली सप्लीमेंट की पहचान कैसे करें या नकली सप्लीमेंट को कैसे पहचाने तो यह वह तरीका है. क्योंकि कोई भी जानवर ओरिजिनल सप्लीमेंट में उस कंपनी का होलोग्राम लगा हुआ होता है

अगर आपको पता नहीं है कि होलोग्राम क्या होता है तो होलोग्राम जो चमकने वाला स्टीकर होता है उसे होलोग्राम कहते हैं. अगर आप कोई भी प्रोडक्ट पर यह देखेगी उसने होलोग्राम नहीं लगा हुआ है तू बहुत ज्यादा चांस हो सकते हैं कि वह सप्लीमेंट नकली सप्लीमेंट है

४. सप्लीमेंट का बिल जरूर मांगे

दोस्तों यह भी बहुत अच्छा तरीका है क्योंकि जो भी दुकान वाला नकली सप्लीमेंट का धंधा करता है या फेक सप्लीमेंट भेजता है वह कभी भी आपको बिल बनाकर नहीं देगा। लेकिन अगर दुकानदार आपसे कहेगा कि आपको हम पर भरोसा नहीं है क्या तो आप उनसे यह कह सकते हैं कि हम को दिल चाहिए और आप हमें कृपया करके बिल दे दीजिए

क्योंकि अगर आप किसी भी ओरिजिनल प्रोडक्ट बेचने वाले के पास जाएंगे तो वह बेझिझक होकर आपको आपके प्रोटीन सप्लीमेंट का बिल बना कर दे देगा और अगर वह सप्लीमेंट नकली है तो वह आपको बिल बना कर देने में खिचखिच करेगा

पढ़े –  बॉडी बनाने के लिए डाइट प्लान

५. सप्लीमेंट के इंग्रेडिएंट्स को पढ़ें

दोस्तों यह बहुत जरूरी है क्या आप कोई भी सप्लीमेंट के पीछे जो लेबल लगा हुआ होता है उसको अच्छे तरीके से पढ़िए क्योंकि सामने कुछ और लिखा हुआ होता है और पीछे कुछ और लिखा हुआ होता है

जैसे कि डब्बे के सामने लिखा हुआ होगा कि आपको हर एक चम्मच में 30 ग्राम प्रोटीन मिलेगा लेकिन अगर आप वही चीज पीछे पलट के लेबल में पड़ेंगे वहां पर आपको कुछ अलग ही आंकड़े दिखाई देंगे

अगर ऐसा कुछ आपको देखने को मिलता है तो आप समझ लीजिए कि वह सप्लीमेंट नकली है और ओरिजिनल नहीं है

६. मैक्सिबिलिटी चेक करे

यह भी बहुत जबरदस्त तरीका है नकली सप्लीमेंट की पहचान करने की क्योंकि अक्सर हमने देखा है कि जो नकली सप्लीमेंट होता है वह पानी में पूरी तरीके से खुल नहीं पाते हैं और बहुत ज्यादा समय लगाते हैं.

एक चीज जो हमने देखा है नकली सप्लीमेंट पर ज्यादा मात्रा में पाई जाती है वह है कि वह लोग उस में ग्लूकोस का काफी ज्यादा इस्तेमाल करते हैं. जब कभी भी आप सप्लीमेंट को पानी मैं मिक्स करेंगे उस समय पर आपको ग्लास के नीचे सफेद पदार्थ नजर आएगा और वह ग्लूकोज भी हो सकता है

क्योंकि जो ओरिजिनल प्रोडक्ट होते हैं वह फ्लेवर में आते हैं जैसे की चॉकलेट फ्लेवर बनाना फ्लेवर वनीला फ्लेवर स्ट्रॉबेरी फ्लेवर तू ओरिजिनल सप्लीमेंट में कभी भी यह नहीं होता कि नीचे आपको सफेद पाउडर की तरह कोई पदार्थ जमा हुआ हुए दिखे

पढ़े –  बॉडी बनाने के लिए क्या करना चाहिए

यह केवल नकली सप्लीमेंट में पाए जाते हैं क्योंकि वह लोग इसमें कोई प्रोटीन रोटी नहीं डालते हैं केवल उस में ग्लूकोस पाउडर मिस कर देते हैं जिससे कि जब कोई लड़का उसे पिएगा तो उसको थोड़ी सी एनर्जी महसूस होगी

दोस्तों नकली सप्लीमेंट बनाने वाली कंपनी पर हम कभी भी भरोसा नहीं करते क्योंकि अगर उनका बस चले तो उसमें वह चीनी मिलाकर हमको दे दे लेकिन चीनी से हमको थोड़ी सी भी कुछ एनर्जी महसूस नहीं होगी इस वजह से वह ग्लूकोस का इस्तेमाल करते हैं

आपकी सावधानी आपके हाथों में है

दोस्तों जैसे कि हमने आपको बता दिया कि आप नकली सप्लीमेंट या फेक सप्लीमेंट की कैसे पहचान कर सकते हैं और एक ओरिजिनल सप्लीमेंट और डुप्लीकेट सप्लीमेंट की क्या पहचान है. दोस्तों आप यह सब चीजों को अपने दिमाग में बहुत अच्छी तरीके से पीट कर लीजिए और जब कभी भी प्रोटीन सप्लीमेंट खरीदने आप दुकान में जाएंगे तो इन सब बातों का जरूर ध्यान करें

क्योंकि इनका कोई भरोसा नहीं है यह लोग इस चीज में क्या मिलाकर पाउडर बना रहे हैं उसका हमको खुद भी पता नहीं है और सबसे डरावनी बात तो यह है कि आप इसे अपने शरीर में डाल रहे हैं तो आप समझ लीजिए यह कंपनी वाले नकली सप्लीमेंट तो बना रहे हैं इसका आपको नुकसान कितना हो सकता है

आपकी और दोस्तों

तो दोस्तों यह था नकली फेक सप्लीमेंट कैसे पहचाने या डुप्लीकेट सप्लीमेंट की पहचान कैसे करें। अगर आपने हमारे दिए गए टिप्स को और हिंट को दिमाग में रखा तो आप बहुत ही आसानी से ओरिजिनल सप्लीमेंट और डुप्लीकेट सप्लीमेंट में पहचान कर सकते हो

दोस्तो हमारी सुरक्षा हमारे हाथों में ही होगी अगर हम आंख बंद करके किसी भी दुकान से प्रोटीन सप्लीमेंट खरीद लेते हैं और बाद में उसका सेवन करने से हमको कुछ साइड इफेक्ट हो जाता है तो इसमें गलती हमारी ही मानी जाएगी

अगर आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो कृपया करके इसे अपने दूसरे दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें ताकि हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को सचेत कर पाए कि नकली सप्लीमेंट से कैसे बचें। शेयर करने के लिए आप इसे फेसबुक WhatsApp ट्विटर गूगल प्लस पर जरुर शेयर करें ताकि हम इस नकली कारोबार करने वालों के विरुद्ध आवाज उठा सके धन्यवाद दोस्तों