महाशिवरात्रि पर निबंध Essay in Hindi



महाशिवरात्रि निबंध – नमस्कार दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग आज के इस पोस्ट में हम आपके साथ महाशिवरात्रि पर निबंध शेयर करने वाले है. हिंदी त्योहारों में महाशिवरात्रि पर्व बहुत ही बड़ा माना जाता है और इस त्यौहार के दिन हर कोई भगवन शिव की पूजा करता है.

आज का ये लेख लिखने का मेन करना ये है की इस टॉपिक में बच्चो को स्कूल में निबंध लिखने को कहा जाता है लेकिन उनको अच्छे से लिखने को नहीं आता है तो उनकी हेल्प करने के लिए आज हम आपके साथ ये हिंदी एस्से शेयर कर रहे है और हम उम्मीद करते है की महाशिवरात्रि के बारे में पूरी जानकारी आपको मिल जाएगी.

आप इस essay का प्रोयोग एजुकेशनल पर्पस के लिए कर सकते हो, तो चलिए दोस्तों ज्यादा टाइम ना लेते हुए हम आज के इस लेख को स्टार्ट करते है.

पढ़े – ताजमहल पर निबंध

महाशिवरात्रि पर निबंध

Mahashivratri Essay in Hindi

भारतवर्ष में हिंदुओ के 33 करोड़ देवी देवता है जिन्हें वे मानते तथा पूजते हैं परंतु उनमें से प्रमुख स्थान भगवान शिव का है. भगवान शिव को मानने वालों ने शैव नामक संप्रदाय चलाया. शैव संप्रदाय के प्रमुख देवता भगवान शिव को ही माना जाता है.

भगवान शिव को शंकर, भोलेनाथ, पशुपति, त्रिनेत्र, पार्वती नाथ आदि अनेक नामों से जाना व पुकारा जाता है. शिवपुराण के अनुसार भगवान शिव सभी जीव जंतुओं के स्वामी एवं अधिनायक हैं. यह सभी जीव जंतु, कीट पतंगे भगवान शिव की इच्छा से ही सब प्रकार के कार्य तथा व्यापार किया करते हैं.

शिवपुराण के अनुसार भगवान से वर्ष में 6 मास कैलाश पर्वत पर रहकर तपस्या में लीन रहते हैं. उनके साथ ही सभी किट पतंग भी अपने बिलों में बंद हो जाते हैं. उसके बाद 6 मास तक कैलाश पर्वत से उतरकर धरती पर श्मशान घाट में निवास किया करते हैं.

इनके धरती पर अवतरण के साथ ही सारे कीट-पतंग भी धरती पर घूमने फिरने लगते हैं. भगवान शिव का यह अवतरण प्राय फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को हुआ करता है. अवतरण का यह महान दिन शिव भक्तों में महाशिवरात्रि के नाम से जाना जाता है.

पढ़े – महानगर की समस्या निबंध

महाशिवरात्रि के दिन शिव मंदिरों को बड़ी अच्छी तरह से सजाया जाता है. भक्तगण सारा दिन बिना भोजन करें व्रत उपवास किया करते हैं. अपनी सुविधा अनुसार साईं काल में वे फल,पुष्प बेर,दूध आदि लेकर शिव मंदिरों में जाते हैं.

वहां दूध मिश्रित शुद्ध जल से शिवलिंग को स्नान कराते हैं. तत्पश्चात शिवलिंग पर फल , व बेर तथा दूध भेंट स्वरूप चढ़ाया करते हैं. ऐसा करना बड़ा ही पूर्ण दायक माना जाता है. इसके साथ ही भगवान शिव की सवारी नंदी की भी इस रात बड़ी पूजा व सेवा की जाती है.

महाशिवरात्रि के दिन गंगा स्नान का भी विशेष महत्व है क्योंकि ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव ने गंगा के तेज प्रवाह को अपनी जटाओं में धारण करके इस संसार के उद्धार के लिए धीरे-धीरे धरती पर छोड़ा था.

आपकी ओर दोस्तों

तो दोस्तों ये था महाशिवरात्रि पर निबंध हम उम्मीद करते है की आज का ये आर्टिकल पढने के बाद आपको अब इस टॉपिक पर essay लिखने में कोई भी प्रॉब्लम नहीं होगी. यदि आपके दोस्तों को भी इस विषय पर निबंध लिखने में प्रॉब्लम होती है तो आप इस लेख को उनके साथ जरुर शेयर करे.

आप इस पोस्ट को फेसबुक और व्हात्सप्प पर शेयर करे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो की हेल्प हो पाए. थैंक यू फ्रेंड्स