LMV Full Form in Hindi | LMV का फुल फॉर्म क्या है

LMV Full Form in Hindi: दोस्तों हमारे आज के इस आर्टिकल में हम आपको ” एलएमवी के फुल फॉर्म” के बारे में जानकारी देने वाले हैं। अगर आप इंटरनेट पर यह सर्च करते रहते हैं कि, एलएमवी का फुल फॉर्म क्या होता है या फिर एलएमवी का मतलब क्या होता है, तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं, क्योंकि आज के इस आर्टिकल में आपको एलएमवी से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त होगी।

दोस्तों हमारा भारत देश बहुत बड़ा है और हमारे भारत देश की जनसंख्या भी काफी अधिक है। वर्तमान के समय में हमारे भारत देश की जनसंख्या 130 करोड़ से भी अधिक है और इतनी बड़ी जनसंख्या में से काफी लोग ऐसे हैं, जो नौकरी करके अपनी रोजी-रोटी कमाते हैं।

वहीं कई लोग ऐसे हैं, जो अपना बिजनेस करके पैसे कमाते हैं, तो हमारे भारत में बहुत से लोग ऐसे भी हैं, जो खेती किसानी करके अपना जीवन गुजारते हैं। आमतौर पर किसान खेत में जो भी उगाता है, वह अपने खाने के लिए रखने के बाद सेठ या साहूकार को बेच देता है और साहूकार उस माल को आगे बेचते हैं।

जैसे आपने देखा होगा कि गुजरात जैसे राज्य में गेहूं और चावल की पैदावार कम होती है और इसीलिए गुजरात में जो राइस मील है, वह उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश से गेहूं तथा चावल मंगवाती है। इसके अलावा पंजाब में भी गेहूं अधिक होता है, इसलिए गुजरात की राइस मिल पंजाब से भी चावल और गेहूं मंगवाती है और उनके अलग-अलग प्रोडक्ट बनवाकर वह आगे सप्लाई करती हैं।

जिनमें कुछ प्रोडक्ट तो हमारे देश में ही बिक जाते हैं और कुछ प्रोडक्ट विदेशों में बिकने के लिए जाते हैं। ऐसे में हमारे देश के अंदर गेहूं चावल के साथ-साथ अन्य सामानों को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने के लिए ड्राइवरों की आवश्यकता होती है। क्योंकि ड्राइवर ट्रक में सामान लाद कर सामान को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने का काम करते हैं।

हालांकि यह हमारे देश का दुर्भाग्य ही है कि हमारे देश में ट्रक ड्राइवर को उतनी इज्जत नहीं दी जाती जितनी कि उसे मिलनी चाहिए। अमेरिका जैसे देशों में तो ट्रक ड्राइवरों को विशेष सुविधाएं उपलब्ध होती है और उन्हें कितने घंटे गाडी चलानी है इसका समय भी निर्धारित होती है।

परंतु भारत जैसे देश में ट्रक से जुड़ा कोई भी ऐसा नियम कानून नहीं है, जो ड्राइवरों के हित में हो और इसीलिए यहां पर ड्राइवर 24 घंटे ट्रक चलाते हैं, परंतु ट्रक के साथ किसी भी गाड़ी जैसे की कार या बाइक चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस अनिवार्य है, क्योंकि बिना ड्राइवर लाइसेंस के गाड़ी चलाना कानूनन जुर्म है

और अगर कोई व्यक्ति बिना ड्राइविंग लाइसेंस के गाड़ी चलाता है, तो उसे बिना लाइसेंस के गाड़ी चलाने पर जुर्माना भरना पड़ सकता है या फिर उसकी गाड़ी सीज भी हो सकती है। इसीलिए गाड़ी चलाने के लिए लाइसेंस जरूरी होता है। हमारे भारत में विभिन्न प्रकार के लाइसेंस होते हैं जैसे टू व्हीलर लाइसेंस, फोर व्हीलर लाइसेंस, एलएमवी लाइसेंस,हेवी मोटर व्हीकल लाइसेंस।

LMV Full Form in Hindi

LMV का फुल फॉर्म क्या है

LMV Full Form in Hindi

■ एलएमवी का फुल फॉर्म क्या होता है

सबसे पहले तो आइए जान लेते हैं कि एलएमवी का फुल फॉर्म क्या होता है। एलएमवी का फुल फॉर्म होता है “लाइट मोटर व्हीकल” यह एक लाइसेंस होता है, जो गाड़ियों को चलाने के लिए योग्य व्यक्तियों को दिया जाता है।

इस लाइसेंस का इस्तेमाल करके आदमी एसयूवीसी, सीडैन, मिनी, माइक्रो जैसे गाड़ियां चला सकते हैं, परंतु 2017 में सर्वोच्च न्यायालय ने एक आदेश दिया कि लाइट मोटर व्हीकल लाइसेंस धारक टैक्सी भी चला सकते हैं।

शायद आपको पता ना हो तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, ड्राइविंग लाइसेंस में भी अलग अलग कैटेगरी होती है। जब हम ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करते हैं, तो हमें मिलने वाले ड्राइविंग लाइसेंस गाड़ी के अनुसार अलग-अलग कैटेगरी में दिया जाता है।वैसे अगर हम अपना ड्राइविंग लाइसेंस किसी ट्रांसपोर्ट वाहन को चलाने के लिए बनवा रहे हैं, तो हमें लाइट मोटर व्हीकल टीआर कैटेगरी का लाइसेंस प्राप्त होता है।

वहीं अगर हम सिर्फ अपनी आवश्यकता के लिए ड्राइविंग लाइसेंस लेना चाहते हैं, तो हमें लाइट मोटर व्हीकल एनटी लाइसेंस प्राप्त होता है। यह लाइसेंस आपको सिर्फ हल्के और व्यक्तिगत इस्तेमाल के लिए गाड़ी चलाने की परमिशन देता है।

■ ड्राइविंग लाइसेंस कितने प्रकार के होते है

– MC 50CC

इस प्रकार का लाइसेंस सबसे बेसिक लाइसेंस होता है और इस लाइसेंस के अंतर्गत आप 50 सीसी की या फिर 50 सीसी से कम के स्कूटर, बाइक या फिर मोपेड चला सकते हैं। इस लाइसेंस के लिए आवेदन करने के लिए आपकी उम्र 16 साल या उससे अधिक होनी चाहिए।

– FVG

जिस व्यक्ति के पास यह लाइसेंस होता है, वह बिना गियर वाली स्कूटर, बाइक या फिर मोपेड चला सकता है। चाहे उसका इंजन कितने सीसी का हो परंतु इसमें शर्त यह है कि वह बाइक, मोपेड, स्कूटर बिना गियर का होना चाहिए। इस लाइसेंस का इस्तेमाल करके आप इलेक्ट्रॉनिक बाइक और स्कूटर भी ड्राइव कर सकते हैं, जिसका इंजन 150cc से लेकर 200 सीसी तक होना चाहिए।

– MC With Gear

इस ड्राइविंग लाइसेंस के द्वारा आप बिना गियर वाली या फिर गियर वाली स्कूटर, बाइक या फिर मोपेड चला सकते हैं। अगर आप सिर्फ बाइक चलाते हैं, तो आपके पास कम से कम यह वाला लाइसेंस तो अवश्य होना चाहिए, क्योंकि इस लाइसेंस के इस्तेमाल करके आप किसी भी तरह के इंजन वाली बाइक को चला सकते हैं।

– LMV-NT (Light Motor Vehicle – Non-Transport)

इस ड्राइविंग लाइसेंस के द्वारा आप किसी भी तरह के कार्य को चला सकते हैं, परंतु इस लाइसेंस के द्वारा आप किसी भी तरह के कमर्शियल काम नहीं कर सकते, हालांकि इस लाइसेंस का इस्तेमाल करके आप कार तो चला सकते हैं परंतु व्यक्तिगत तौर पर। इस लाइसेंस का इस्तेमाल करके आप कैब या फिर टैक्सी नहीं चला सकते।

– LMV-TR (Light Motor Vehicle – Transport)

इस ड्राइविंग लाइसेंस के द्वारा आप कैब, टैक्सी या फिर वेन वगैरह चला सकते हैं और इस ड्राइविंग लाइसेंस का इस्तेमाल आप Commercially रूप से कर सकते हैं।

– LMV (Light Motor Vehicle)

इस ड्राइविंग लाइसेंस के द्वारा आप कमर्शियल वाहन भी चला सकते हैं और पर्सनल वाहन भी चला सकते हैं और इससे आप स्कूटर या फिर बाइक भी चला सकते हैं।

– HPMV (Heavy Passenger Motor Vehicle)

इस लाइसेंस को बनवाने के लिए आपकी उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए और इस लाइसेंस के द्वारा आप बस चला सकते हैं, हालांकि कुछ राज्यों में इस लाइसेंस के लिए 20 साल की उम्र भी मांगते हैं।इस लाइसेंस को बनाने के लिए अभ्यर्थी का कम से कम आठवीं कक्षा पास होना आवश्यक है।

– HTV (Heavy Transport Vehicle)

जिस व्यक्ति के पास यह लाइसेंस होता है, वह बस के साथ-साथ ट्रक भी चला सकता है। इस लाइसेंस को बनवाने के लिए व्यक्ति की उम्र कम से कम 18 साल या फिर 20 साल होनी चाहिए और व्यक्ति आठवीं कक्षा पास होना जरूरी है।

– HMV (Heavy Motor Vehicle)

यह एक एडवांस लाइसेंस होता है और इस लाइसेंस के द्वारा आप बस, टेंपो, ट्रक सब कुछ चला सकते हैं फिर चाहे वह पर्सनल यूज़ के लिए हो या फिर कमर्शियल इस्तेमाल के लिए हो।

– TRAILOR

ट्रेलर एक लंबा ट्रक होता है और यह लाइसेंस उन्हें ही दिया जाता है जो ट्रेलर चलाते हैं। इस लाइसेंस के लिए आवेदन करने के लिए आपके पास हेवी मोटर व्हीकल का लाइसेंस होना जरूरी है।

■ Driving Licence को बनवाने के लिए जरुरी दस्तावेज़

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए आपको कुछ डॉक्यूमेंट भी देने होते हैं, जैसे ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए आपको आईडी प्रूफ के तौर पर अपना आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पैन कार्ड या फिर पासपोर्ट देना होता है।

इसके अलावा एड्रेस प्रूफ के तौर पर आप अपना आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, राशन कार्ड, अपने घर की बिजली का बिल, लैंडलाइन टेलिफोन या पोस्टपेड फोन का बिल, हाउस टैक्स रिसिप्ट या एलपीजी गैस की पासबुक दे सकते है।इसके साथ आपको 4 पासपोर्ट साइज फोटो भी देनी होगी।

■ ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए नागरिकता

अगर आप भारत में अपना ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपका भारतीय नागरिक होना जरूरी है। इसके अलावा नेपाल और भूटान के लोग भी भारत में ड्राइविंग लाइसेंस बनवा सकते हैं। हालांकि उनके पास भारत की कोई वैलिड आईडी प्रूफ होना आवश्यक है।

आपकी और दोस्तों

आपकी और दोस्तों

तो दोस्तों यह था एलएमवी का फुल फॉर्म क्या है, हम उम्मीद करते हैं कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप सभी को एलएलबी की फुल फॉर्म के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी.

अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को एलएमवी के फुल फॉर्म के बारे में जानकारी मिल पाए धन्यवाद दोस्तों|

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.