HR Full Form in Hindi | HR का फुल फॉर्म क्या है

HR Full Form in Hindi: नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है हमारी इस वेबसाइट पर।आज के इस आर्टिकल में हम आपको “एचआर की फुल फॉर्म” के बारे में जानकारी देने वाले हैं। अगर आप इंटरनेट पर यह सर्च करते रहते हैं कि एचआर का फुल फॉर्म क्या होता है या फिर एच आर का मतलब क्या होता है तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं

क्योंकि आज के हमारे इस आर्टिकल में आपको एचआर की फुल फॉर्म सहित इससे संबंधित अन्य जानकारी प्राप्त होने वाली है। तो आइए जानते हैं एचआर के बारे में।

भारत में जन्म लेने वाले सभी विद्यार्थियों का एक ही सपना होता है कि वह अच्छी पढ़ाई लिखाई करके एक अच्छी नौकरी प्राप्त करें और इसके लिए वह दसवीं कक्षा से ही काफी मेहनत करते हैं, क्योंकि किसी भी चीज को प्राप्त करने के लिए शुरू से ही उसके बारे में सोचना पड़ता है और उस चीज को अपना लक्ष्य बनाकर उसके अनुसार अपनी तैयारी करनी पड़ती है।

कोई भी चीज हमें एक ही दिन में प्राप्त नहीं होती है।किसी भी चीज को प्राप्त करने के लिए हमें निरंतर प्रयास करना होता है, फिर चाहे वह पैसा हो या फिर नौकरी हो।हमारे भारत देश में हर साल लाखों लोग विभिन्न प्रकार की नौकरियों के लिए आवेदन देते हैं।

हालांकि आज के इस दौर में नौकरी पाना इतना आसान नहीं है, क्योंकि आप तो यह बात जानते ही हैं कि, हमारे भारत देश की जनसंख्या कितनी ज्यादा है और इतनी बड़ी जनसंख्या होने के कारण हमारे भारत देश में सीमित संसाधन है और अधिक जनसंख्या होने के कारण सभी को तो नौकरी नहीं दी जा सकती

या फिर सभी लोग नौकरी नहीं कर सकते। इसीलिए हमारे भारत देश में जो लोग अच्छी नौकरी प्राप्त नहीं कर पाते वह लोग अन्य स्वरोजगार के काम करते हैं। नौकरी पाने के लिए आज के समय में एजुकेशन की डिमांड बहुत ही बढ़ गई है।

क्योंकि वर्तमान के समय में ऐसी कोई भी फील्ड नहीं है, जहां पर शिक्षा का महत्व ना हो। अगर आपने अच्छी पढ़ाई लिखाई की है तभी आप एक अच्छी नौकरी प्राप्त करने के बारे में सोच सकते हैं और अगर आपने कम पढ़ाई की है तो आपको एक अच्छी नौकरी मिलना मुश्किल है।

हालांकि हम यह नहीं कह रहे कि आप किसी भी प्रकार की कोई भी नौकरी प्राप्त नहीं कर पाएंगे। आज भी कुछ क्षेत्र ऐसे हैं जहां पर कम पढ़े लिखे लोगों को भी रोजगार मिल जाता है

परंतु जो लोग कम पढ़े लिखे होते हैं उन्हें काफी मशक्कत करने के बाद नौकरी प्राप्त होती है और जो लोग अधिक पढ़े लिखे होते हैं उन्हें नौकरी का ऑफर आते रहते हैं।

वैसे तो हमारे भारत देश में अधिकतर विद्यार्थी सरकारी नौकरी प्राप्त करने के बारे में ही सोचते हैं, परंतु सरकारी नौकरी के अलावा भी कुछ ऐसी नौकरियां है, जहां पर पैसे के साथ-साथ काफी मान सम्मान प्राप्त होता है।

अगर आप भी एक ऐसी नौकरी की खोज में है, जहां पर आपको पैसे के साथ-साथ पद और प्रतिष्ठा भी प्राप्त हो तो आपको एचआर की नौकरी करनी चाहिए,क्योंकि वर्तमान के समय में एचआर की नौकरी में भी काफी अच्छा स्कोप है और एच आर के पद की वैकेंसी हर कंपनी में होती ही है।

वर्तमान के समय में जितनी भी कंपनियां हैं चाहे वह प्राइवेट हो या फिर सरकारी, सभी में एचआर की जरूरत पड़ती ही है, क्योंकि एचआर के कारण ही कोई भी कंपनी अच्छे ढंग से अपना काम कर पाती है।

एक एचआर अधिकारी ही किसी भी कंपनी को सही दिशा में ले जाने का प्रयास करता है। इसीलिए हर फैक्ट्री का मालिक अपनी कंपनी में एचआर को भर्ती करता है, क्योंकि एचआर का मुख्य काम होता है कंपनी में अच्छे लोगों को भर्ती करना साथ ही उनकी योग्यता की जांच करना।

HR Full Form in Hindi

HR का फुल फॉर्म क्या है

HR full form in hindi

 

■ एचआर का फुल फॉर्म क्या होता है

सबसे पहले तो आइए जान लेते हैं कि एचआर का फुल फॉर्म क्या होता है। एचआर का अंग्रेजी में फुल फॉर्म होता है “हुमन रिसोर्स” इसे हिंदी में मानव संसाधन कहा जाता है।

एचआर अधिकारी का मुख्य काम वह जिस कंपनी में काम करता है, उस कंपनी के लिए कुशल कारीगरों को भर्ती करना और उनके डॉक्यूमेंट की सही से जांच करके उन्हें ट्रेनिंग देना।

एचआर की पोस्ट लगभग हर कंपनी में होती है, क्योंकि हर कंपनी यही चाहती है कि जो वर्कर उसकी कंपनी में भर्ती हो उसका व्यवहार अच्छा हो और वह उसकी कंपनी के लिए फायदेमंद साबित हो।

■ एचआर को हिंदी में क्या कहते हैं

एचआर अधिकारी को हिंदी में कार्मिक अधिकारी कहा जाता है तथा इसे अंग्रेजी में हुमन रिसोर्स कहते हैं जिसका मतलब होता है मानव संसाधन।

■ एचआर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता

किसी भी नौकरी के प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थी को पढ़ाई करना बहुत ही जरूरी है
और एचआर की नौकरी को पाने के लिए भी कुछ आवश्यक शैक्षिक योग्यताएं होती है।

अगर आप एचआर की नौकरी पाना चाहते हैं या फिर ऐसे अभ्यर्थी जो एचआर मैनेजमेंट में अपना करियर बनाना चाहते हैं, उन्हें भारत की किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से 50% अंकों के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री करना जरूरी है।

हालांकि इसमें विषय की कोई भी बाध्यता नहीं है अभ्यर्थी चाहे तो आर्ट, कॉमर्स या साइंस किसी भी विषय से अपना ग्रेजुएशन पूरा कर सकते हैं।

■ एचआर बनने के लिए पर्सनल योग्यता

ऐसे व्यक्ति जो एचआर बनना चाहते हैं, उन्हें पढ़ाई के साथ-साथ अपने अंदर कुछ पर्सनल योग्यताएं भी रखनी होंगी, जिसके बारे में हम आपको नीचे जानकारी दे रहे हैं।

जो अभ्यर्थी एचआर बनना चाहते हैं, उनकी पर्सनैलिटी अच्छी होनी चाहिए, मतलब कि वह जेंटलमैन टाइप लगने चाहिए, क्योंकि जब उनकी पर्सनैलिटी अच्छी होगी तभी वह अन्य वर्करों से काम करवा सकेंगे।

इसके अलावा व्यक्ति का स्वभाव हंसमुख होना चाहिए, ताकि वह अपने कंपनी के कर्मचारियों को और अपने कंपनी के मालिक को खुश रख सके हैं, साथ ही एचआर को मिलनसार स्वभाव का होना चाहिए।

उसे हर किसी का आदर करना आना चाहिए। फिर चाहे कोई छोटा वर्कर हो या फिर बड़ा वर्कर हो क्योंकि जब एचआर सब के साथ समानता का व्यवहार करेगा तो मजदूरों का उसके साथ भावनात्मक लगाव हो जाएगा और जब किसी के साथ किसी व्यक्ति की भावना जुड़ जाती है तब वह उसके साथ पूरी इमानदारी का बर्ताव करता है।

एचआर को ईमानदार होना भी जरूरी है क्योंकि अगर वह इमानदार नहीं होगा तो वह अपने कर्मचारियों का तथा अपने मालिक का विश्वास नहीं जीत पाएगा।इसके अलावा एचआर के अंदर यह गुण भी होना चाहिए कि उसे कौन सी बात कहां पर और किस तरह से करनी है तभी वह इस फील्ड में सफलता हासिल कर पाएगा।

■ एचआर की सैलरी

दुनिया की जितनी भी कंपनियां है, उन सभी कंपनियों में एचआर मैनेजर की सैलरी अलग-अलग होती है। जैसे जो बड़ी कंपनियां है, उन कंपनियों में एचआर मैनेजर की सैलरी महीने के तौर पर अधिक होती है। इसके अलावा जो छोटी कंपनियां हैं, उनमें एचआर मैनेजर की सैलरी बड़ी कंपनियों से थोड़ी सी कम होती है।

अगर हम एचआर की सैलरी के बारे में बात करें तो इन्हें महीने की सैलरी के तौर पर ₹30000 से लेकर ₹35000 की सैलरी मिलती है। इसके अलावा इन्हें पीएफ और ग्रेजुएटी का लाभ भी मिलता है, साथ ही इन्हें वार्षिक छुट्टी भी मिलती है। इसके अलावा भी कुछ कंपनियां एचआर को विशेष तौर पर अपनी तरफ से सुविधाएं देती है।

■ एचआर मैनेजमेंट में करने वाले कोर्स की जानकारी

– पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट

– पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट

– एमबीए इन ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट

– मास्टर ऑफ ह्यूमन रिसोर्स ऐंड ऑर्गनाइजेशनल डेवलपमेंट

– एम टेक इन एच आर मैनेजमेंट

– पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन पर्सनल मैनेजमेंट एंड इंटरनेशनल बिज़नेस

– डिप्लोमा इन एच आर मैनेजमेंट

■ एचआर मैनेजमेंट का कोर्स करने के लिए इंडिया के संस्थान

– एमिटी स्कूल ऑफ मैनेजमेंट, नई दिल्ली

– नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पर्सनल मैनेजमेंट, मुम्बई

– टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज, मुम्बई

– मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, इम्फाल

– देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, इंदौर

– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, बंगलोर

– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, अहमदाबाद

– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, कोझीकोड़

– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, लखनऊ

– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, कलकत्ता

– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली

– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर

– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, बॉम्बे

– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रुड़की

■ एचआर मैनेजमेंट में करियर स्कोप

एचआर मैनेजमेंट में कैरियर का बहुत ही अच्छा भविष्य है क्योंकि एचआर में व्यक्ति को शारीरिक काम कम ही करना पड़ता है बल्कि इसमें दिमाग का अधिक इस्तेमाल किया जाता है। आपने देखा होगा कि जो एचआर मैनेजमेंट का काम करते हैं वह किसी भी कंपनी के एसी ऑफिस में बैठते हैं और वहीं से बैठे-बैठे ही वह अपने अधिकतर काम करते हैं

क्योंकि इनका मुख्य तौर पर काम होता है किसी भी कंपनी में अच्छे और कुशल कर्मचारियों को भर्ती करना और भर्ती करने से पहले उनके सभी डॉक्यूमेंट और उनके बारे में जानकारी प्राप्त करना।

जब एचआर किसी वर्कर को कंपनी में भर्ती करने के लिए राजी हो जाता है, तब वह उन सभी वर्कर की लिस्ट अपने मालिक को भेजता है और फिर अप्रूवल मिलने के बाद सभी वर्कर कंपनी में काम करने लगते हैं।

हालांकि अधिकतर कंपनियों में एचआर को ही किसी भी वर्कर को काम पर लगाने का अधिकार होता है तथा कुछ कंपनियों में मालिक का अप्रूवल मिलने के बाद ही कर्मचारी की भर्ती होती है।

■ जॉब प्रोफाइल इन एचआर मैनेजमेंट

एचआर मैनेजमेंट के अंतर्गत आप विभिन्न प्रकार के पदों पर नौकरी प्राप्त कर सकते हैं। एचआर मैनेजमेंट के अंदर आप कौन से पदों पर नौकरी प्राप्त कर सकते हैं, उसकी जानकारी हमने आपको नीचे दी है,आइए इस पर एक नजर डालते हैं।

– एचआर रिक्रूटर

– एचआर जनरलिस्ट

– कंपनसेशन मैनेजर

– एचआर स्पेशलिस्ट

– टेक्निकल रिक्रूटर

– ट्रेनिंग एंड डेवलपमेंट मैनेजर

– कंपनसेशन मैनेजर

– एम्पलॉयी रिलेशन्स मैनेजर

■ एचआर मैनेजमेंट के कोर्स के लिए एंट्रेंस एग्जाम

अगर आप एचआर मैनेजमेंट में डिप्लोमा, डिग्री, सर्टिफिकेट कोर्स करना चाहते हैं, तो हो सकता है कि आपको कुछ एंट्रेंस एग्जाम देनी हो। हमने सभी एंट्रेंस एग्जाम के नाम आपको नीचे दिए हैं, जो आपको देनी पड़ सकती है। हालांकि डिप्लोमा, डिग्री या सर्टिफिकेट के लिए आपको नीचे बताई गई परीक्षा में से कोई एक ही परीक्षा देनी होगी।

कैट,मैट,सेट,एआईएमए-एमएटी,सीएटी (कॉमन एडमिशन टेस्ट),आईआईएफटी,एक्सएटी,एमएएच – एमबीए/ एमएमएस सीईटी (महाराष्ट्र एमबीए कॉमन एंट्रेंस टेस्ट),एसएनएपी (सिम्बायोसिस नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट),एमआईसीएटी,सीएमएटी (कॉमन मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट),जीएमएसी द्वारा एनएमएटी,आईबीएसएटी (आईबीएस एप्टीट्यूड टेस्ट), आदि

■ रिक्रूटर फॉर एचआर

ऐसे अभ्यर्थी जिन्होंने एचआर मैनेजमेंट का कोर्स कर लिया है या फिर जो एचआर मैनेजमेंट का कोर्स कर के एचआर की नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं उन्हें इसके बारे में जानकारी होना अति आवश्यक है कि एचआर मैनेजमेंट का कोर्स पूरा करने के बाद उन्हें कहां और कौन-कौन सी कंपनी में नौकरी प्राप्त हो सकती है।

अगर आपको इसके बारे में बिल्कुल भी जानकारी नहीं है तो चिंता बिल्कुल भी ना करें क्योंकि नीचे हमने आपको कुछ ऐसी कंपनियों की लिस्ट दी है, जो अपनी कंपनी में एचआर की भर्ती करती हैं।

यह कंपनियां काफी बड़ी कंपनियां है और अगर आपकी नौकरी इनमें से किसी भी कंपनी में लग जाती है, तो आपको काफी मान सम्मान प्राप्त होगा।

इसके अलावा आपकी महीने की सैलरी भी अच्छी खासी रहेगी, क्योंकि यह हमारे भारत देश की टॉप कंपनियां हैं, जो अलग-अलग फील्ड से जुड़े हुए काम कर रही हैं।

– कैली सर्विसेज
– ABC कंसल्टेंट
– एडेको इंडिया
– एडिको ग्रुप नॉर्ट अमेरिका
– रैंडस्टैंड इंडिया
– बॉडी शॉपिंग
– आईकेवाईए
– डेविडसन ग्लोवल टेक्नोलॉजी
– एओएन
– मैनपॉवर ग्रुप
– केली सर्विसेज
– टीमलीज
– आरएच फैक्टर
– केफोर्स
– रैंडस्टैड होल्डिंग
– एचआर फुटप्रिंट्स
– वाइज ग्रुप
– एस्के मैनेजमेंट सोल्यूशन्स
– रैंडस्टैड इंडिया
– ओबीओएक्स एचआर सोल्यूशन्स
– एस्के मैनेजमेंट सोल्यूशन्स
– टेली रेसॉर्स
– इंफोसिस
– विप्रो
– टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, आदि

■ एचआर मैनेजमेंट में इंटर्नशिप

एचआर मैनेजमेंट में पोस्ट पोस्टग्रेजुएट का कोर्स करने के बाद आप चाहे तो इस फील्ड में इंटर्नशिप भी कर सकते हैं। इंटर्नशिप करने के बाद आपको इस फील्ड में आगे बढ़ने में काफी मदद मिलेगी।

इंटर्नशिप करने के बाद आपने जिस भी विषय में इंटर्नशिप की है, उसमें आपको काफी एक्सपीरियंस हो जाता है और इसके बाद आपको आगे बढ़ने के चांस मिलते हैं, साथ ही जब आपकी पदोन्नति होती है, तो आपकी तनख्वाह भी अच्छी हो जाती है। आप नीचे बताए गए विषयों में इंटर्नशिप कर सकते हैं।

– रिक्रूटमेंट एंड स्टाफिंग
– डेवलपमेन्ट एंड ट्रेनिंग
– कंपनसेशन एंड रिवॉर्ड मैनेजमेंट
– लेबर और कर्मचारी का संबंध

आपकी और दोस्तों

तो दोस्तों ये था hr का फुल फॉर्म क्या होता है, हम उम्मीद करते है की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको hr के फुल फॉर्म के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी|

यदि आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी तो पोस्ट को १ लाइक और शेयर जरुर करे ताकि अधिक से अधिक लोगो को hr के फुल फॉर्म के बारे में जानकारी मिल पाए धन्येवाद दोस्तों|

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.