31 Helen Keller Quotes in Hindi | हेलेन केलर के अनमोल विचार वचन



Helen Keller Quotes in Hindi

हेलेन केलर के अनमोल विचार वचन

हेलेन केलर कोट्स इन हिंदी में

  1. कभी भी अपना सिर मत झुकाओ, इसे ऊँचा रखो दुनिया की आँखों में ऑंखें डाल के देखो
  2. रास्ते में मोड़ रास्ते का अंत नहीं होता? जब तक आप मुड़ने में असफल नहीं होते
  3. आपकी सफलता और खुशी आपके अंदर है
  4. जीवन या तो एक साहसिक जोखिम है या फिर कुछ भी नहीं
  5. जीवन में सीखने के लिए ऐसे बहुत से सबक हैं जिन्हे समझने के लिए उन्हें जीना होगा
  6. मैं मानती हूँ कि आत्मा अमर है क्योंकि मेरे अंदर बहुत सी कभी न खत्म होने वाली इच्छाएं हैं
  7. अकेले हम कितना कम हासिल कर सकते हैं और साथ में कितना ज्यादा
  8. जब तक मेरे प्यारे दोस्तों की यादें मेरे दिल में जिन्दा है तब तक जीवन मेरे लिए अच्छा है
  9. दुनिया की सबसे खूबसूरत चीजें ना ही देखी जा सकती हैं और ना ही छुई उन्हें बस दिल से महसूस किया जा सकता है
  10. पूरी दुनिया कष्टों से भरी है। और उन कष्टों को पार पाने से भी
  11. यदि हम अपने काम में लगे रहे तो हम जो चाहें वो कर सकते हैं
  12. विश्वास वो शक्ति है जिससे उजड़ी हुई दुनिया में भी प्रकश किया जा सकता है
  13. दुनियाँ के यदि खुशियाँ ही खुशियाँ हो तो हम बहादुर होना और धैर्यवान होना, कभी भी सीख ही नहीं सकते थे
  14. लोग अपने अनुभव के आधार पर बहुत ही कम जानते है और सोचते है की जो वह जानते है वही सब-कुछ है
  15. मैं महान और अच्छे काम करना चाहती हूँ, लेकिन यह मेरा परम कर्तव्य है कि मैं छोटे कामों को भी ऐसे करूँ जैसे कि वो, महान और नेक हों
  16. युद्ध के विरुद्ध कोई भी प्रहार आपके बिना नहीं किया जा सकता
  17. शिक्षा का सबसे बेहतरीन और उत्तम ज्ञान हमें सहिष्णु होना सिखाना हैं
  18. भविष्य में अच्छा होने का भाव एक ऐसा विश्वास है जो आदमी को उपलब्धि की ओर ले जाता है
  19. यदि हम अपने काम में लगे रहे तो हम जो चाहें वो कर सकते हैं
  20. खुशी एक ऐसी चीज है जो कभी हमारे बाहर से नहीं बल्कि हमारे अंदर से ह्दय से आती है
  21. प्रकाश में अकेले चलने से बेहतर है कि अँधेरे में मित्र के साथ काम किया जाएँ
  22. खुशी एक ऐसी चीज है जो कभी हमारे बाहर से नहीं बल्कि हमारे अंदर से, ह्दय से आती है
  23. जीवन एक बहुत ही मजेदार है एंव यह तब और अधिक मजेदार बन जाता है जब आप इसे दूसरों के लिए जीते है
  24. मैं दिन के उजाले में अकेले चलने की तुलना में अंधेरी रात में एक दोस्त के साथ चलना ज्यादा पंसंद करूंगी
  25. खुशी एक ऐसी चीज है जो कभी हमारे बाहर से नहीं बल्कि हमारे अंदर से, ह्दय से आती है
  26. आत्मदया हमारा सबसे बड़ा शत्रु है और अगर हम इसके सामने झुके तो दुनिया में हम कभी भी कुछ भी अच्छा नहीं कर पायेगे
  27. मैं कभी-कभी अपनी कमियों के विषय में सोचती हूँ, पर वो मुझे कभी दुखी नहीं करते। फिर भी एक-दो बार थोड़ी पीड़ा तो होती ही है, पर वह फूलों के बीच में हवा के झोंके के समान अस्पष्ट होते है
  28. हम वह सबकुछ कर सकते हैं जिसे करने कि हम इच्छा रखते है। बस शर्त यह है कि जो करे उसमें तनमयता से लगे रहे
  29. दुनिया का सबसे दयनीय मनुष्य वह है जिसके पास दृष्टि तो है लेकिन भविष्य के लिए कोई सोच या नजरीया नहीं
  30. अकेले कार्य कर हम बहुत कम हासिल कर सकते हैं, और साथ में बहुत ज्यादा
  31. जब कोई उड़ने की ताकत महसूस कर रहा हो तो वो रेंगने के लिए कैसे तैयार हो सकता है