घमंडी बारहसिंगा हिरण की कहानी



घमंडी हिरण की कहानी – हेल्लो दोस्तों आज की कहानी है एक घमंडी बारहसिंगा की कहानी जिसको पढ़कर आपको एक बहुत ही अच्छी सीख मिलेगी जो की आपके अपने जीवन में हमेशा याद रखना चाहिए. इस स्टोरी को पढने के बाद आपको पता चल जायेगा की किसी भी चीज पर बहुत ज्यादा घमंड करने से वो एक दिन बहुत ज्यादा पछताता है.

आप इस कहानी को पूरा जरुर पढ़े और आपको ये कहानी जरुर पसंद आयेगी. तो चलो दोस्तों ज्यादा समय ना लेते हुए हम आज के इस बहुत ही अच्छे स्टोरी की शुरुवात करते है.

जरुर पढ़े – दो मित्र और भालू की कहानी

घमंडी बारहसिंगा हिरण की कहानी

Ghamandi barasingha ki kahani

गर्मियों का दिन था. एक जंगल में एक बारहसिंघा हिरण रहता था एक दिन वह झरने पर पानी पीने के लिए चला गया. जैसे ही वह बारहसिंघा पानी पी रहा था उसको वह साफ पानी में अपनी परछाई दिखाई दी.

पानी में अपनी परछाई को देखकर हिरण ने कहा अरे वाह मेरे सींग कितने सुंदर लग रहे हैं. लेकिन मेरी टांग कितनी ज्यादा पतली है और कितनी खराब लगती है जिसकी वजह से उसको बहुत शर्मिंदगी महसूस होती है और मुझे अच्छा नहीं लगता है.

उसने अपने मन ही में सोचा कि काश मेरी टांग भी मेरी सींग जितनी सुंदर होती तो कितना अच्छा होता. जैसे ही वह हिरन यह बात सोच कर वापिस जा रहा था उसको एक शिकारी और शिकार करने वाले कुत्ते की आवाज सुनाई दी.

उनकी आवाज सुनकर हिरण बहुत ज्यादा डर गया और वह अपनी रक्षा करने के लिए और अपनी जान बचाने के लिए वहां से तुरंत ही दौड़ गया. जिन टांगों के बारे में बारहसिंघा बहुत ज्यादा बुराई कर रहा था और दुखी हो रहा था उन्हीं टांगो की मदद से आज वह सुरक्षित स्थान पर उन शिकारी और कुत्ते से बचकर पहुंच पाया था.

लेकिन जिन सींघो पर उसको बहुत ज्यादा गर्व और घमंड था उनकी वजह से वह झाड़ियों में फस गया. हिरण ने अपने आप को झाड़ियों से निकालने की बहुत कोशिश करी लेकिन उसके सींग बहुत बुरी तरीके से झाड़ियों में फंसे हुए थे और बारहसिंघा उसको झाड़ियों से निकालने में कामयाब नहीं हो पा रहा.

उसने अपनी लाख कोशिश कर डाली लेकिन उसकी सभी मेहनत बेकार हो रही थी. हिरण जितना अपने सींगों को हिलाता वह उतना ही ज्यादा झाड़ियों में और उलझते जाते. जिसकी वजह से शिकारी अपने कुत्ते के साथ बिरहन के छुपे हुए स्थान पर आता है और बड़े आसान तरीके से उस बारहसिंघा को पकड़ लेता है.

और फिर उसके बाद वह हिरण को काटकर टुकड़े टुकड़े कर देता है जिसकी वजह से वह घमंडी हिरण की मृत्यु हो जाती है.

शिक्षा – दोस्तों इस कहानी से हम लोगों को यह सीख मिलती है जो चीज जैसी दिखती है असल में वह ऐसी नहीं होती है. हमें अपनी किसी भी वस्तु को बेकार और खराब नहीं कहना चाहिए.

हम को भगवान ने जैसा बनाया है हमको उसमें खुश रहना चाहिए क्योंकि भगवान जो कुछ भी करता है हमारे अच्छे के लिए ही करता है.

पढ़े – Camel and Jackal Story in Hindi

आपकी और दोस्तों

तो मित्रो ये था घमंडी बारहसिंगा हिरण की कहानी, हम उम्मीद करते है की आज की ये कहानी पढ़कर आपको बहुत ही अच्छी सीख मिली होगी और यदि आपको हमारी ये स्टोरी पसंद आई तो इसको अपने दोस्तों और घर परिवार वालो के साथ शेयर जरुर करे.

और ऐसे ही दुसरे अच्छे कहानिया पढने के लिए हमारे ब्लॉग पर रेगुलर आया करे. धन्येवाद दोस्तों.