गाँधी जयंती पर कविता | Gandhi Jayanti Poem in Hindi

Gandhi Jayanti Poem in Hindi: नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपके साथ गाँधी जयंती पर कविता शेयर करने वाले है जिसको पढ़कर आपको बहुत अच्छा लगेगा. भारत में गाँधी जयंती २ अक्टूबर को मनाया जाता है.

इस दिन गाँधी जी का जन्म हुआ था और इस दिन नेशनल हॉलिडे भी होती है. दोस्तों गाँधी जी की वजह से आज हम आजाद घूम रहे है और अपनी लाइफ को एन्जॉय कर पा रहे है.

हम पुरे दिल से हमेशा गाँधी जी के आभारी रहेंगे. तो दोस्तों चलो अब गाँधी जयंती पर कविता पढ़ लेते है और आप भी ये सभी कविता को पढ़े आपको बहुत अच्छा लगेगा.

गाँधी जयंती पर कविता

Gandhi Jayanti Poem in Hindi

Gandhi Jayanti par kavita

1. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी

स्वतंत्र भारत का देखा सपना
गांधीजी जिनका नाम था
दो अक्टूबर को जन्मे
गुजरात पोरबंदर जन्म स्थान था।।

देश को आजाद कराने में
गांधी जी का महत्वपूर्ण योगदान था
भारत के थे राष्ट्रपिता
बापू भी इनका नाम था।।

अहिंसा के थे पुजारी
स्वावलंबन के अधिकारी
भारत छोड़ो आंदोलन में
निभाई महत्वपूर्ण हिस्सेदारी।।

कई बार गए गए थे जेल
सत्य अहिंसा इनका काम था
गांधी जी के महान विचारक
मोहनदास करमचंद गांधी इनका पूरा नाम था।।

सादा जीवन उच्च विचार
इनके दो ही काम था
राष्ट्रपिता थे भारत के गांधी जी जिनका नाम था
ऐसे महापुरुष को बारम्बार प्रणाम था।।

2. आजादी गांधी जी पर कविता

आजादी की राह पर चलना, बापू तुमने सिखलाया था
साफ सफाई को महत्व दिया, स्वदेशी को अपनाया था।।

स्वाभिमान से जीवन जीना भी तुमने सिखलाया था
सत्य निष्ठा पर चलना जीवन का सार बताया था।।

दूसरों पर आश्रित ना रहकर, स्वावलंबी बनना सिखाया था
जीवन जीने का उद्देश्य, देश हित भी बतलाया था।।

कहीं कुरीतियों का अंत किया, कहीं प्रथाओं को बंद कराया
समाज में महिलाओं को सम्मान का अधिकार दिलाया।।

चरखा चलाकर सुत काता, खादी को अपनाया था
अकेली एक लाठी के दम पर, अंग्रेजों को मार भगाया था।।

आजादी का मतलब, तुमने बापू सिखलाया था
गुरु से देश को आजाद भी तुमने कराया था।।

3. भारत की आजादी गांधी जी पर कविता

राजदूत थे, राष्ट्रपिता थे, शांतिदूत सरल स्वभाव महापुरुष थे
आजादी का सपना देखा, पूरा करने वाले युगपुरुष थे।।

विजय का परचम लहराया
1947 में जब भारत को आजाद कराया
जिधर जिधर पांव रखा
जनमानस का सम्मान है पाया
भारत को एक छत्र बनाकर हिंदुस्तान राष्ट्र बनाया।।

सब उपदेश दिया करते हैं
पर गांधी जी ने करके दिखाया
जो सपना देखा भारतवासी ने
उस भारत को आजाद कराया।।

ना हथियार ना बंदूक की गोली
बिना लड़े यह विश्व जिताया
आंदोलन को जन्म दिया
तब जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी कहलाया।।

बड़े-बड़े को मात दी, हिंदुस्तान का परचम लहराया
जो सपना देखा सबने भारत को आजाद कराया।।

4. गांधीवाद कविता

अंग्रेजों के सामने ना घुटने टेके थे
भारत का सम्मान बढ़ाया था
बाबू तुम सबने तो हमारा मान बढ़ाया था
दांडी यात्रा की तुमने पानी से नमक बनाया था।।

सत्याग्रह किया तुमने,
स्वदेशी को अपनाया था
आजादी की लड़ाई में
खून अपना बहाया था।।

बलिदान किया तुमने सर्वस्व
भारत को अपनाया था
सत्य अहिंसा के पुजारी
हम सब का मान बढ़ाया था।।

स्वदेशी अपनाओ विदेशी भगाओ
यह भी तुम्हारा नारा था
कहीं बाहर गए जेल
पर बापू कभी ना हारा था।।

सीने पर खाई थी गोली
पर भारत को एक बनाया था
हर फर्ज अदा किया मिट्टी का
गांधीवादी अपनाया था।।

बारम्बार तुमको प्रणाम ऐसे थे गांधीजी महान….

5. बापू तुम अमर रहोगे

जन्म हुआ 2 अक्टूबर पोरबंदर गुजरात में
सत्यवादी हरिश्चंद्र थे उनके स्वभाव में
जो कहा था वही किया
कथनी और करनी थी आत्म सम्मान में
बापू तुम अमर रहोगे सदा इस हिंदुस्तान में।।

सुभाष चंद्र बोस ने दिया राष्ट्रपति नाम था
पहली बार 4 जून को दिया यह सम्मान था
हिंदू स्वराज्य नहीं रामराज्य चाहते थे
गांधीजी वो महापुरुष से देश को पहले चाहते थे।।

महात्मा नाम दिया था रविंद्र नाथ टैगोर ने
स्वच्छता का संदेश दिया, गांधीजी ने जीवंत रूप में
दुनिया को अहिंसा का पाठ पढ़ाया
खुद हिंसा के द्वारा मारे गए।।

पर मर कर भी तुम अमर हुए इस हिंदुस्तान में
बापू तुम अमर रहोगे हर दिल हर जान में।।

6. भारत के निर्माता गांधी जी पर कविता

आधुनिक भारत के निर्माता थे
स्वतंत्रता के परिचायक थे
आंदोलन के महानायक थे
सत्य अहिंसा के प्रबल समर्थक
गांधीजी महान विचारक थे।।

2 अक्टूबर अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता है
गांधी जी का सम्मान करो यह बतलाया जाता है
गांधी जी थे महान विचारक
उनके विचारों को अपनाया जाता है।।

रंगभेद का विरोध किया
हिंदू स्वराज की पुस्तक लिखी
सत्याग्रह आंदोलन किया
जेल गए अपमान सहा
पर भारत मां का नाम किया।।

ऐसे थे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी
आधुनिक भारत के स्वामी।।

7. गांधी जी पर छोटी कविता

जब भारत को गुलामी की जंजीरों में जकड़ा था
जन्म लिया इस महापुरुष ने
हिंदुस्तान के साथ खड़ा था।।

सत्य अहिंसा की दम पर लड़े
ब्रिटिश शासन को मार भगाया था
ज्ञान दिया अनेक इन्होंने
अमन शांति का पाठ पढ़ाया था।।

क्रांतिकारी सोच थी इनकी
सरल स्वभाव पहचान था इनका
फिरंगियों को बर्बाद किया
महात्मा गांधी नाम था इनका ।।

कई आंदोलन किए इन्होंने
गरीबों का साथ दिया
कांग्रेस पार्टी बनाई
सब लोगों का सम्मान किया।।

8. बच्चों की गांधी जी पर कविता

बापू हमारे सबसे न्यारे
राष्ट्रपिता थे हमारे
नोटों पर आती है फोटो इनकी
गांधी जी थे हम सबके प्यारे।।

2 अक्टूबर को हम गांधी जयंती मनाएंगे
स्कूल जाकर शिक्षा लेंगे
उनके बारे में बतलाएंगे
उत्सव मनाएंगे मिठाईयां खाएंगे
बापू का जन्मदिन मनाएंगे।।

टीचर देंगे भाषण, हम भी कविता सुनाएंगे
बापू का आदेश मानेंगे
उनके पद चिन्हों पर चल जाएंगे
सत्य बोलेंगे हमेशा आदर्शवादी बन जाएंगे।।

गांधी जी के तीन बंदर उनके बारे में बतलाएंगे
गांधी जी के विचारों को जन-जन तक पहुंचाएंगे
हम बच्चे भी खुशी के गीत गाएंगे
स्कूल जाकर आज हम गांधी जयंती मनाएंगे।।

9. गांधी जयंती पर छोटी कविता

गांधी जी का नाम करो
उनकी सब पहचान करो
उनके आदर्शों पर चलकर
अपने जीवन को तुम महान करो।।

सत्य बोलो सद्भाव रखो
प्यार और मान सम्मान करो
गांधी जी के विचारों का तुम आदान प्रदान करो
स्वावलंबी बनो भक्ति करो किसी का ना अपमान करो।।

दूसरों की सहायता करो
देश हित में ऐसा काम करो
राष्ट्र पर मर मिटो
भारत का ऐसा नाम करो
आओ गांधी जयंती पर गांधी जी को प्रणाम करो।।

10. गांधी जी सत्य अहिंसा के पुजारी

गांधी जी ने बहुत किया राष्ट्र हित में काम
फिर भी कुछ लोग करते हैं गांधी जी का अपमान।।

कई आंदोलन किए इन्होंने चंपारण, खेड़ा आंदोलन
अंग्रेजों को चुनौती दी, प्रसिद्ध हुआ था रेल कांड।।

लाल बहादुर शास्त्री भी जन्मे इस दिन
2 अक्टूबर था महान
आओ हम सब मिलकर करें
इन दोनों महापुरुषों को प्रणाम।।

हिंसा से ना करो काम
अहिंसा का करो सम्मान
देश भक्ति में दिखलाओ
देश प्रेम नाम कमाओ।।

बापू ना होते तो ना बनता है यह देश महान
आज ना होते आजाद हम सब रहते बनकर गुलाम
गांधी जयंती पर आओ करें हम गांधी जी को प्रणाम।।

11. गांधीजी के राष्ट्र हित में काम

गांधीजी की थी वेशभूषा न्यारी
धोती पहनने थी इनको प्यारी
शांति निकेतन आश्रम था इनका
सूत कातना काम था इनका।।

हाथ में लाठी दिल में प्रेम
सारी जनता इनके पीछे
एक था नायक एक रूप अनेक।।

प्रथम आंदोलन किया चंपारण
नायक रूप में हुआ सम्मान
विचारधारा जीवन शैली
दार्शनिक चिंतन थे इनके काम।।

सन 1918 में मजदूरों के लिए की भूख हड़ताल
अहमदाबाद था मिल का नाम
वल्लभ भाई का साथ मिला
हर तरफ चर्चा में गांधीजी का नाम।।

आओ हम सब मिलकर करें
गांधी जयंती पर इनको प्रणाम।।

12. गांधीजी किसान हितेषी

किसानों को दिया था साथ
अंग्रेजों के विरुद्ध थे गांधीजी के हाथ
नील की खेती पर लगाई रोक
किसानों को दिलवाया था उनका सम्मान।।

लगान को कम करवाया
कटिया प्रणाली की समाप्त
अनेक अथक प्रयासों से
भारत बना स्वतंत्र महान।।

जलियांवाला बाग हुआ नरसंहार हत्याकांड
खिलाफत आंदोलन में किया गांधी जी ने नेतृत्व महान।।

असहयोग आंदोलन किया
मोतीलाल, चितरंजन दास के साथ
ब्रिटिश शासन को उखाड़ फेंका
दृढ़ इच्छाशक्ति आत्मविश्वास के साथ।।

आओ हम सब मिलकर करें
इन्हें गांधी जयंती पर प्रणाम।।

13. गांधी जी थे महान

गांधीजी ने चलाया अंतिम स्वतंत्रता आंदोलन
द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान
वह था भारत छोड़ो आंदोलन
ऐसा था गांधी जी का काम।।

गिरफ्तार किया ब्रिटिश सरकार ने
झुकाने भारत का सम्मान
विफल रहा प्रयास
दूसरे नेताओं ने रखा आंदोलन का मान।।

सर्वोदय का विचार दिया
देश का किया कल्याण
पंचायती संस्थाओं का विकास हुआ
स्वच्छता का किया अभियान
कहीं योजनाओं की नींव रखी
राष्ट्रहित में किया कल्याण।।

आओ हम सब मिलकर करें
गांधी जयंती पर इनको प्रणाम।।

आपकी और दोस्तों:

तो दोस्तों ये था गाँधी जयंती पर कविता ( Gandhi Jayanti Poem in hindi), हम उम्मीद करते है की आपको ये सभी कवितायेँ अच्छी लगी होगी. अगर आपको ये कविता पसंद आई तो इस पोस्ट को १ लाइक जरुर करे और अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया साइट्स पर भी शेयर करना ना भूले|

आपको हमारी ये कविता किसी लगी इसके बारे में भी कमेंट में हमारे साथ शेयर करे. धन्येवाद दोस्तों|

Leave a Comment

Your email address will not be published.