फुटबॉल प्लेयर कैसे बने | फूटबाल में करियर कैसे बनाये

फुटबॉल प्लेयर कैसे बने: अगर आप फुटबॉल प्लेयर बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको अच्छे से फुटबॉल का खेल खेलना आना चाहिए, तभी आप आगे चलकर एक अच्छे और सफल फुटबॉल प्लेयर बन पाएंगे।

वैसे तो हमारे भारत देश में तथा पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा क्रिकेट के खेल को पसंद किया जाता है और इसके लिए हर साल सबसे अधिक टूर्नामेंट का आयोजन क्रिकेट का ही होता है।

परंतु इसके अलावा भी दुनिया में ऐसे कई खेल है, जो लोगों को काफी पसंद आते हैं और उन्हीं में से एक खेल फुटबॉल भी है।हालांकि हमारे भारत देश में फुटबॉल को लोग इतना पसंद नहीं करते हैं|

परंतु फिर भी धीरे-धीरे भारत में भी इसके प्रति लोगों की दीवानगी बढ़ रही है।फुटबॉल के चाहने वाले हमारे भारत देश में भी धीरे-धीरे बढ़ रहे हैं, तो ऐसे में आपको परेशान होने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है

अगर आप फुटबॉल प्लेयर अथवा फुटबॉल का खिलाड़ी बनना चाहते हैं, तो आज इसके बारे में हम आपको पूरी जानकारी देने वाले हैं। आज के इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप यह जान जाएंगे कि, आखिर एक फुटबॉल प्लेयर या फिर फुटबॉल खिलाड़ी कैसे बना जाता है।

फुटबॉल में कैरियर बनाना इतना आसान भी नहीं है, परंतु मुश्किल भी नहीं है। फुटबॉल में कैरियर बनाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है और इसके अलावा आपको इसमें कैरियर बनाने के लिए चुस्त और दुरुस्त रहना पड़ता है, क्योंकि यह गेम फुर्तीला होता है।

वैसे तो फुटबॉल केवल 90 मिनट का गेम होता है, परंतु अगर आप शारीरिक रूप से मजबूत नहीं है, तो आपको 90 मिनट के अंदर ही थकावट महसूस होने लगेगी।

इसलिए शारीरिक रूप से फिट रहने के के लिए आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। आइए जानते हैं कि फुटबॉल प्लेयर कैसे बना जाता है और फुटबॉल प्लेयर बनने के लिए कौन-कौन सी योग्यताएं होनी चाहिए।

फुटबॉल प्लेयर कैसे बने

फूटबाल में करियर कैसे बनाये

Football player kaise bane

1. फुटबॉल क्या है

फुटबॉल की गिनती विश्व के सबसे एंटरटेनमेंट वाले खेलों में होती है। इसे दुनिया के विभिन्न देशों में युवाओं द्वारा रुचि के साथ खेला जाता है।फुटबॉल का खेल बहुत ही रोमांचकारी और चुनौतियों से भरा होता है।

भारत में अधिकतर फुटबॉल का खेल ग्रामीण इलाके में खेला जाता है।फुटबॉल के खेल को इटली में “रग्बी” कहा जाता है। सबसे पहले फुटबॉल पश्चिमी देशों में खेला जाता था और वहां से यह खेल पूरे दुनिया में फैल गया। फुटबॉल की हर टीम में 11 खिलाड़ी होते हैं, जिनका लक्ष्य एक दूसरे के खिलाफ अधिक गोल करना होता है।

2. फुटबॉल खेल का इतिहास

फुटबॉल शब्द की उत्पत्ति के बारे में लोगों की अलग-अलग राय है। फुटबॉल के खेल में गेंद को पैर से मारना होता है, जिसके कारण इसका नाम फुटबॉल पड़ गया। किसी को भी फुटबॉल खेल के नाम की वास्तविक उत्पत्ति के बारे में पता नहीं।

फीफा के अनुसार फुटबॉल एक चीनी खेल सुजु का विकसित रूप है। इस खेल को चीन में हया वंश के द्वारा चालू किया गया था।

3. फुटबॉल के लिए एकेडमी का चयन

अगर आप फुटबॉल प्लेयर बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपको किसी न किसी फुटबॉल अकैडमी को ज्वाइन करना जरूरी है, क्योंकि फुटबॉल अकैडमी में आपको फुटबॉल के बारे में हर एक चीज विस्तार से बताई जाती है|

तथा आपको प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी दी जाती है। इसके अलावा फुटबॉल अकैडमी में शामिल होने से आपको यह भी पता रहेगा कि फुटबॉल के अपकमिंग टूर्नामेंट कौन कौन से हैं।

फुटबॉल अकैडमी जॉइन करने से आपकी खेल खेलने की कला का विकास होता है और आपको नई नई चीजों को सीखने का मौका मिलता है।

नीचे हमने भारत की कुछ लोकप्रिय फुटबॉल एकेडमी की लिस्ट दी है, जहां पर आप शामिल हो सकते हैं और अच्छा फुटबॉल प्लेयर बनने का गुण सीख सकते हैं।यह सभी फुटबॉल अकैडमी विश्वसनीय है।

  • प्रीमीयर इंडियन फुटबॉल एकेडमी
  • टाटा फुटबॉल एकेडमी
  • ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन
  • इंडियन टाइगर फुटबॉल अकैडमी
  • कोलकाता फुटबॉल अकैडमी

4. फुटबॉल प्लेयर की कमाई

बहुत से लोगों के मन में यह सवाल आता है कि आखिर एक फुटबॉल प्लेयर कितने पैसे कमाता है, तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि फुटबॉल प्लेयर महीने की 100000 से भी अधिक रुपए कमाता है। हालांकि इसके अलावा उन्हें अन्य बहुत से फायदे भी होते हैं।

उदाहरण के तौर पर अगर कोई फुटबॉल प्लेयर किसी फुटबॉल मैच में अच्छा प्रदर्शन करता है या फिर अधिक गोल करता है, तो उसे इनाम के तौर पर ही इतने रुपए मिल जाते हैं, कि उसे चाहे सैलरी मिले या ना मिले, उसे उससे कोई मतलब नहीं होना चाहिए।

फुटबॉल प्लेयर को एक मैच में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद 5000000 से लेकर एक करोड़ तक के रुपए भी इनाम के स्वरूप मिल जाते हैं।इसके अलावा गोल्ड मेडल, सिल्वर मेडल जैसी अन्य वस्तुएं भी फुटबॉल प्लेयर को अच्छा प्रदर्शन करने के बदले प्राप्त होती हैं।

इसीलिए हम यह कह सकते हैं कि फुटबॉल प्लेयर की कमाई असीमित होती है, वह जितना ज्यादा अच्छा प्रदर्शन करते हैं, उन्हें उतने ही ज्यादा पैसे इनाम के स्वरूप और सैलरी के स्वरूप मिलते हैं।

5. इंडियन फुटबॉल टीम में सिलेक्शन कैसे होता है

इंडियन फुटबॉल टीम में प्रवेश पाने के लिए सबसे पहले आपको किसी अच्छी एकेडमी में शामिल होना पड़ता है और उस अकैडमी में फुटबॉल से संबंधित सभी चीजों को सीखना होता है।

इसके बाद आप जिस एकेडमी में शामिल हुए हैं, उस एकेडमी के अधिकारी ही आपको जिला स्तर, राज्य स्तर और नेशनल स्तर पर फुटबॉल टूर्नामेंट में खेलने का मौका देते हैं।

अगर आप इन सभी टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन करके दिखाते हैं, तो उसके बाद आपका सिलेक्शन भारतीय फुटबॉल टीम में हो जाता है।भारतीय फुटबॉल टीम में सिलेक्ट होने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ती है, इसीलिए आपको अधिक मेहनत करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

6. भारतीय फुटबॉल टीम फीफा वर्ल्ड कप में क्यों नहीं खेलती

फुटबॉल दुनिया के सबसे अधिक लोकप्रिय खेलों में से एक खेल है और हर साल दुनिया के किसी न किसी देश में फुटबॉल वर्ल्ड कप का आयोजन तथा अन्य टूर्नामेंट का आयोजन करवाया जाता है।

दुनिया के सभी देशों के पास अपनी नेशनल फुटबॉल टीम होती है, परंतु फीफा वर्ल्ड कप में टॉप 32 टीम ही फुटबॉल का खेल खेलती है, जिसमें हमारा भारत देश शामिल नहीं है।

क्योंकि हमारे भारत देश की फीफा रैंकिंग बहुत ही कम है, इसीलिए हमारा भारत देश फीफा वर्ल्ड कप में शामिल नहीं हो पाता। जब कभी हमारे भारत देश की फीफा रैंकिंग बनेगी, तो हमारा भारत देश भी फीफा वर्ल्ड कप में शामिल हो पाएगा।

7. भारत में फुटबॉल कैरियर के अवसर

हम सभी यह अच्छी तरीके से जानते हैं, कि हमारे भारत देश में फुटबॉल का खेल बहुत ज्यादा लोकप्रिय नहीं है, परंतु पिछले कुछ सालों से लोगों के बीच फुटबॉल के खेल की लोकप्रियता धीरे-धीरे बढ़ रही है।

ऐसे में सरकार भी चाहती है, कि फुटबॉल का खेल भारत में लोकप्रिय हो, इसलिए सरकार भी फुटबॉल के लिए अलग से फंडिंग कर रही है। अगर आपको सच में एक अच्छा फुटबॉल प्लेयर बनना है, तो आप फुटबॉल अकैडमी में प्रवेश ले और वहां पर अपनी ट्रेनिंग अच्छे से करें।

ट्रेनिंग करने के बाद आपके एकेडमी के अधिकारी आपको डिस्ट्रिक्ट लेवल, स्टेट लेवल और सबसे आखरी में नेशनल लेवल पर खेलने के लिए भेजेंगे।

अगर आप इन सभी में अच्छा प्रदर्शन करते हैं, तो आपको सबसे आखिरी में भारतीय फुटबॉल टीम में शामिल कर लिया जाएगा, जिसमें अगर आप अच्छा खेल खेलते हैं, तो आपको इंटरनेशनल फुटबॉल खेलने का मौका भी दिया जाएगा।

8. फुटबॉल खेल का फॉर्मेट

फुटबॉल के खेल में 2 टीम होती है और हर टीम में 11-11 खिलाड़ी होते हैं। इन दोनों टीम का उद्देश्य 90 मिनट के अंदर एक दूसरे के खिलाफ अधिक से अधिक गोल करना होता है।

फुटबॉल के खेल के दौरान 45 मिनट पर एक ब्रेक लिया जाता है, जिसे हाफ टाइम भी कहा जाता है। यह हाफ टाइम टोटल 15 मिनट का होता है और इसके बाद का खेल लगातार 45 मिनट तक चलता है

इस दरम्यान अगर कोई खिलाड़ी घायल हो जाता है, तो इंजरी टाइम के तहत खेल को कुछ देर के लिए रोक दिया जाता है और उसके बाद फिर से खेल को चालू कर दिया जाता है।

9. फुटबॉल गेंद की माप

शुरुआत में फुटबॉल का निर्माण जानवरों के ब्लैडर से होता था, परंतु बाद में इस पर जानवरों की चमड़ी का इस्तेमाल होने लगा, जिससे इसका आकार एक समान रहने लगा। अगर हम फुटबॉल गेंद के माप के बारे में बात करें तो फुटबॉल गेंद 58 सेंटीमीटर से 61 सेंटीमीटर के बीच की परिधि का एक वृत्ताकार गेंद होती है।

10. फुटबॉल मैदान का माप

अगर हम फुटबॉल के मैदान के माप के बारे में बात करें तो फुटबॉल का मैदान 100 गज, 50 गज से 130 गज अथवा 100 मीटर से 110 मीटर, 64 मीटर से 110 मीटर, 75 मीटर तक का आयत का आकार होता है।

फुटबॉल के मैदान की लंबाई को साइड लाइन कहा जाता है तथा फुटबॉल के मैदान की चौड़ाई को गोल लाइन कहा जाता है। फुटबॉल के मैदान के बीच में एक रेखा होती है, जो मैदान को दो बराबर भागों में बांटती है।

11. फुटबॉल खेलने का तरीका

फुटबॉल का खेल दो टीमों के बीच खेला जाता है, जिसमें से हर टीम में 11-11 खिलाड़ी होते हैं और दोनों टीम के 11-11 खिलाड़ी अपने-अपने गोल पर गोल को होने से बचाने के लिए प्रयास करते हैं तथा दूसरी टीम के विरुद्ध गोल करने का प्रयास करते हैं। यह खेल टोटल 90 मिनट का होता है और इस खेल के दरमियान 15 मिनट का ब्रेक भी लिया जाता है।

जिस तरह क्रिकेट के खेल में अंपायर होते हैं, उसी तरह फुटबॉल के खेल में रेफरी को सारी अथॉरिटी मिलती है और रेफरी जो भी निर्णय लेता है उसे ही मान्य रखा जाता है।इस खेल के दरमियान एक सहायक रेफरी भी होता है जो मुख्य रेफरी की मदद करता है।

फुटबॉल के खेल की शुरुआत टॉस उछाल कर की जाती है और जो टीम टॉस जीतती है, उसका कप्तान यह निश्चय करता है कि उसकी टीम गोल करना चाहती है या गोल बचाना चाहती है या फिर को किक ऑफ यानी कि किक मारना चाहती है।

इस खेल में जब भी कोई टीम किसी दूसरे टीम के गोल पोस्ट पर गोल करने में कामयाब हो जाती है तो फुटबॉल गेंद को फिर से सेंटर लाइन पर रखकर दोबारा गेम चालू किया जाता है।

12. फुटबॉल में विभिन्न पदों का काम

स्ट्राइकर:

स्ट्राइकर का मुख्य कार्य दूसरी टीम के गोलपोस्ट पर गोल करना होता है।

डिफेंडर्स:

डिफेंडर का मुख्य काम होता है विरोधी टीम के द्वारा अपनी गोलपोस्ट पर गोल होने से रोकना।

मिडफिल्डर्स:

खेल के बीच में ही विरोधी टीम से फुटबॉल को छीन कर अपने आगे खेलने वाले खिलाड़ी को बोल देने का काम मिडफील्डर करते हैं।

गोलकीपर:

गोल कीपर का काम अपनी गोल पोस्ट पर गोल होने से रोकना होता है, परंतु उन्हें यह काम गोलपोस्ट के सामने खड़े रहकर ही करना होता है।

13. अच्छा फुटबॉल प्लेयर बनने के लिए टिप्स

अगर आप अच्छा फुटबॉल प्लेयर बनना चाहते है, तो इसके लिए आपको अपनी फिटनेस पर विशेष रूप से ध्यान देना होगा। फुटबॉल प्लेयर बनने के लिए शारीरिक रूप से फिट होना बहुत ही जरूरी होता है।

आपने देखा होगा कि, जब फुटबॉल खिलाड़ी फुटबॉल खेलते हैं, तब उन्हें फुटबॉल ग्राउंड में गोल करने के लिए इधर उधर बहुत दौड़ना पड़ता है|

इसलिए आपको रोजाना तीन से 4 किलोमीटर की दौड़ दौड़ने की कोशिश करनी चाहिए। ऐसा करने से आपको जल्दी थकावट नहीं होगी और धीरे-धीरे आपकी रनिंग भी अच्छी हो जाएगी।

दौड़ने के अलावा आपको कसरत करना भी बहुत जरूरी है, क्योंकि कसरत करने से आपके शरीर में लचीलापन आएगा और आप और आप चुस्त-दुरुस्त बन जाएंगे।

फुटबॉल में कैरियर बनाने के लिए आप योगा का सहारा भी ले सकते हैं, क्योंकि रोजाना योगा करने से आपकी एकाग्रता बढ़ती है, जिससे आप फुटबॉल पर ज्यादा ध्यान दे पाएंगे, क्योंकि फुटबॉल प्लेयर का अंतिम लक्ष्य होता है गोल करना और गोल करने के लिए आपको एकाग्र होना बहुत ही जरूरी है।

फुटबॉल प्लेयर बनने के लिए आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना होता है।इसके अलावा खानपान में आप ऐसी चीजों से परहेज करें जो कोलेस्ट्रॉल अथवा मोटापा बढाती हो।

खानपान में आप काजू,बादाम, मेवा, किशमिश, केला इत्यादि का इस्तेमाल कर सकते हैं, क्योंकि यह सभी चीजें खाने से आपको एनर्जी और ताकत मिलती है और आप तो यह बात जानते ही होंगे कि, फुटबॉल प्लेयर बनने के लिए कितनी एनर्जी की आवश्यकता होती है।

फुटबॉल प्लेयर बनने के लिए आपको किसी अच्छे फुटबॉल अकैडमी में एडमिशन लेना होगा। इसके अलावा अकैडमी में एडमिशन लेने से पहले आप यह भी अवश्य सुनिश्चित कर लें कि, वह अकैडमी सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त है या नहीं अथवा वह एकेडमी फुटबॉल एसोसिएशन द्वारा मान्यता प्राप्त है या नहीं।

फुटबॉल प्लेयर बनने के लिए आपको अच्छे कोच की आवश्यकता होती है, क्योंकि आप चाहे जितनी भी मेहनत कर ले।अगर आपको सही जानकारी देने वाला कोच नहीं मिलेगा, तो आप एक अच्छे फुटबॉल प्लेयर नहीं बन पाएंगे, इसीलिए एक अच्छे कोच की आपको आवश्यकता पड़ेगी ही।

14. दुनिया में सबसे अधिक कमाई करने वाले फुटबॉल प्लेयर की लिस्ट

1. लियोनेल मेसी

2. क्रिस्टियानो रोनाल्डो

3. नेमार

4. पॉल पोग्बा

5. एंडर्स इनिएस्ता

6. एलेक्स सान्चेज

7. काइली एम्बाप्पे

8. मैसिट ओज़िल

9. ऑस्कर

10. एन्टोनियो ग्रिजमैन

15. फीफा क्या है

फीफा का फुल फॉर्म होता है इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ एसोसिएशन फुटबॉल।यह संस्था हर 4 साल में फुटबॉल वर्ल्ड कप का आयोजन करती है और इस आयोजन में इस संस्था के सहयोगी सदस्य देश भाग लेते हैं। इस संस्था की स्थापना साल 1904 में 2 मई को की गई थी। इस संस्था का मुख्यालय स्विट्जरलैंड में है। फिलहाल इससे 208 सदस्य देश जुड़े हुए हैं।

आपकी और दोस्तों

तो दोस्तों यह था एक अच्छा फुटबॉल प्लेयर कैसे बने, हम उम्मीद करते हैं कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप सभी को पता चल गया होगा कि एक अच्छा फुटबॉल प्लेयर बनने के लिए क्या करना पड़ता है|

अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को यह पता चल पाए कि फुटबॉल में करियर कैसे बनाते हैं धन्यवाद दोस्तों|

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.