दिल को चुभ जाने वाली शायरी

हेल्लो फ्रेंड्स कैसे हो आप लोग आज के इस पोस्ट में हम आपके साथ दिल को चुभ जाने वाली शायरी शेयर करने वाले है जिसको पढ़कर किसी भी लड़के या लड़की का दिल भर जायेगा.

ये सभी शायरी बहुत ही मस्त है और आप चाहो तो इसको अपने गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड को भी शेयर कर सकते है और इन शायरी को पढ़ते ही उनके दिल में आपके लिए और भी ज्यादा प्यार पैदा हो जायेगा.

हमने इस पोस्ट में बहुत ही अच्छे अच्छे दिल को चुभ जाने वाली शायरी शेयर करी है तो आप इस पोस्ट को पूरा जरुर पढ़े. तो फिर चलिए दोस्तों बिना कोई टाइम बर्बाद करते हुए सीधे इस पोस्ट की शुरुवात करते है.

दिल को चुभ जाने वाली शायरी

Dil ko chub jane wali shayari

1
कुछ बाते दिल मैं चुभ जाती है
फिर वो बहुत याद आती है
कुछ लोग होते है ऐसे
जिनकी यादें बहुत सताती है।।

2
हमने तो उनसे कुछ नही कहा
पर उनकी बात दिल को चुभ गई
पता नही उन्होंने कह दिया हमको कुछ ऐसा
जो हमारे दिल पर असर कर गई।।

3
थोड़ा भी अगर उन्होंने हमे समझा होता
तो आज ये नोबत नही आती
दिल टूट जाते है अक्सर ऐसे ही
पर ये दिल टूटने वाली जरूरत नही आती।।

4
कुछ का तरह मेने अपने जख्मों को सिल रखा है
किसी को नही दिखाया
खुद मैं दबा रखा है
वो कहा भी रहे अब फर्क नही पड़ता
हमने उनको अब दिल मैं बस रखा है।।

5
दिल में इतनी जख्म है की अब
दिखाना मुश्किल हो गया
लोग सिर्फ मजाक बनाते हैं
किसी को इतनी तकलीफ दिखाने से भी क्या हो गया

6
मैं सिर्फ आप इस तरह जिया करता हूं
दूसरों की नहीं खुद की फिक्र करता हूं
लोग तो कहते हैं कुछ भी
मैं अब उनकी एक भी बात नहीं माना करता हूं

7
मैंने अपनी जिंदगी में क्या नहीं किया
मैंने लोगों के लिए सब कुछ किया
पर लोगों ने मुझे क्या दिया
उन्होंने मुझे कुछ भी नहीं दिया

8
दिल बेचैन है आंखों में आंसू आ रहे हैं
पर लोग किस की फिक्र करते हैं
यहां पर सब लोग बस अपनी मस्ती में जिए जा रहे हैं

9
कोई किसी की फिक्र नहीं करता
और कोई इस दुनिया में किसी का नहीं होता
लोग बस अपने आप से मतलब रखते हैं
किसी को किसी से प्यार नहीं होता

10
जिनको हमसे बात नहीं करनी होती
वह हर बात पर बहाने बनाया करते हैं
और हम से दूर जाने के लिए
वो सिर्फ हमें इस्तेमाल किया करते हैं

11
अपने फायदे के लिए
लोगों ने मुझे सिर्फ इस्तेमाल करना सीखा है
उन्होंने कभी नहीं की मुझसे मोहब्बत
उन्होंने सिर्फ मुझे धोखा देना सीखा है

12
मुझे किसी से प्यार नहीं है
अब मुझे किसी पर ऐतबार नहीं है
लोगों ने क्या किया मुझे समझ नहीं आता
मुझे अब किसी से प्यार नहीं है

13
वह सिर्फ बहाने बनाती है
वह मेरे पास मुझसे मिलने कभी नहीं आती है
वक्त तो होता है उसके पास मगर
वह मुझसे कभी बात नहीं करती है

14
अगर नहीं करना है उसे बात तो
मैं भी उससे बात नहीं करूंगा
मैंने बहुत कर लिया उसका इंतजार
मैं अब उससे प्यार नहीं करूंगा

15
मैंने उसे हमेशा से अपने दिल का एक हिस्सा माना था
मैंने उसे हमेशा से अपने दिल की धड़कन माना था
मैंने उसे कितना प्यार किया था
मैंने उसे अपना सब कुछ माना था

16
मोहब्बत थी मेरी और मैंने उसे मोहब्बत की तरह चाहा था मेरी इबादत थी वो हमने उसे खुदा से मांगा था
फिर चली गई वह छोड़कर
मुझे जो मैंने उससे इतना सच्चा इश्क किया था था

17
इश्क मोहब्बत सब मेरे काम का नहीं
लोग तो होते हैं ऐसे ही
वह मेरे किसी काम की नहीं
सिर्फ अपने मतलब से लोग रखते हैं रिश्ता
उनको मुझसे कोई काम नहीं

18
जब उसको काम पड़ा
उसने मुझे इस्तेमाल किया है
उस पर काम पूरा हुआ जब उसने मुझे छोड़ दिया आजकल रिश्ते ऐसे ही होते हैं यहां
जब जिस का दिल किया उसने तोड़ दिया

19
रिश्ते आसानी से बनाए नहीं जाते
रिश्ते आसानी से तोड़ दिए जाते हैं
लोग कुछ भी कहें पर
अपने में भी अक्सर अकेले छोड़कर जाते हैं

20
छोड़ कर चले गए वह लोग उन्हें
शायद अब मेरी जरूरत नहीं रही
मुझे भी अब उनसे रिश्ता नहीं रखना
जब उन्हें मुझसे कोई मोहब्बत नहीं रही

21
रिश्ता हम दोनों का कुछ खास है
वह मेरे पास नहीं है और मेरा मन उदास है
दिल में एक चुभन सी है
और एक मीठा सा एहसास है

22
एहसास बाकी है दिलों में अब भी
पर मोहब्बत अब कहीं भी बाकी नहीं रही
आज सिर्फ धोखेबाजी ही बची है रिश्तो में
कहीं भी प्यार बाकी ना रहा

23
अब क्या किसी से शिकायत करनी
अब मुझे किसी से क्या उम्मीद रखनी
जो भी करना है मुझे खुद ही करना है
अब किसी से क्या मोहब्बत रखनी

24
लोग बस इसी बहाने बनाते हैं
हमें इस्तेमाल करते हैं और छोड़ जाते हैं
वक्त सबके पास होता है
मगर वो बात नहीं करते हमें सिर्फ तड़पाते हैं

25
उनका बात करने का मन ही नहीं होता
उनका कुछ करने का मन ही नहीं होता
मोहब्बत ही नहीं है उनको हमसे
उन्हें हमसे कभी प्यार ही नहीं होता

26
जब कोई आप से बात करना ना चाहे
तो उसे जबरदस्ती बात ना किया करो
बसाकर रखो उसे दिल में हमेशा
मगर कभी उससे प्यार ना जाताया करो

27
मोहब्बत मुझे इस तरह है
और कुछ इस तरह ही रहेगी
तेरी इश्क बातें सच्ची है और वैसे ही रहेगी
मुझे तो क्या मिला है और तेरे पास
अब कुछ भी ना रहेगा

28
मेरे पास कहां का कुछ बचा था
मेरे पास कहां हो कुछ था
मोहब्बत तो कभी चली गई मुझे छोड़कर
मेरे पास था आसमान का सितारा बचा था

29
आसमान उस दिन ऐसा रूप दिखाता है
लोग छोड़ कर चले जाते हैं
दिल से पूछो वह हमें कितना तड़पाता है
और उन को हमारी फिक्र ही नहीं होती
उनको सिर्फ अपने मतलब से प्यार आता है

30
मतलबी है लोग सिर्फ
अपना मतलब निकालते हैं
दुखी कोई कितना भी
वो हमे नहीं संभालते हैं

31
मोहब्बत मैंने उनसे कुछ इस कदर की थी
हमने उनसे इश्क में चाहत की थी
हमने उन्हें ही चाहता हमेशा
और हमने उनसे ही सच्ची बात की थी

32
क्या मिला मुझे यह प्यार करके
और क्या मन मिला मुझे
किसी पर आंख बंद भरोसा करके
भरोसा तो अक्सर तोड़ ही दिया जाता है
और जो अकेला होता है उसे छोड़ ही दिया जाता

33
मैं उसके लिए जरूरी नहीं था
उसके लिए शायद कोई और जरूरी था
मोहब्बत से नहीं थी मुझसे उससे लिए
शायद नहीं वो रही जरूरी था

34
सफर कुछ इस तरह जिंदगी में बिता देते हैं
हम मोहब्बत से कभी शिकायत नहीं करते हैं
वह चाहे कहीं भी रहे किसी के भी पास
हम उन्हें अपना दिल का
एक अजीज टुकड़ा बता दिया करते हैं

35
हमने कभी उनको कुछ नहीं कहा
हमने कभी उनको किसी से माना नहीं
शिकायत ही नहीं हमें किसी से
और हमने किसी से प्यार जताया ही नहीं

36
जो कुछ भी मिला है मुझे
मुझसे ही मिला है जो कुछ भी मैंने दिया है
उसे ही दिया है और
वो आते ही नहीं मेरे पास मैंने उसके लिए सब कुछ किया है

37
मैंने उसे कुछ नहीं कहा
मैंने उसे कुछ नहीं दिया
और मोहब्बत की ही नहीं मैंने
और मैंने कभी उसे प्यार नहीं किया

38
उसने भी मुझे अकेला छोड़ दिया
जिस पर सबसे ज्यादा यकीन किया था
उसने मुझे अपने हाल पर छोड़ दिया

39
मैंने तो सोचा था वह साथ निभाएगी
मैंने तो सोचा था वह वक्त पर काम आएगी
पर उसे से सिर्फ अपने आप से मतलब था
मुझे क्या पता था वह सिर्फ अपना मतलब निकलेगी

40
लोग इस दुनिया में बस मतलबी होते हैं
उनको अपने आप से मतलब
और दूसरों से हमेशा शिकायत होती है
और सिर्फ अपना भला चाहते हैं
उनको दूसरों से सिर्फ दर्द और तकलीफ होती है

41
जिसको भी दर्द है वह हमें बता सकता है
जिसको भी कुछ है मोहब्बत हो हमें दिखा सकता है
हमारे पास कुछ नहीं है
और वह हमें फिर भी सब कुछ समझा सकता है

42
सफर कुछ इस तरह था हमारा मोहब्बत में
कुछ इस तरह थी बाते हमारी
हमने उनसे प्यार किया था
प्यार किया और बेशुमार किया था

43
हमने प्यार किया सिर्फ उनसे
हमने ऐतबार किया सिर्फ उन पर
मोहब्बत की थी हमने उनसे
और से प्यार किया सिर्फ हमने उनसे

44
हम कुछ इस कदर उनको भूल रहे
मोहब्बत दिल में रखा अंदर ही अंदर मर रहे हो
हमसे मिलने नहीं आए और हम उनको बुलाते रह गए

45
इंसान ही दिन मर जाता है
सिर्फ उसकी यादें रह जाती हैं
लोट कर कोई भी नहीं आता है
सिर्फ उनकी मोहब्बत बाकी रह जाती हैं

46
मोहब्बत को दिल मे रखकर जीना ही
मेरा उसूल हुआ करता था
जब उसने ही धोखा दिया तो
फिर मैं किसी के साथ ना रहा
मोहब्बत तो रही थी पर अब मेरा कोई अपना ना रहा

47
सफर जिंदगी का हम इस तरह काट रहे हैं
मोहब्बत होने के बाद भी अकेले रिश्ते बांट रहे हैं
लोग बहुत है हमारी जिंदगी में
पर देखो हम हमारे गम भी अकेले हैं काट रहे हैं

48
रिश्ते सारे मुझे मेरे छोड़ कर चले गए
मोहब्बत वाले भी मुझे अकेला छोड़ कर चले गए
मैंने भी नहीं की फिर किसी से कोई शिकायत
अगर हो हमारा दिल तोड़ कर चले गए

49
किसी से कभी भी कोई उम्मीद नहीं रखनी चाहिए
कौन कितना भी पास रहे
उसकी कभी आदत नहीं लगानी चाहिए
अगर आदत पड़ जाए किसी की
तो उसे उसी वक्त छोड़ देना चाहिए

50
इंसान की फितरत यही होती है
और पहले हमें खुद की आदत लगा देता है
फिर उसे किसी और से मोहब्बत हो जाती है
और वह हमारा दिल तोड़ देता है

51
आदत अगर एक बार किसी के लग जाती है
तो वह बहुत खराब होती है
दिल तोड़ कर चली जाती है वह आदतें
और वह हमारे अंदर बहुत ही बुरी होती है

52
ऐसे मोहब्बत करनी ना की
मोहब्बत में खुद पागल मत कर लेना
इतना भी मत करना प्यार उसे जिंदगी मानकर
अपनी जिंदगी बर्बाद मत कर लेना

53
लो हो गई मेरी भी जिंदगी बर्बाद
लो हो गई मेरी भी सब कुछ खुशियां बर्बाद
वह चला गया मुझे छोड़ कर
लो हो गया मेरा दिल की आबाद

54
दिल की आवाज कभी कोई नहीं सुनता
सिर्फ लोग अपने से मतलब रखते हैं
कौन किसी की नहीं सुनता

55
यहां कोन किसका हुआ करता है
यहां तो हर कोई सिर्फ मतलब से रिश्ता रखा करता है किसी से कितना भी कर लो मोहब्बत
या किसी को जितना भी बना लो अपना
वह सिर्फ अपना मतलब निकल जाने
पर आपको छोड़ दिया करता है

56
हमें सिर्फ उनसे मोहब्बत की है
हमने सिर्फ मुझसे ही बात की है
हमने सिर्फ उनसे इश्क किया है
और हमने सिर्फ उनसे इश्क में चाहत की

57
कुछ लोग हमें इस तरह अपना बनाया करते हैं
उनसे मोहब्बत हो जाती है
और फिर वह हमें गम में छोड़ जाया करते हैं

58
उसने मुझे वादा किया था
कि वह हर तकलीफ में मेरा साथ देगी
उसने कहा था कि वह हर समय मेरे साथ रहेगी
पर जब मैं उसे बताता हूं कि मैं दुखी हूं
तब भी वह मेरा साथ नहीं देती छोड़ कर चली जाती है कभी मुझे प्यार नहीं देती चली जाती है

59
हम दुखी होने से क्या फायदा
आप किसी को रोने से क्या फायदा
मोहब्बत तो रहे ही नहीं हमारे पास
अब किसी का हो जाने से क्या फायदा

60
दिल पहले ही दुखी था मेरा
दिल पहले ही उदास था मेरा
तेरी बात और चुभ गई
दिल पहले ही रो रहा था मेरा

61
मुझे अब किसी से कोई शिकायत नहीं करनी
मुझे अब किसी के पास जाकर कोई बनावट नहीं करनी वह चाहे जो भी सोचे अपने दिल में
मुझे अब किसी को सफाई नहीं देनी

62
हर बार मैने मोहब्बत में सबूत दिया है
हर बार मेंने ही उनको चाहा है और उनसे इश्क किया है उनको क्या कुछ नहीं था मुझसे
कि मैंने हीं उनसे मोहब्बत किया है

63
इतनी मोहब्बत हो गई थी मुझे
उससे मैं बता नहीं सकता
उसके दिल में क्या जरूरत है मेरी
मैं उसे दिखा नहीं सकता
पर उसने हर वक्त तोड़ा है मेरा दिल
यह मैं उसे समझा नहीं सकता

64
अगर तुम किसी को खुश नहीं कर सकते
तो कम से कम मुझे दुखी भी मत करो
मोहब्बत में हो जाए किसी से कितनी भी
पर उसे इश्क में खुदा मत करो

65
मोहब्बत मिल जाती है ऐसे ही
पर प्यार ऐसे ही नहीं होता
कौन कितना भी कर ले प्यार पर
मुझे अब उस पर ऐतबार नहीं होता

66
मुझे दुनिया पर एतबार नहीं रहा
मुझे अब किसी से प्यार नहीं रहा
मोहब्बत तो की है मैंने सबसे
पर मुझे अब किसी का इंतजार नहीं रहा

67
मोहब्बत हमसे कुछ इस कदर है
या हमे शिकायत उनसे कुछ इस कदर है
हमें वह चाहे और किसी के भी साथ रहें
हम उनसे चाहत इस कदर है

68
मैं दुखी होता हूं उसे बता देता हूं
वह मेरे साथ साथ नही देती
मैं उसे जता देता हूं
पर वो रहती ही नहीं है मेरे पास
फिर मैं उससे क्यों मोहब्बत करता हूं

69
मोहब्बत मैं उससे कितनी भी कर लूं
चाहत ने उसे कितनी भी कर लूं
उसे तो किसी और को ही रखना है दिल में
फिर मैं उसे चाहे कितना भी खुदा से मांग लूंगा।।

70
इश्क मोहब्बत सब मैंने करके देख लिया
मैंने क्या नहीं किया उसके लिए
उसको मना कर भी देख लिया
और वह मेरी बात कभी मानती ही नहीं
मैंने सब कुछ कर के देख लिया

71
किसी किसी की कोई बात
दिल में इस कदर घर कर जाती है
वह कभी भुलाई नहीं जाती
वह लोगों से हमें दूर कर जाती है

72
दिल में छुप जाती है किसी की बातें
दिल में असर कर जाती है किसी की बातें
मैंने तो देखा ही नहीं किसी को और मोहब्बत में
खुद को फना कर जाती हैं मेरी बातें

73
कुछ लोग हमें किस कदर समझा करते हैं
वह हमें सिर्फ दिल दुखाया करते हैं
हमारे तकलीफ दिखाते हैं वह
और हमें हमारी औकात दिखाते हैं वह

74
हम किसी के लिए कुछ नहीं हैं
हम किसी के लिए जरूरी नहीं है
मोहब्बत नहीं है अगर उन्हें हमसे
तो हम उनके लिए कोई भी काम के नहीं है

75
जब मतलब निकल जाएगा उसका
तो वह भी तुमसे दूर चला जाएगा
तुम क्या बात करते हो उसकी मोहब्बत की
वह भी तुम्हें छोड़ कर चला जाएगा

76
तुमने क्या सोचा है वह तुम्हारा है
वह तुम्हारा कभी हो नहीं सकता
मोहब्बत कितनी भी कर लो तुम उससे
वह तुम्हारा कभी सच्चा प्यार हो नहीं सकता

77
सफर सिर्फ एक तरफ से ही होती है
दोनों तरफ से रिश्ता कभी भी निभाया नहीं जाता
एक जाना हमेशा आपको धोखा देता है
और आपकी मजबूरी का फायदा उठाया नहीं जाता

78
अब यह रिश्ते का बोझ में संभाल नहीं सकता
हमने तुझे ज्यादा और दिल मैं रख नहीं सकता
तूने सिर्फ मुझे तकलीफ दी है
मैं तेरे साथ तो रह नहीं सकता।।

79
मोहब्बत सिर्फ मैंने तुझसे किया है
इसको सिर्फ मैंने तुझसे किया है
अगर तू नही भी बोलना चाहे
फिर भी देख मैंने सिर्फ तुझे तेरा ही साथ दिया है

80
मैंने मोहब्बत तुमसे की है
मैंने इबादत तुमसे की है
मैंने किसी के लिए कुछ नहीं किया
मैंने सिर्फ तुमसे प्यार किया है

81
हर दफा मैंने तेरा इंतजार किया है
मैंने तुझसे ही मोहब्बत की और प्यार किया है
तूने मुझे क्या दिया ए सनम मुझे बता दे
जब मैंने तुझसे इतना इश्क किया है

82
इश्क मोहब्बत कभी मेरे काम नहीं आई
यह मोहब्बत मुझे कभी रास नहीं आई
तुम सब देख लेना मेरे पास कोई नहीं रहेगा
और मुझे यह कभी मोहब्बत काम नहीं है

83
मैं अब किसी के साथ रहना नहीं चाहता
मैं अब किसी से दिल लगाना नहीं चाहता है
दिल भी लग जाएगा उसके सिवा तो क्या हुआ
हमें किसी से मोहब्बत करना नहीं चाहता

84
दिल ऐसे ही नहीं लगता है
उसके लिए दिल चलाना पड़ता है
मोहब्बत नहीं मिलती है ऐसे ही
उसके लिए हमें अपना सब कुछ छोड़ना पड़ता है

85
दर्द बहुत होता है दिल में तकलीफ बहुत होती है
दिल में मुझे प्यार तो हुआ है अब
पर इंतजार बहुत होता है
दिल मेरा अब भी रोता है

86
देखता हूं मुझे उसके लिए क्या करना है
मुझे दिखाने के लिए क्या करना है
मोहब्बत है अगर उससे हमें
तो फिर देखते हैं हमें उनके लिए क्या करना है

87
मुझे आपसे कुछ नहीं चाहिए
मुझे उससे कोई मोहब्बत नहीं चाहिए
उसके दिल में कोई भी रहे
मुझे उसका साथ नहीं चाहिए

88
मैं उसे क्या कहता हूं
यह मैं नहीं जानता
मैं उसे क्या करता हूं मैं उसे नहीं पहचानता
उसने तो कह दिया मैं तुम कुछ नही मेरे लिए
मैं अपना दुख और किसी को नहीं बताता
और मैं अब अपने आप को भी नहीं जानता

89
हमसफर हमारा कुछ इस तरह ही रहा है
हमें किसी से प्यार किया और हमें उनसे ही रहा है
हमने किया है ऐतबार और हमें प्यार हमेशा से ही रहा है

90
वह मोहब्बत कितनी भी करें मुझसे
फिर भी वह मुझसे ज्यादा नहीं कर सकती
मैं उसको जितना चाहता हूं
वह मुझे ना प्यार नहीं कर सकती

91
मैं उसे कितना प्यार करता हूं
जब वह भी नहीं जानती
मैं उसे कितना चाहता हूं यह वह भी नहीं जानती
वह सिर्फ कहती है मुझे अपना
पर वह मुझे अपना नहीं मानती

92
अगर मुझे अपना मानते होती तो
मुझे छोड़कर नहीं जाती
इस तरह मेरा दिल तोड़कर और हाथ छुड़ाकर नहीं जाती किसी और के साथ खुश नहीं रहती
मुझे मेरा दिल तोड़कर नहीं जाती

93
और किसी और के साथ खुश रहे
आप मुझे किसी से क्या चाहिए
और किसी और से मोहब्बत कर या
मुझे उसका साथ नहीं चाहिए

94
आंखों से आंसू कुछ इस कदर बहते हैं
दिल रोता है मगर हम किसी से कुछ नहीं कहते हैं
कितनी मोहब्बत हो किसी से अब क्या फर्क पड़ता है
हम अब उसे अपने दर्द नहीं कहते हैं

96
मोहब्बत हमें उनसे कुछ इस कदर थी
चाहत भी हमसे इस कदर थी
आंसू भी बहाए हमने उनके लिए सब कुछ किया
हमने उनके लिए छोड़ दी दुनिया
हमने उनके लिए क्या नही किया
उन्होंने क्या किया हमारे लिए सिर्फ दर्द दिया
उन्होंने हमको और छोड़ दिया किसी और के लिए

97
मोहब्बत बोलने से भी भुलाई नहीं जाती
दिल तो लग जाते हैं कहीं और भी
पर उसकी याद दिल से नहीं जाती

98
हम किसी को कितना भी भूलाने की कोशिश करें
पर वह कभी ना कभी याद तो आ ही जाता है
क्योंकि बहुत सारी यादें जुड़ी होती हैं
उससे हमारी जिंदगी की
और वह यादों से ही हो हमें बहुत तड़पाता है

99
किसी की यादें दिल में कितनी भी मत रखो
किसी की चाहत दिल में इतनी भी मत रखो
इश्क किया है हमने किसी से तो
किसी से इतनी मोहब्बत की मत रखो

100
हम किसी रोज इतना प्यार करते हैं
हम किसी का कितना इंतजार करते हैं
वह चाहे किसी से भी कर ले मोहब्बत
हम को कितना प्यार करते हैं

102
हम क्या बताएं उन्हें इस दिल में
उनकी जगह कैसे दिखाएं हम उन्हे दिल मैं
नहीं करते उनसे मोहब्बत को यही मानने दो
क्योंकि अब हम उन्हें अपना इस दिल में

103
यह दिल ना किसी बात की गवाही नहीं देता
वह कितना भी अपने आप को सच बता दे
पर यह कभी भी हमसे मोहब्बत नहीं करता
क्योंकि उन्होंने इसका भरोसा तोड़ दिया है
अब वह कभी भी उन पर यकीन नहीं करता

104
हर वक्त उसने मुझे दुख और तकलीफ ही दी है
हर वक्त उसने मुझसे सच्ची मोहब्बत नहीं की
मैंने उसे किया है मोहब्बत
पर उसने मुझे अभी चाहत नहीं कि है

Over To You:

तो दोस्तों ये थे बहुत ही मस्त दिल को चुभ जाने वाली शायरी की कलेक्शन, हम उम्मीद करते है की आपको ये सभी शायरी बहुत पसंद आई होगी.

यदि आपको हमारी ये सभी शायरी अच्छी लगी हो तो प्लीज पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे और लाइक करना ना भूले. इसके अलावा यदि आपके पास और कोई शायरी है तो उसको भी हमारे साथ कमेंट में शेयर करे और हम आपकी शायरी को पोस्ट में जरुर शामिल करेंगे धन्येवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X