दिल को छू जाने वाली शायरी

हेल्लो दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपके साथ दिल को छू जाने वाली शायरी शेयर करने वाले है जिसको पढ़कर आपको बहुत अच्छा लगेगा.

ये सभी शायरी बहुत ही जबरदस्त है और यदि आपने इन शायरी को किसी भी लड़के या लड़की को शेयर किया तो उसका दिल भर उठेगा और वो आपकी तरफ हो जायेगा.

दोस्तों आप इन शायरी को अपने बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड के साथ भी शेयर कर सकते हो और फिर देखना उसका प्यार आपके लिए और भी ज्यादा बढ़ जायेगा.

इन सभी शायरी में बहुत दम है और आप एक बार इसको किसी भी लड़के, लड़की, बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड के साथ शेयर करके देखे आपको कुछ ही इसका रिजल्ट दिख जायेगा.

तो फिर चलिए दोस्तों बिना कोई टाइम बर्बाद करते हुए सीधे इस पोस्ट की शुरुवात करते है.

दिल को छू जाने वाली शायरी

Dil ko chu jane wali shayari

1
तेरे इश्क पे हक मेरे सिवा किसी और का ना होगा
तेरी दिल पर असर मेरे सिवा किसी और को ना होगा
तू मेरी मोहब्बत है मेरी मोहब्बत बनकर रहेगी
यह दिल आज के बाद किसी और को ना होगा

2
तुम हमारे दिल में बस रहे हो
हम तुम्हें चाहा कर भी भुला नहीं सकते
हम तुम्हें करते हैं इतना प्यार
इससे ज्यादा हम तुम्हें चाहा नहीं सकते

3
मुझे तुम्हारे साथ बिताए हुए वह पल याद आएंगे
तुम कहीं भी रहो मुझे तुम्हारे ख्वाब आएंगे
हम दूर हो जाएंगे एक दिन तो क्या हुआ
यह हसीन पल जिंदगी भर हमारा साथ निभाएंगे

4
वह कहती है मैं क्या हूं तेरी मैं कहता हूं वह क्या है मेरी हम राही हैं इस दुनिया के मंजिल कहां हमारी तेरी

5
इस मोहब्बत को शायद मंजिल मिल ना पाएगी
यह हवाएं चलती हैं और चलती ही जाएगी
यादें ही रहेंगे तुम्हारे और हमारे पास
मिलन की घड़ी पर कभी आएगी

6
अकेला रातों में घूमता हुआ
मैं यह अक्सर सोचा करता हूं
जब उससे मैं मिला था
मैं उसको उसी तरह फिर से देखा करता हूं
सोचता हूं कितना हसीन लम्हा था
और मैं उस लम्हे को वापस से जिया करता हु

7
मंजिल मिल जाएगी हम दोनों के प्यार को भी एक दिन वह किसी और का हो जाएगा शायद एक दिन
पर हम भूल नहीं पाएंगे उसको कभी भी
वह मिलने जरूर आएगा हमसे एक दिन

8
उससे बात करना अच्छा लगता है
उससे मिलना अच्छा लगता है
जब रूठ जाती है तो उसे मनाना भी अच्छा लगता है

9
इस दिल को कभी किसी की खबर नहीं होती
और उनके अलावा कोई और हमारे दिल में नहीं होती
वही रहती है हमेशा हमारे ख्वाबों में
उनके सिवा हमारी रात नहीं होती

10
वह हमेशा खुश रहे हम बस यही चाहते हैं
जिसे इश्क हो हमें बस यही चाहते हैं
उनकी बात करते रहे खुदा से
उनकी खुशियां मांगे रब से बस यही चाहते

11
तुमको दिल दिया है हमने
और तुमसे ही मोहब्बत करते रहेंगे
वही हमारे धड़कन हैं हम उनके लिए कुछ भी कर जाएंगे उनके छोड़कर हम कभी नहीं जाएंगे

12
बात बस मोहब्बत में इतनी सी हो गई
हमें उनके सिवा किसी और से चाहत हो गई
कैसा खेल खेला किस्मत ने भी
फिर हम से दूरियां बना ली और वो किसी और की हो गई

13
मोहब्बत में बस हमें इतना ही चाहिए था
हमें उनका प्यार चाहिए था
हमें कभी नहीं मांगा उनसे कोई
हमें बस उनका एक साथ चाहिए था

14
उनकी मोहब्बत ने हमें कुछ इस कदर पागल बना दिया था रातों में वही आते थे ख्वाबों में
हमें दिन में भी उनके इंतजार के आदि बना दिया था मोहब्बत तुमसे ही करते रहे हम
मोहब्बत में हमें आशिक बना दिया था

15
जब वह कहीं मुझसे दूर चली जाती है
मुझे पूछो मुझे उसकी कितनी याद आती है
मैं उसका इंतजार करता रहता हूं
वो मुझे इंतजार करवाती है

16
उसकी मोहब्बत पर इस कदर मुझ पर असर कर गई उसकी चाहत में मैं मर गया
वह मुझे जीने के काबिल कर गई

17
मोहब्बत जिससे है हमें वह किसी और से अब कहां होगी उसकी ही चाहत है हमें अब किसी और से बात कहा होगी

18
जब भी रात को अकेले बैठा करता हूं
मैं सिर्फ उसको सोचा करता हूं
चांद से करता हूं उसकी बातें
और आसमान में तारों को गिना करता हूं

19
मोहब्बत उन्हें भी थी हमसे मोहब्बत हमें भी थी उनसे
वह हमारे इस कदर हो गए
हम भी उनकी चाहत मैं खो गए
चाहते रहे हैं उनको पागलों की तरह और
उनकी चाहत में पागल हो गए

20
रब ने कुछ इस तरह हम दोनों की जोड़ी बनाई है
एक दूसरे से दूर नहीं जा सकते
इसीलिए हमारी मोहब्बत अब तक दूर नहीं हो पाई है

21
हम दोनों एक दूसरे से कभी दूर नहीं रहेंगे
दोनों एक दूसरे से कभी दूर नहीं जाएंगे
बहुत आते हैं रिश्ते में उतार-चढ़ाव
पर हम एक दूसरे पर कभी शक नहीं करेंगे

22
मोहब्बत में शक नहीं होता है
मोहब्बत में किसी और का असर नहीं होता है
हमने तो चाहा है सिर्फ तुम्हें
हमें किसी और की चाहत पर यकीन नहीं होता

23
हर इंसान यहां धोखेबाज है
किसी पर कभी यकीन नहीं करना चाहिए
मोहब्बत कितनी भी हो जाए
हमें किसी और से हमें कभी भी किसी पर भरोसा नहीं करना चाहिए

24
हम सिर्फ तुम्हारे पास है तुम्हारे पास ही रहेंगे
हम किसी और से कभी मोहब्बत नहीं करेंगे
हमने सिर्फ तुम्हें चाहा है और हम सिर्फ तुम्हें चाहते रहेंगे

25
अगर हम मोहब्बत में उनके हो गए
उनसे किया इश्क, इश्क में पागल हो गए
वह भी हमसे करते रहे मोहब्बत
और हम उनके साथ हसीन पलों में खो गए

26
चांदनी रात भी हमारी मोहब्बत की गवाही दे रही है
वह हाथों में हाथ लिए चल रहे हैं
हम और एक दूसरे के सीने से लगे हुए है
वह मोहब्बत के हसीन पल जी रहे हैं

27
मोहब्बत में कभी भी हम पर यह इल्जाम नहीं आया
हमें किसी और से भी मोहब्बत करते
यह उनको हम पर शक नहीं आया
वह भी करते रहे हमसे प्यार
पर हमें कभी ही उनके प्यार पर शक नहीं आया

28
प्यार मोहब्बत यह दिल के रिश्ते
ऐसे ही जुड़ जाया करते हैं
मिल जाते हैं अजनबी राहों में
और अपने बन जाया करते हैं
फिर वह नहीं जा सकते हम से दूर
बस वो हमारे पास रह जाया करते है

29
एक अजनबी बनकर मिला था
वह एक प्यारा सा इंसान बनकर मिला था
मैंने तो उसे सिर्फ ऐसे ही बात करी थी
कब जान बन गया पता ही नहीं चला मुझे
मेरा हमसफ़र बन कर मिला था वो

30
हमसफर वो है मेरा मैं भी उसका हमसफर बनना चाहता हूं
उसके हाथ पकड़े पकड़े जिंदगी का सफर तय करना चाहता हूं

31
सफर मोहब्बत का कुछ इस तरह ही कायम रहेगा
यह मोहब्बतें उनसे ही रहेगी
और यह दिल ऐसे ही उनका रहेगा

32
मोहब्बत में हमने कभी उसे नहीं देखा
उसने चाहा मुझे भी
उसके पास नही रहे हमे उसे करीब से नही देखा

33
प्यार वह भी करती है मुझसे पर जताती नहीं है
इश्क वो भी करती है मुझसे पर बताती नहीं है
उसके दिल में भी मेरे लिए हैं मोहब्बत
पर दिखाती नहीं है

34
उसे समझ नहीं आता मैं तो करता हूं सिर्फ उससे प्यार फिर क्यों मिलने का मौसम नहीं आता

35
कभी-कभी इतना दुख से ऊब जाया करता हूं
फिर मैं कहीं दूर चला जाया करता हूं
मुझे कोई नहीं मिला सकता फिर
और मैं खुद में ही हो जाया करता है

36
उसे समझ नहीं आता मुझे उसका समझ नहीं आता
वह समझती नहीं मुझे यह वह कहती है
पर वो ये नहीं जानती कि
मैं भी उसे समझ नहीं आता

38
वो समझती नहीं है मैं उससे कितनी मोहब्बत करता हूं
वो जानती नहीं हूं मैं उससे कितनी चाहत रखता हूं
वह हमेशा करती हैं मुझ पर गुस्सा
पर मैं हमेशा उसे प्यार करता हूं

39
वह मेरा प्यार है तू मेरी मोहब्बत है
मैं समझा नहीं सकता
वह मेरी चाहत है मेरी इबादत है
मैं उसे दिखा नहीं सकता

40
अगर वह मेरा है तो वह मेरे पास ही रहे
मैं उसे किसी और के पास बर्दाश्त कर नहीं सकता
वह मेरी मोहब्बत है वह किसी और के पास जाएगी
मैं सह नहीं सकता

41
मेरी मोहब्बत उससे हमेशा रही है
और मुझे उससे चाहत हमेशा रही है
वह मेरे दिल में हमेशा रही है
मुझे उससे हमेशा उम्मीद हमेसा रही है

42
यह दुनिया अब मेरी किसी काम की नहीं
मोहब्बत की या मेरे किसी काम की नहीं
दिल मेरा अब टूटा हुआ किसी काम का नही

43
मैंने हर दफा उससे मोहब्बत की
मैने हर दफा उसे चाहा है
और क्या बताऊं मैं उसको
मैंने उसे दुआओं में मांगा रहा है

44
उसकी फिक्र मुझे रहती है
जब कहीं जाती है तो वह मुझे हर बात बताती है
मैं उसका करता हूं इंतजार
और हूं मेरे पास वापस लौट आती है

45
अब हर चीज से थक गया हूं मैं
अभी यह मोहब्बत करते करते थक गया हूं मैं
दिल मेरा उसकी कैद में है और
और दिल्लगी करते करते थक गया हूं

46
अच्छा होता जो हमने भी मोहब्बत कभी कीनहीं होती क्योंकि मोहब्बत में रोना पड़ता है
और यह दर्द कभी सहाना पड़ता है

47
इससे ज्यादा और अब मैं क्या दर्द से सकता हूं
मैं अब उससे बिना क्या किसी और से
मोहब्बत कर सकता हूं
बिल्कुल नहीं है मुझे चाहत किसी और की
क्या मैं किसी और के साथ अब रह सकता हूं

48
उसके सिवा किसी और को चाहना तो दूर
में उसके सिवा किसी और के बारे में सोच भी नहीं सकता और वो सिर्फ मेरी मोहब्बत है
मैं उसके सिवा किसी और को चाहा नहीं सकता

49
मोहब्बत तुमसे ही है और उनसे ही रहेगी
यह जान तुम्हारी है तुम्हारी ही रहेगी
हमने देखा है उन्हें ख्वाबों में भी
हमारी दुनिया उनकी ही रहेगी

50
मोहब्बत हम उनसे इस कदर निभायेंगे
हम एक मिसाल बन जाएंगे
कोई नहीं करेगा हम जैसे मोहब्बत
हम उनके दिल में एक सवाल बन जाएंगे

51
चाहते रहे चाहे किसी और को
पर वह हमें भी भुला नहीं सकते
हमें भी उनसे मोहब्बत थी एक दिन
वह इस बात को दिल से मिटा नहीं सकते

52
मैं उसी एक दिन इतना याद आऊंगा
पर मैं लोट कर उसके पास वापस कभी नहीं आऊंगा
वो देखती रहगी मेरी राह
मैं उसकी आंखो से ओझल हो जाऊंगा

53
उसने मुझे जितना सताया है
मैं उसका बदला लेता रहूंगा
उसमें जो मेरे साथ किया है
वह भी मैं उसके साथ करूंगा
मैंने उससे मोहब्बत की है
और मैं उसे पाकर ही रहूंगा

54
मेरे मोहब्बत में उसे दिखा नहीं सकता
मैं मोहब्बत उससे छीन नहीं सकता
अगर वह मेरा है तो
फिर मैं उसे किसी और के साथ देख नहीं सकता

55
वह मेरे साथ रहे मैंने तो बस इतना ही चाह था
पर उसने मुझे छोड़ दिया मेरा क्या कसूर था
मैंने तो सिर्फ उसका साथ चाह था
हर वक्त साथ दिया मैंने उसका
मैंने सिर्फ उससे प्यार का अफसाना चाहा था

56
उसका साथ निभाऊंगा
मरना पड़े तो मर जाऊंगा
मौत आएगी अगर उसे
तो खुद आगे खड़ा हो जाऊंगा

57
यह सफर यहीं खत्म होने वाला नहीं है
यह दिल ऐसे ही किसी और का होने वाला नहीं है
उसे किया है सच्चा प्यार
और ये किसी और से होने वाला नहीं है

58
वो मेरे सामने किसी और की बात करती है
मैं ये सह नहीं सकता
वो मेरे सिवा किसी और से मोहब्बत करे
मैं ये देख नही सकता।।

59
अगर वह मेरा है तो मेरा ही रहे
किसी और के पास क्यों जाए
मोहब्बत में पता नहीं क्यों मैं बच्चा हो गया हूं मैं

60
मुझे कितना प्यार करती है वो
वह मुझे हर दफा प्यार से समझती है वो
मैं भी उसे मनाता हूं प्यार से
वही मुझे प्यार जताती है

61
मोहब्बत हमारी और तुम्हारी इसी तरह रहेगी
किसी और से कभी चाहत नहीं रहेगी
तुम्हारे दिल में सिर्फ हम याद आएंगे
वहा हम ही रहेंगे
तो कभी किसी और से प्यार की गुंजाइश नहीं रहेगी

62
तुम अगर हमें छोड़कर जाना चाहते हो तो अभी कह दो क्योंकि बाद में हम तुम्हें जाने नहीं देंगे
अगर तुम्हें हो गई किसी और से मोहब्बत
तो फिर हम तुम्हें जीने और मरने भी नहीं देंगे

63
मैंने उसे आज आजाद कर दिया
जिसे मेरे पास नहीं रहना हो उसे मैंने छोड़ दिया
मैंने उससे कितना प्यार किया था
पर उसने मेरा दिल तोड़ दिया

64
दिल कुछ इस कदर अब हर जगह से टूट चुका है
चाहत में उसका अब मेरा भरोसा उठ चुका है
मुझे नहीं है उससे कोई भी गिला शिकवा
मैंने अब उससे प्यार करना ही छोड़ दिया है

65
अब क्या उससे मोहब्बत करनी है
क्या उससे चाहत रखनी
वह नहीं है जब हमारा
तो फिर क्या उससे क्या मुलाकात रखना

66
झुमके में भी खूबसूरत लगती है
और सूट में भी अच्छी लगती है
और जब वह बिंदी लगाकर आती है
तो एक दम बवाल लगती है

67
उसका हर लफ्ज़ खूबसूरत लगता है
मैं उसे सुनना पसंद करता हूं
उसकी आवाज से भी मोहब्बत है मुझे
मैं उसे इतना पसंद करता हूं।।

68
मोहब्बत में मैं सिर्फ उसका होकर रहना चाहता हूं
मैं उसके साथ ही इश्क मोहब्बत रखना चाहता हूं
मैं अब नहीं रहता और किसी के पास
में अब सिर्फ उसके पास ही रहना चाहता हूं

69
यह चाहत मोहब्बत है हमे तुमसे
और किसी और से होने का सवाल नहीं होता
मोहब्बत में कोई किसी का नहीं होता
और किसी के दिल में कोई मलाल नहीं होता

70
सब कुछ तो किया था हमने तुम्हारे लिए
फिर हमारे प्यार में कौन सी कमी रह गई
हां शायद हमने नहीं छुआ तेरे जिस्म को
इसीलिए तुझे इसकी हसरत किसी और से हो गई

71
आज तक किसी पर भरोसा करना ही सबसे बड़ा गुनाह है क्योंकि किसी पर भरोसा किया नहीं जा सकता
लोग दिखाते हैं झूठी मोहब्बत आजकल
मोहब्बत पर यकीन किया नहीं जा सकता

72
क्या पता तुम क्या चाहते हो
हमे चाहते हो या किसी और को चाहते हो
हमसे करते हो मोहब्बत
या किसी और से करते हो

73
प्यार उससे थी मोहब्बत उससे थी
जहां मैं ही सब कुछ उससे था
फिर उसने मुझे छोड़ दिया
फिर एक दिन मुझे उससे कुछ नहीं था

74
पूछो जाकर चांद से
मेने कितनी उससे तुम्हारी बाते की
तुम नही रहती जब पास
तो उससे मुलाकते की है

75
यकीन मानो बहुत अंदर शोर है मेरा
पर मै अब दिखाएं नहीं करता
सब उम्मीद रखते हैं मैं ही उन्हें समझूं
और अब मैं किसी को समझाया नहीं करता

76
कोई मुझे भी तो समझे
कोई मेरा भी तो ख्याल रखें
मै सबसे करता रहूं मोहब्बत कोई मेरा भी तो ध्यान रखें

77
कोई मुझसे प्यार नहीं करता
कोई मुझ पर एतबार नहीं करता नहीं करता हूं
सबसे मोहब्बत कोई मुझसे मोहब्बत नहीं करते

78
जो लोग मुझे पागल समझते हैं
शायद वह फिर मुझे सही ही समझते हैं
मैं नहीं रहता हूं जैसा और जो मुझे गलत समझते हैं

79
इन बिगड़े दिमाग में भरे अमृत के लच्छे हैं
हमें पागल रहने दो हम पागल ही अच्छे हैं

80
मैं उसे अपनी गर्लफ्रेंड नहीं कहता
मुझसे अपनी जान कहता हूं
मैं उसके साथ लिव-इन में नहीं रहता हूं
मै उसके साथ सात जन्मों के बंधन में रहता है

81
मोहब्बत हमें तुमसे है यह चाहत हमें तुमसे है
किसी और से नहीं होती मोहबब्त
और सच्ची इबादत तुमसे है

82
यह मोहब्बत जो हमें तुमसे हो रही है
इश्क हमें तुमसे हो रही है
यह तुमसे ही रहेगी
किसी और से हमे फिर
कभी मोहब्बत नहीं हो रही है

83
याद रखना तुम हमारे हो ये याद रखना
हम तुम्हारे हैं हम किसी और की नहीं होंगे

84
अब किसी और से क्या शिकायत करनी
जब अपनों ने ही हमारा साथ छोड़ दिया
किसी और के पास जाकर उन्होंने
हमारा दिल ही तोड़ दिया

85
मुझे किसी से कोई शिकायत नहीं है
क्योंकि अब मैं किसी से उम्मीद नहीं रखता
उम्मीदें अक्सर टूट जाया करते हैं
इसीलिए मैं आपसे अपने दिल में नहीं रखता

86
अब हम उसकी बातें किसी को नहीं बताया करते
क्योंकि हर कोई मजाक बनाता है
अब हम किसी को अपना दिल दुखाया नहीं करते
हम जा रहे हैं आप सब को छोड़कर
अब हमसे वह भी बताया नहीं करते

87
जिसके भी साथ रहो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता
उसे मुझसे मोहब्बत रहे या ना रहे
मुझे उससे कोई फर्क नहीं पड़ता

88
यह इश्क मोहब्बत है इबादत मुझे उससे हो गई है
कोई भी चाहती हूं चाहत सिर्फ मुझे उससे ही रह गई है

89
मैं तुम्हारा जवाब भी दूंगा मैं
तुम्हारे पास वापस भी आऊंगा
इंतजार करो और शादी करो
मैं तुम्हारे पास लौट कर जरूर आऊंगा

90
तुम्हें कुछ हो नहीं सकता
मैं तुम्हें कुछ होने नहीं दूंगा
तुम मेरी मोहब्बत हो
मैं तुम्हें कभी जाने नहीं दूंगा

91
यह दुनिया कैसी है यह हम जानते हैं
हम इस दुनिया को अच्छी तरह से पहचानते हैं
यह किसी का भी साथ नहीं देती है
किसी की भी नहीं होती है
हम इसकी असलियत को अच्छे से जानते हैं

92
मैं सब की असलियत को जानता हूं
मैं हर एक उस शख्स को पहचानता हूं
जिसने भी दिया है धोखा मुझे
मैं उसकी बात अच्छी तरह से जानता हूं

93
दिल की चाहत है कभी छुपाई नहीं जाती
यह कभी किसी को दिखाई नहीं जाती
हम कितनी भी कर लेंगे दिल में रखने की कोशिश
पर यह कभी भी भुलाई नहीं जाती

96
आज में जन्नत की सैर करके आया हु
आज मैं उसके हाथ की चाय पीकर आया हु
मोहब्बत है मुझसे उससे
और मैं आज उससे इजहार करके आया हु

97
मोहब्बत में हमने कभी भी उसे खुद से अलग नहीं किया उसने तमाम कोशिशें की हमसे दूर जाने कि
हमने उसे कभी दूर जाने नहीं दिया

98
चाहते जो दिल में है उन्हें दिखा दो
तुम दोनों एक दूसरे को मना लो
चाहत में होती है दूरियां
एक दूसरे को हमसफर बना लो

99
अब उसके साथ ही रहना
जब उसने धोखा दे दे तो फिर वापस मेरे पास आ जाना
मुझसे बेहतर करने कोई मिल नहीं सकता
मुझसे बेहतर तुम्हें कोई समझ नहीं सकता

100
इश्क मोहब्बत इबादत से मैंने तुमसे की हैं
जान मैंने तुमसे कितनी मोहब्बत की है
हर दफा मैंने चाहा है तुम्हें
पूछो उससे मैंने तुम्हें कितनी इश्क इबादत की है

Over To You:

तो दोस्तों ये थे बेस्ट दिल को छू जाने वाली शायरी, हम उम्मीद करते है की आपको ये सभी शायरी बहुत पसंद आई होगी. यदि आपको ये शायरी अच्छी लगी हो तो प्लीज इसको अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

इसके अलावा यदि आपके पास और कोई शायरी है तो उसको हमारे साथ कमेंट में जरुर शेयर करे और हम आपकी शायरी को इस पोस्ट में शामिल करेंगे धन्येवाद.

Click Below To Share

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.