DGP कैसे बने | DGP बनने के लिए क्या करे

DGP कैसे बने: अगर हम हमारे भारत देश की बात करें तो हमारे भारत देश में लोगों को सरकारी नौकरी बहुत ही ज्यादा पसंद होती है, क्योंकि सरकारी नौकरी में ऐसे कई फायदे हैं, जो लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। भारत में हर साल लाखों लोग सरकारी नौकरियों की तैयारी करते हैं और उनमें से बहुत से लोग सरकारी नौकरी पाने में कामयाब हो जाते हैं।

हर कोई पढ़ लिखकर एक अच्छी जिंदगी और अच्छा केरियर प्राप्त करना चाहता है और इसके लिए वह काफी मेहनत भी करता है।अच्छी जिंदगी जीना हर किसी का सपना होता है, इसीलिए जब विद्यार्थी वर्ग 12वीं की परीक्षा को पास करते हैं, तो उसके बाद से ही उन्हें अपने कैरियर के बारे में चिंता होने लगती है।

अपने कैरियर को अच्छे से स्थापित करने के लिए वह अपने इंटरेस्ट के हिसाब से कोर्स करते हैं और कोर्स करने के बाद विभिन्न क्षेत्रों में नौकरी भी प्राप्त करते हैं।

हमारे भारत में सरकारी नौकरी के कई पद हैं जैसे, आईएएस, आईपीएस, डीएम, एसडीएम, लेखपाल, डीआईजी, एसीपी, डीजीपी। इसमें सभी पद काफी उच्च पद माने जाते हैं और इन सभी पदों में अभ्यर्थी को अच्छी तनख्वाह के साथ-साथ अच्छी पावर भी मिलती है।

अगर आप इसमें से डीजीपी का पद प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं, क्योंकि आज के इस आर्टिकल में हम आपको डीजीपी कैसे बनते हैं, इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं।

आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि डीजीपी क्या है, डीजीपी कैसे बनते हैं, डीजीपी बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है,डीजीपी अधिकारी की सैलरी कितनी होती है, डीजीपी अधिकारी कौन कौन से काम करता है, इत्यादि, तो आइए चलते हैं मुख्य मुद्दे पर और जानते हैं कि डीजीपी ऑफिसर कैसे बना जाता है।

DGP कैसे बने

DGP बनने के लिए क्या करे

DGP kaise bane

1. डीजीपी क्या है

डीजीपी पुलिस विभाग में एक बहुत ही बड़ा पद होता है और आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, पुलिस विभाग में डीजीपी वही व्यक्ति बन सकता है, जो एक आईपीएस अधिकारी होता है। इसके लिए यह बहुत ही सम्मानित पद माना जाता है। डीजीपी अधिकारी को अपने क्षेत्र में बहुत से अधिकार प्राप्त होते हैं।

डीजीपी अधिकारी अपनी पावर का इस्तेमाल करके अपने क्षेत्र के कानून व्यवस्था को संभालने का काम करता है।डीजीपी को हिंदी में पुलिस महानिदेशक भी कहा जाता है और यह पुलिस विभाग का सबसे आखरी और टॉप लेवल का पद होता है।

इस विभाग में डीजीपी से बड़ा कोई पोस्ट नहीं होती। भारत के किसी भी राज्य में कम से कम 1 या फिर अधिक से अधिक चार डीजीपी ऑफिसर हो सकते हैं,जितने भी डीजीपी अधिकारी होते हैं, वह भारतीय पुलिस सर्विस के ऑफिसर होते हैं।

2. डीजीपी का फुल फॉर्म

बहुत से लोगों को डीजीपी का फुल फॉर्म पता नहीं होता, तो ऐसे लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि, डीजीपी का फुल फॉर्म होता है डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस।डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस को हिंदी में पुलिस महानिदेशक भी कहा जाता है।यह पुलिस विभाग में बहुत ही ऊंचा पद माना जाता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, जो अभ्यर्थी डीजीपी अधिकारी होता है, उसे पुलिस विभाग में एक कैबिनेट मंत्री के बराबर ही दर्जा दिया जाता है।

हमारे भारत देश के सभी राज्यों में डीजीपी के पदों की नियुक्ति पुलिस के मुखिया के तौर पर की जाती है। डीजीपी ही वह अधिकारी होता है, जो अपने अधिकारों का प्रयोग करके वह जिस क्षेत्र में नियुक्त होता है, वहां की कानून व्यवस्था को बनाए रखने का काम करता है।

3. डीजीपी कैसे बने

डीजीपी पुलिस विभाग में एक ऊंचा पद माना जाता है और किसी भी ऊंचे पद को प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थी को कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता होती है।डीजीपी बनना कोई आसान काम नहीं है।

इस पद को पाने के लिए अभ्यर्थी को कड़ी मेहनत के साथ-साथ कठिन परीक्षा को पास करना जरूरी होता है, तभी वह डीजीपी के पद को प्राप्त कर सकते हैं।

डीजीपी का पद पुलिस विभाग में सबसे ऊंचे पदों में से एक पद माना जाता है और इस पद को प्राप्त करने के लिए आपको आइपीएस की परीक्षा से गुजरना होता है।

4. डीजीपी की पोस्ट कैसे मिलती है

डीजीपी की पोस्ट को प्राप्त करने के लिए सबसे पहले आपको उप पुलिस अधीक्षक अर्थात डीएसपी के पद पर नियुक्त किया जाता है। इसके बाद आपको अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अर्थात एएसपी का पद दिया जाता है।

एएसपी के पद पर काम करते रहने के साथ-साथ आपको कुछ दिनों के बाद पुलिस अधीक्षक अर्थात एसपी के पद की जिम्मेदारी को संभालना होता है। इसके बाद आपको वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अर्थात एसएसपी के पद पर तैनाती की जाती है।

इसके बाद आपको पुलिस महा निरीक्षक अर्थात डीआईजीपी के पद पर नियुक्त किया जाता है, फिर इसके बाद आप पुलिस महानिरीक्षक अर्थात आईजीपी बन जाएंगे।

इसके बाद आपको एडीजीपी अर्थात अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक बनाया जाता है, फिर सबसे अंत में आपको पुलिस महानिदेशक यानी कि डीजीपी का पद दिया जाता है।

डीजीपी का पद पुलिस विभाग का सबसे अंतिम पद होता है, इसलिए इस पद को प्राप्त करना आसान नहीं होता है। इस पद को प्राप्त करने के लिए बहुत अधिक मेहनत करनी पड़ती है।

5. डीजीपी बनने के लिए परीक्षा

अगर आप डीजीपी बनने की इच्छा रखते हैं या डीजीपी बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा कराई जाने वाली भारतीय सिविल सर्विस की परीक्षा में शामिल होना पड़ेगा|

और यदि आप इस परीक्षा में शामिल होकर इस परीक्षा को सफलतापूर्वक अच्छे अंकों के साथ पास कर लेते हैं, तो फिर आपको प्रमोशन के बाद डीजीपी यानी कि पुलिस महानिदेशक के पद पर नियुक्त कर दिया जाएगा।

6. डीजीपी बनने के लिए शैक्षिक योग्यता

डीजीपी बनने के लिए व्यक्ति को यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा कराई जाने वाली परीक्षा में शामिल होना पड़ता है और इस परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी का ग्रेजुएशन पास होना जरूरी है। अभ्यर्थी अपना ग्रेजुएशन की किसी भी विषय से कर सकता है।

अगर आप डीजीपी की परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं, तो आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।अगर आपने अपना ग्रेजुएशन पूरा नहीं किया है, तो फिर आप डीजीपी के पद के लिए एप्लीकेशन नहीं भर सकते है।

7. डीजीपी बनने के लिए उम्र

भारतीय सरकार ने भारतीय संविधान में दिए गए आरक्षण का ध्यान रखते हुए डीजीपी की उम्र में सभी वर्गों के लिए अलग-अलग निर्धारण किया हुआ है।

अगर हम डीजीपी बनने के लिए सामान्य वर्ग की उम्र के बारे में बात करें, तो सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी डीजीपी बनने के लिए 21 साल से लेकर 30 साल तक प्रयत्न कर सकते हैं।

इसके अलावा जो लोग ओबीसी समुदाय से संबंध रखते हैं, वह 21 साल से लेकर 32 साल तक डीजीपी बन सकते हैं, साथ ही जो लोग sc-st अर्थात अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से संबंध रखते हैं, वह लोग 21 साल से लेकर 35 साल तक डीजीपी के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।

8. डीजीपी ऑफिसर की सैलरी

पहले डीजीपी ऑफिसर की सैलरी वर्तमान के हिसाब से कम थी परंतु, सातवें वेतन आयोग के लागू होने के बाद डीजीपी की सैलरी में बढ़ोतरी हुई।

अगर हम डीजीपी की महीने की सैलरी के बारे में बात करें, तो एक डीजीपी ऑफिसर को महीने की सैलरी के रूप में कम से कम 70000 और अधिक से अधिक ₹225000 मिलते हैं।इसके अलावा इन्हें ग्रेड पे भी मिलता है।

इसके अलावा डीजीपी अधिकारी को अन्य कई सरकारी सुविधा भी प्राप्त होती है। जैसे इन्हें राशन खर्चा, लाइट बिल खर्चा, टेलिफोन बिल खर्चा, आवागमन के लिए सरकारी वाहन, व्यक्तिगत सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड, घर का काम करने के लिए होमगार्ड,घर में खाना बनाने के लिए बावर्ची, इसके अलावा पीएफ तथा ग्रेजुएटी और रिटायरमेंट के बाद पेंशन भी प्राप्त होती है।

9. डीजीपी अधिकारी का काम

डीजीपी अधिकारी पुलिस विभाग में काम करता है।इसके लिए अन्य पुलिस अधिकारियों की तरह ही उनके भी काम आमतौर पर एक दूसरे से मिलते जुलते ही है। डीजीपी अधिकारी कौन कौन से काम करता है, उसके बारे में हम आपको नीचे जानकारी प्रदान कर रहे हैं।

डीजीपी अधिकारी की तैनाती जिस राज्य में होती है, वहां पर उसे कानून व्यवस्था का पालन करवाने की जिम्मेदारी दी जाती है। इसके अलावा अगर कोई कानून व्यवस्था का उल्लंघन करता है, तो उसके खिलाफ आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश डीजीपी अधिकारी देता है।

डीजीपी उसके राज्य में सभी जिलों में कानून व्यवस्था का अच्छे से पालन हो इसका ख्याल रखता है और समय-समय पर सभी जिलों के डीएम से संपर्क करके जिले के बारे में जानकारी लेता है।

डीजीपी स्टेट गवर्नमेंट के साथ मिलकर राज्य में कामों को आगे बढ़ाने का काम करता है।

इसके अलावा डीजीपी उसके राज्य में पूरे पुलिस डिपार्टमेंट को अपने नियंत्रण में रखने काम करता है, साथ ही पुलिस अधिकारियों का स्थानांतरण करने का अधिकार भी डीजीपी अधिकारी रखता है।

डीजीपी अधिकारी को हर साल स्टेट गवर्नमेंट को राज्य में अपराध की दर तथा कानून व्यवस्था से संबंधित जानकारी प्रदान करनी होती है।

10 . डीजीपी परीक्षा का सिलेबस

डीजीपी की परीक्षा में नीचे बताए गए विषयों से संबंधित सवाल पूछे जाते हैं,इसलिए इन विषयों का अध्ययन अवश्य करें।

  • राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय करंट अफेयर्स
  • राष्ट्रीय हिस्ट्री
  • राष्ट्रीय आंदोलन
  • भारत और विश्व का भूगोल
  • सिस्टम गवर्नेंस
  • संविधान योजनाएं
  • पब्लिक पॉलिसी
  • आर्थिक सामाजिक विकास
  • गरीबी
  • जनसंख्या
  • एनवायरमेंट इकोलॉजी
  • बायोडायवर्सिटी
  • जनरल साइंस
  • क्लाइमेट चेंज
  • लॉजिकल रीजनिंग
  • एनालिटिकल एबिलिटी
  • डिसीजन मेकिंग
  • प्रॉब्लम सॉल्व
  • जनरल एंड मेंटल एबिलिटी
  • बेसिक मैथ्स
  • डाटा इंटरप्रिटेशन
  • फिजिक्स
  • केमिस्ट्री
  • लॉ
  • मैनेजमेंट

11. डीजीपी बनने के लिए फिजिकल फिटनेस

डीजीपी बनने के लिए सामान्य वर्ग के पुरुष अभ्यर्थियों की लंबाई 165 सेंटीमीटर और महिला अभ्यर्थियों की लंबाई 150 सेंटीमीटर होनी चाहिए।

एससी एसटी के पुरुष लोगों की लंबाई 160 जबकि, महिला अभ्यर्थियों की लंबाई 145 सेंटीमीटर सरकार द्वारा निर्धारित की गई है, डीजीपी बनने के लिए।

12. डीजीपी की परीक्षा की तैयारी कैसे करें

अगर आप डीजीपी बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको डीजीपी की परीक्षा की तैयारी कैसे करें, इसके बारे में जानकारी होना आवश्यक है। नीचे हमने डीजीपी की परीक्षा की प्रिपरेशन कैसे करें, इसके बारे में जानकारी दी है।

जैसा कि आप जानते हैं कि किसी भी प्रकार की परीक्षा की तैयारी करने के लिए एक टाइम टेबल की आवश्यकता होती है, जिसे हमें खुद बनाना पड़ता है। टाइम टेबल से हमें यह पता चलता है कि हमें किस दिन कौन से विषय की कितने घंटे पढ़ाई करनी है, इसीलिए डीजीपी की परीक्षा की तैयारी करने के लिए एक टाइम टेबल का निर्माण अवश्य करें।

आप डीजीपी की परीक्षा की तैयारी ऐसी जगह पर करें, जहां पर बिल्कुल शांति हो क्योंकि जहां पर शोरगुल होगा, वहां पर आप अपना ध्यान नहीं लगा पाएंगे। इसके अलावा तैयारी करते समय अपना मोबाइल फोन स्विच ऑफ रख दे, जिससे आपको बार-बार डिस्टरबेंस ना हो।

इसके अलावा जो लोग पहले डीजीपी की परीक्षा दे चुके हैं, वैसे लोगों से मिले और उनसे इस परीक्षा के बारे में जानकारी प्राप्त करें। उनसे यह पूछा कि उन्होंने इस परीक्षा की तैयारी करने के लिए कैसे पढ़ाई की, कौन सी पढ़ाई की, कौन सी किताबों का इस्तेमाल पढ़ाई करने के लिए किया, रोजाना कितने घंटे पढ़ाई की।

इसके अलावा अपनी फिजिकल फिटनेस का विशेष तौर पर ध्यान रखें। फिजिकल फिटनेस के लिए आप रोजाना सुबह उठकर कसरत करें,इसके अलावा आप रनिंग, जंपिंग और स्विमिंग भी कर सकते हैं।

इसके अलावा डीजीपी की परीक्षा की तैयारी करने के लिए आप अपने घर के आस-पास स्थित किसी अच्छे कोचिंग इंस्टिट्यूट का सहारा भी ले सकते हैं और अगर आपके घर के आसपास कोई अच्छा कोचिंग इंस्टिट्यूट नहीं है|

तो आप ऑनलाइन भी डीजीपी की परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं, क्योंकि आज ऑनलाइन वीडियो प्लेटफॉर्म यूट्यूब पर ऐसे कई एजुकेशन से संबंधित चैनल है, जो ना सिर्फ डीजीपी बल्कि भारत की अन्य बड़ी-बड़ी परीक्षाओं की तैयारी भी करवाते हैं।

डीजीपी की परीक्षा की तैयारी करने के लिए आप डीजीपी की परीक्षा के पहले के प्रश्न पत्रों को इकट्ठा करने का प्रयास करें और उनमें दिए गए सवालों को हल करने का प्रयास करें। इससे आपको परीक्षा सिलेबस और परीक्षा पैटर्न के बारे में जानकारी मिलेगी।

सप्ताह में आपने जो भी तैयारी की है, उसका एक बार रिवीजन अवश्य कर लें तथा बिल्कुल शांत मन से डीआइजी की परीक्षा की तैयारी करें।

डीजीपी की परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए आप अपने अंदर आत्मविश्वास जगाएं और सच्चे मन और कड़ी मेहनत से अपनी तैयारी करते रहें। इसके अलावा रोजाना राज्य लोक सेवा आयोग की वेबसाइट को देखते रहे। इससे आपको डीजीपी की परीक्षा के बारे में आवश्यक नोटिफिकेशन मिलता रहेगा।

हम सभी यह बात अच्छी तरह से जानते हैं कि पुलिस एक ऐसा विभाग होता है, जिसमें हर साल भारत के अलग-अलग राज्य विभिन्न प्रकार की भर्तियां निकालते हैं, जिसमें बहुत से अभ्यर्थी बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं, जिसमे पुलिस विभाग का डीजीपी का पद एक ऐसा पद है, जिसका लेवल बहुत ऊंचा होता है।

इसका लेवल जितना ऊंचा होता है, उतना ही इसकी एग्जाम भी कठिन होती है, इसीलिए इसकी परीक्षा को आप बिना किसी जानकारी और मेहनत के पास नहीं कर सकते है।

आपकी और दोस्तों:

तो दोस्तों ये था DGP कैसे बने, हम उम्मीद करते है की इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप सभी को पता चल गया होगा की DGP बनने के लिए क्या करना पड़ता है|

अगर आपको हमारी बताई गयी जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और whatsapp पर जरुर शेयर करे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो को ये पता चल पाए की एक DGP ऑफिसर बनने की तैयार कैसे करे. धन्येवाद दोस्तों|

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.