दमा अस्थमा का इलाज के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार दवा | Asthma Treatmemt in hindi



दमा अस्थमा का इलाज के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार दवा – नमस्कार दोस्तों क्या आप दमा या अस्थमा का इलाज करने के घरेलू या आयुर्वेदिक उपचार और दवाई ढूंढ रहे हैं तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पर हो क्योंकि आज हम आपके साथ दमा या अस्थमा ठीक करने के होम्योपैथिक इलाज बताने वाले हैं जिस को फॉलो करके आप आसानी से कितना भी पुराना दमा का रोगी हो उसको आप ठीक कर सकते हो

जिस व्यक्ति को दमा की बीमारी होती है उसको सांस लेने में बहुत ज्यादा दिक्कत होती है और उसको तरह-तरह की बीमारी होने का खतरा भी बढ़ जाता है और जो व्यक्ति को अस्थमा की बीमारी होती है उनको रात को सोते समय बहुत ज्यादा परेशानी होती है सांस लेने के लिए जिसकी वजह से उन लोग रात को अच्छी तरीके से सो नहीं पाते हैं

पढ़े – नाक से खून आना बंद कैसे करे

जिन लोगों को दमा या अस्थमा की बीमारी होती है वह लोग की शारीरिक क्षमता भी बहुत ज्यादा कम हो जाती है और थोड़ा सा काम करने में उनकी सांस फूलने लग जाती है. दमा एक ऐसी बीमारी है अगर किसी व्यक्ति को हो जाए तो वह बहुत जल्दी थक जाता है और वह थकान का शिकार हो जाता है इसलिए हम समझते हैं कि आज का एयरपोर्ट बहुत से लोगों की मदद करेगा जिन लोगों को दमा या अस्थमा की बीमारी है और वह लोग उसका आयुर्वेदिक उपचार उपाय और दवा ढूंढ रहे हैं

चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम सीधे अपने बेड मुद्दे पर आते हैं और देखते हैं दमा की बीमारी ठीक करने के आयुर्वेदिक और घरेलू उपचार

दमा अस्थमा का इलाज के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार दवा

Asthma Treatmemt in hindi

१. सूखा आंवला और मुलहटी को अलग अलग पीसकर बारीक चूर्ण बना लें और फिर उन्हें मिलाकर रख लीजिए. इतने से एक चम्मच चूर्ण दिन में दो बार खाली पेट लेने से दमा की बीमारी में बहुत लाभ होता है

२. 25 ग्राम अलसी को कुचल कर 375 ग्राम पानी में औटाए. जब पानी एक तिहाई रह जाए तो 125 ग्राम मिश्री मिलाकर रख दीजिए. इसमें से एक एक चम्मच भर काड़ा एक एक 2 घंटे के अंतर से दिन में कई बार पिलाएं इससे अस्थमा में बहुत ज्यादा आराम मिलेगा और अगर आपको उल्टी होती है तो आप इसका उपयोग ना करें

३. रोगी को केवल गर्म पानी अथवा गर्म दूध पिलाने से कफ पतला हो जाता है और स्वास दमा के दौरे से आराम पड़ता है

४. पांच से सात बादाम की गिरी को पानी में पीसकर आग पर कुछ देर तक उबालें. थोड़ा-थोड़ा रोगी को पिलाने से दमा का दौरा आना रुक जाता है

पढ़े – जल जाने का इलाज के घरेलू उपचार उपाय दवा

५. 30 से 40 ग्राम अंगूर का रस गरम कर के रोगी को पिलाने से सांस लेने में काफी ज्यादा आसानी होती है और यह दमा के रोगी या अस्थमा के रोगी के लिए बहुत ज्यादा लाभदायक है

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था दमा या अस्थमा रोग का इलाज करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार और उपाय हम उम्मीद करते हैं कि आज का यह पोस्ट पढ़कर आपको पता चल गया होगा कि अस्थमा के रोगी को कौन सी आयुर्वेदिक दवा देनी चाहिए

अगर आपने हमारे बताए गए आयुर्वेदिक दवा को नियमित रूप से अस्थमा के रोगी को दिया तो उनका दमा का दौरा पड़ना बहुत ज्यादा कम हो जाएगा और उनको दमा से होने वाली सांस लेने की तकलीफ में बहुत ज्यादा राहत मिलेगी

पढ़े – चेहरे पर सफ़ेद दाग का इलाज

अगर आपके भी घर में कोई व्यक्ति है या आपके कोई दोस्त या रिश्तेदार है जिनको दमा या अस्थमा की बीमारी हो और उन लोगों को पता नहीं है कि इस के आयुर्वेदिक उपचार और आयुर्वेदिक दवा क्या है तो उन लोगों के साथ यह पोस्ट को जरुर शेयर करें

शेयर करने के लिए आप इस पोस्ट को WhatsApp Twitter फेसबुक और गूगल प्लस पर शेयर करें और ज्यादा से ज्यादा लोगों को दमा की बीमारी से राहत पाने में उनकी मदद करें धन्यवाद दोस्तों

दमा अस्थमा का इलाज के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार दवा | Asthma Treatmemt in hindi
कृपया पोस्ट को रेट और शेयर करे

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *