दादी माँ के देसी घरेलू नुस्खे, आयुर्वेदिक उपचार और इलाज



दादी माँ के देसी घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक उपचार इलाज – नमस्कार दोस्तों क्या आप दादी मां के देसी और घरेलू नुस्खे जानना चाहते हैं तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पर हो क्योंकि इसके साथ-साथ आज हम आप दादी मां के आयुर्वेदिक उपचार और उपाय भी बताने वाले हैं जिसकी मदद से आप बहुत सारे बीमारियों का इलाज कर सकते हैं

वैसे जब हम छोटा हुआ करते थे तब आपको पता ही होगा कि आपकी दादी मां आपको कुछ भी हो जाता था तब वह आपको घरेलू नुस्खे और उपाय बताते थे और आज के इस पोस्ट में हम आपको और भी मजेदार और लाजवाब घरेलू और देसी नुस्खे बताने वाले हैं उसकी मदद से आप तरह-तरह की बीमारियों का इलाज कर सकते हैं घर बैठे

चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम सीधे अपने मेन मुद्दे पर आते हैं और देखते हैं दादी मां के देसी और घरेलू नुस्खे

पढ़े – घरेलू नुस्खे उपचार

दादी माँ के देसी घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक उपचार

दादी माँ के आयुर्वेदिक इलाज दवा

१. यदि कान में कीड़ा चला जाए तो कान में सरसों का तेल भर दें कीड़ा अपने आप ही बाहर निकल जाएगा

२. आंख में मच्छर चला गया हो तो उल्टे पैर पीछे की तरफ चलना शुरू कर दे मच्छर आपकी आंखों से तुरंत निकल जाएगा

३. दाद पर कच्चे पपीते का रस लगाने से दाद और खुजली कुछ ही दिनों में हमेशा हमेशा के लिए दूर हो जाती है

४. जल जाने पर तारपीन का तेल लगाने से जलन बहुत ज्यादा कम हो जाती है

५. गुलकंद का सेवन करने से एसिडिटी में बहुत ज्यादा लाभ होता है

६. 2 ग्राम भुनी फिटकरी रात को मुंह में रखकर सोने से तीन चार महीने में तुतलाना कम हो जाता है

७. गर्म दूध में हल्दी डालकर पीने से पुरानी खांसी तुरंत ठीक हो जाती है

८. बच्चों को दस्त हो ठंडे पानी में जायफल घिसकर सुबह-शाम देने से बच्चों का दस्त और पेचिश ठीक हो जाता है

9. फोटो पर कच्चा दूध लगाने से होठों का कालापन दूर हो जाता है और आपके होंठ और भी ज्यादा गुलाबी नजर आते हैं

१०. दिल की धड़कन बढ़ जाने पर सेब का मुरब्बा सुबह खाने से बहुत ज्यादा लाभ होता है

११. चेहरे पर झाई हो जाने पर तारपीन का तेल मसल कर कुछ देर बाद धो लेने से बहुत शीघ्र लाभ होता है

१२. नाक में कोई चीज पड़ जाए तो तंबाकू पीसकर सोने से ठीक आने के साथ वह चीज बाहर निकल जाती है

१३. यदि बच्चा रात में बिस्तर पर पेशाब करता है तो एक अखरोट की गिरी व किशमिश रात को सोने से पहले 10 दिन खिलाएं इसे बच्चा बिस्तर में पेशाब करना बंद कर देता है

१४. संतरे का रस में नमक व काली मिर्च डालकर रोज पीने से कुछ समय बाद आंखों की नजर की कमजोरी दूर होने लग जाती है

१५. एक गिलास मीठा दूध में 5 ग्राम बेलगिरी का चूर्ण मिलाकर पीने से खून बढ़ जाता है तथा शरीर में खून की कमी दूर हो जाती है

१६. रात को सोते समय काली मिर्च पीसकर मुंहासे पर लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते हैं

१७. हिचकी बंद ना हो तो पुदीने के पत्ते या नींबू का रस चूसने से हिचकी तुरंत बंद हो जाती है

१८. छोटे बच्चों को होने वाले हरे पीले दस्त में मां के दूध में जायफल घिसकर देने से लाभ होता है

१९. पीली मिट्टी महीन पीस कर पानी में पेडू पर लेप करने से रुका हुआ पेशाब खुलकर आने लगता है

२०. बच्चों की सांस चलने पसली में दर्द होने पर पान पर गर्म सरसों का तेल लगाकर दर्द वाले स्थान पर बांधने से लाभ होता है

२१. पान में खाने का चूना वह गेरू लगाकर बांधने से बालतोड़ ठीक हो जाता है

२२. अनार का छिलका पीसकर पानी के साथ लगातार सेवन करने से स्वप्नदोष की बीमारी ठीक हो जाती है

२३. नींबू के रस में एक जायफल पीसकर खाने से दस्त खुलकर आता है और पेट दर्द भी ठीक हो जाता है

२४. टमाटर का रस चेहरे पर लगाने से दाग-धब्बे हमेशा के लिए दूर हो जाते हैं

२५. आग से जल जाने पर उस जगह पर लगाने से फफोले नहीं पड़ते

२६. अदरक का रस और शहद मिलाकर लगाने से दांत का दर्द बिल्कुल ठीक हो जाता है

२७. सुबह बाथरुम जाने से पहले रात का बासी पानी तांबे के बर्तन वाला रोज पीने से कब्ज दूर हो जाता है और स्वप्नदोष में बहुत ज्यादा फायदा होता है

२८. खाना खाने के बाद फोन उठ कर पेशाब कर लेने से धात की बीमारी नहीं होती

२९. मछली का कांटा गले में फंस जाए तो केला खा लेने से मछली का कांटा आपके गले से उतर जाता है

३०. हरा धनिया कूटकर उसका पानी निचोड़कर 25 ग्राम पिलाने से उल्टी आना बंद हो जाती है

३१. काला या पीला ततैया डंक मार जाए तो मुली काटकर या मूली का पानी रोई में भिगोकर डंक वाली जगह पर रख देने से बहुत ज्यादा आराम होता है और दर्द भी नहीं होता

३२. लौंग का उबला हुआ पानी पीने से बार बार लगने वाली प्यास बहुत ज्यादा कम हो जाती है

३३. अगर पैदा हुए बच्चे को पेशाब ना आए तो 6 ग्राम कलमी शोरा पानी में घोलकर उसमें रूई भिगोकर बच्चों के मसाने पर रख देना 5 मिनट को पेशाब लग जाएगी

३५. मोर के पंख बच्चे के गले में बांधने से बच्चे का दांत चबाना बंद होगा रात को बच्चा बिल्कुल भी डरेगा नहीं

३६. आम की लकड़ी का कोयला बारीक पीसकर १०० ग्राम, लाहौरी नमक 10 ग्राम, इलायची का तेल 10 ग्राम अच्छी तरह से मिलाकर रख लीजिए. एक बार लगाने से ही दांत सफेद हो जाते हैं

आपकि और दोस्तों

दोस्तों यह था दादी माँ के देसी घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक उपचार हम उम्मीद करते हैं कि आपका यह पोस्ट पढ़कर आपको दादी मां के सभी घरेलू उपाय और इलाज के बारे में पता चल गया होगा

अगर आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ और घर परिवार वालों के साथ जरुर शेयर करें ताकि उन लोगों को भी पता चल पाए की छोटी-छोटी बीमारी का दादी मां के घरेलू नुस्खे की मदद से हम कैसे ठीक कर सकते हैं

शेयर करने के लिए आप इस पोस्ट को Facebook WhatsApp Twitter और गूगल प्लस पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें धन्यवाद दोस्तों