च्यवनप्राश के फायदे और नुकसान | Chyawanprash Benefits & Side Effects Hindi

च्यवनप्राश एक आयुर्वेदिक स्वास्थ्य आहार है, जो पोषक तत्वों से भरपूर जड़ी-बूटियों और मिनरल्स के मिश्रण से बना है। यह मनुष्य की जीवन शक्ति, उम्र बढ़ने को रोकते हुए और ताकत, सहनशक्ति को संरक्षित करने के लिए है।

च्यवनप्राश लगभग 50 औषधीय जड़ी-बूटियों और उनके अर्क को संसाधित करके तैयार किया जाता है, जिसमें प्रमुख घटक आंवला (भारतीय आंवला) शामिल है। जो दुनिया में विटामिन-सी का सबसे समृद्ध स्रोत है।

च्यवनप्राश को बनाते समय जड़ी-बूटियों का काढ़ा तैयार किया जाता है। इसके बाद सूखे अर्क को शहद के साथ तैयार किया जाता है।

फिर इसके बाद इसमें सुगंधित जड़ी-बूटियों के पाउडर (अर्थात् लौंग, इलायची और दालचीनी) को मानक के रूप में शामिल किया जाता है। तैयार उत्पाद में फलों के जैम जैसी स्थिरता होती है, और एक मीठा, खट्टा और मसालेदार स्वाद होता है।

च्यवनप्राश की वैज्ञानिक खोज इसकी चिकित्सीय प्रभावकारिता को समझने के लिए जरूरी है। च्यवनप्राश की चिकित्सीय क्षमता की खोज करने वाली बिखरी हुई जानकारी उपलब्ध है, और इसे इकट्ठा करने की आवश्यकता है।

इस प्रकार प्राचीन आयुर्वेदिक ग्रंथों के साथ-साथ एथ्नोबोटैनिकल, एथनोफार्माकोलॉजिकल और वैज्ञानिक रूप से मान्य साहित्य से बिखरी हुई जानकारी को संकलित करने का प्रयास किया गया, जो चिकित्सा विज्ञान में च्यवनप्राश की भूमिका को उजागर करता है।

च्यवनप्राश का असामान्य नाम च्यवन ऋषि की कथा से निकला है, जो एक वन ऋषि थे।

महाभारत, पुराण आदि जैसे विभिन्न प्राचीन पवित्र ग्रंथ बताते हैं कि कैसे जुड़वां अश्विनी कुमार भाइयों (वैदिक युग के दौरान देवताओं के शाही चिकित्सक) ने ऋषि च्यवन को छोटा बनाने और उनकी जीवन शक्ति तथा ताकत में सुधार करने के लिए इस पॉलीहर्बल का आविष्कार किया था।

भारत के हरियाणा राज्य में नारनौल क्षेत्र के पास धोसी हिल में उनके आश्रम में इसका सूत्रीकरण तैयार किया गया था। प्राचीन ऋषि से इसका नाम लेते हुए इस सूत्र को “च्यवनप्राश” कहा जाता था।

उन्होंने प्रबुद्ध होने के लिए सख्त प्रथाओं का पालन किया और इसने उन्हें कमजोर, दुर्बल और वृद्ध बना दिया था। अपनी युवावस्था, जीवन शक्ति और शक्ति को पुनः प्राप्त करने के लिए, उन्होंने च्यवनप्राश का उपयोग किया।

च्यवनप्राश के लिए ऐतिहासिक रूप से दर्ज सबसे प्रमुख नुस्खा चरक संहिता, प्राचीन आयुर्वेदिक क्लासिक में बताया गया है, जहां इसे अन्य सभी हर्बल कायाकल्प टॉनिक से बेहतर माना जाता है।

Table of Contents:

च्यवनप्राश की गुणवत्ता

chyawanprash

च्यवनप्राश एक अर्ध-ठोस चिपचिपा पेस्ट है, जिसमें भूरे रंग का काला मिश्रण होता है। जिसमें मुख्य रूप से मीठी और मसालेदार गंध होती है।

इसका यह स्वाद मुख्य रूप से शहद, चंदन, दालचीनी, इलायची, गाय के घी (स्पष्ट मक्खन), त्रिफला (तीन हरड़ का मिश्रण) और कुछ मसालों की सुगंध से प्राप्त होता है। च्यवनप्राश की गुणवत्ता पर सीमित अध्ययन उपलब्ध हैं।

च्यवनप्राश की संरचना में एक प्रमुख हिस्सा आंवला है, जो विटामिन-सी और पॉलीफेनोलिक्स में समृद्ध है, जिसमें फ्लेवोनोइड्स भी शामिल हैं।

च्यवनप्राश के फेनोलिक यौगिकों में एंटीऑक्सीडेंट सिद्धांत होते हैं, जिन्हें च्यवनप्राश के कायाकल्प और टॉनिक गुणों में योगदान देने के लिए कहा जाता है।

एक उच्च तरल क्रोमैटोग्राफी (एचपीएलसी) विश्लेषण ने च्यवनप्राश में कई जैविक रूप से सक्रिय फेनोलिक्स की पहचान की है।

अर्थात गैलिक एसिड, प्रोटोकैच्यूइक एसिड, कैटेचिन, कैफिक एसिड, वैनिलिक एसिड, क्लोरोजेनिक एसिड, सीरिंजिक एसिड, रुटिन, फेरुलिक एसिड और क्वेरसिट्रिन जो कि इसकी चिकित्सीय गतिविधि के लिए उपयोगी होता है।

च्यवनप्राश खाने के फायदे और नुकसान

Chyawanprash Benefits and Side Effects Hindi

Chyawanprash ke fayde aur nuksan

मित्रों क्यूंकि बहुत लोग रोज च्यवनप्राश खाते है तो सबसे पहले हम इसके हेल्थ बेनिफिट देखेंगे और फिर अंत में इसके साइड इफ़ेक्ट के बारे में भी डिटेल में बात करेंगे ताकि आपको सभ कुछ अच्छे से समझ में आ जाये.

च्यवनप्राश खाने के क्या फायदे है?

chyawanprash benefits hindi

च्यवनप्राश की में एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-एजिंग और कायाकल्प गुण होते हैं, जो विभिन्न स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने में मदद करते हैं। निम्नलिखित कुछ सबसे महत्वपूर्ण च्यवनप्राश खाने के फायदे हैं:

1. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है

च्यवनप्राश में फ्लेवोनोइड्स और टैनिन जैसे फाइटोकंपाउंड होते हैं, जिनमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह हमारे इम्यून सिस्टम के कामकाज में सुधार करते हैं।

च्यवनप्राश में मुख्य पदार्थ आंवला होता है। यह विटामिन-सी का एक समृद्ध स्रोत है जो शरीर में मुक्त कणों (फ्री रेडिकल्स) को कम करता है।

आंवला शरीर से हानिकारक रसायनों को हटाकर शरीर को डिटॉक्सीफाई भी करता है। इसलिए च्यवनप्राश संक्रमण से लड़ने के लिए इम्यूनिटी को बढ़ाता है।

2. हीमोग्लोबिन में सुधार करता है

शोध बताते हैं कि च्यवनप्राश हीमोग्लोबिन और सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करता है। जिन लोगों में अक्सर खून की कमी होती है।

वो च्यवनप्राश का सेवन कर सकते हैं। लेकिन आप अगर सिर्फ हीमोग्लोबिन में सुधार करना चाहते हैं, तो इसके लिए अनार सबसे अच्छा विकल्प रहता है।

3. यौन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है

च्यवनप्राश का नियमित सेवन यौन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह प्रजनन क्षमता और पौरूष (यौवन क्षमता) को बढ़ाता है।

नेचुरल मेडिसिन जर्नल के अनुसार, च्यवनप्राश में मौजूद अश्वगंधा महिलाओं में एंड्रोजन हार्मोन को बढ़ाने और कम करने में मदद करता है जिससे यौन स्वास्थ्य बेहतर होता है।

4. हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद

च्यवनप्राश हार्मोन को विनियमित करने के लिए जिम्मेदार अंतःस्रावी तंत्र को मजबूत करता है।

आयुर्वेद के अनुसार, च्यवनप्राश तीन दोषों, वात, पित्त और कफ को संतुलित करने में भी मदद करता है, जो शरीर में हार्मोन को संतुलित करते हैं। इस तरह से च्यवनप्राश एक बढ़िया हार्मोन टॉनिक है।

5. ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करता है

च्यवनप्राश ग्लूकोज सहनशीलता को बढ़ाता है और रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है। यह लिपिड प्रोफाइल और ग्लाइसेमिक इंडेक्स को बनाए रखने में भी मदद करता है।

हालांकि, च्यवनप्राश का अधिक सेवन ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा सकता है क्योंकि कुछ व्यावसायिक च्यवनप्राश में शहद और अतिरिक्त शुगर होती है। डायबिटीज़ होने पर च्यवनप्राश खाने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

6. संज्ञानात्मक क्षमता में सुधार करता है

एक अध्ययन के अनुसार, पांच महीने तक दिन में दो बार एक चम्मच च्यवनप्राश कॉलेज के छात्रों में सतर्कता, एकाग्रता और ध्यान में सुधार करता है। इससे उनके अकादमिक प्रदर्शन में सुधार करने में भी मदद मिली।

एक अन्य अध्ययन से यह भी पता चलता है कि नियमित रूप से च्यवनप्राश खाने से संज्ञानात्मक क्षमता को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण मेमोरी को बढ़ाते हैं और सीखने और अवधारण क्षमताओं को सकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं।

7. जीवन शक्ति को बढ़ाता है

एक शोध के अनुसार, च्यवनप्राश शरीर में ऊतकों और कोशिकाओं को फिर से जीवंत करता है। यह शरीर की सहनशक्ति को बढ़ावा देने में मदद करता है और स्वस्थ मांसपेशियों को बढ़ाता है।

च्यवनप्राश शरीर को संतुलित करता है और आपको ऊर्जावान और जवान महसूस कराता है।

8. श्वसन प्रणाली को बढ़ाता है

च्यवनप्राश अस्थमा या ब्रोंकाइटिस जैसी सांस की समस्याओं को खत्म कर सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, च्यवनप्राश श्वसन तंत्र को वायु प्रदूषकों के नकारात्मक प्रभावों से बचाता है।

च्यवनप्राश श्वासनली-ब्रोन्कियल ट्री को मजबूत करने में मदद करता है जो श्वसन प्रणाली के कामकाज को बढ़ाता है। इसके अलावा यह शरीर को तपेदिक, राइनाइटिस, सामान्य सर्दी, साइनसाइटिस और अन्य श्वसन संक्रमणों से बचाने में मदद करता है।

9. पाचन में सुधार करता है

शोध के अनुसार, च्यवनप्राश में विभिन्न जड़ी-बूटियां जैसे दालचीनी, तेजपत्ता, शहद और नागकेसर शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालकर रक्त को शुद्ध करने में मदद करती हैं।

यह गुर्दे और यकृत के कामकाज को बढ़ाकर शरीर के चयापचय को बढ़ाता है। इसके अलावा, च्यवनप्राश में गर्म मसाले जैसे इलायची, काली मिर्च, केसर पाचन के लिए आवश्यक अग्नि (पाचन अग्नि) को प्रज्वलित करते हैं।

10. कैंसर के उपचार में सहायक

च्यवनप्राश में आंवला की उच्च मात्रा के कारण जीनोप्रोटेक्टिव, एंटीऑक्सिडेंट और एंटीकार्सिनोजेनिक गुण होते हैं। यह प्रीमैलिग्नेंट ओरल कैंसर के इलाज में फायदेमंद है।

च्यवनप्राश कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी के दुष्प्रभावों को प्रबंधित करने में भी मदद करता है।

11. अनिद्रा और अवसाद (डिप्रेशन)

शोध बताते हैं कि च्यवनप्राश केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को शांत करने में मदद करता है और शरीर को आराम देता है। इसलिए दैनिक च्यवनप्राश का उपयोग अनिद्रा और अवसाद को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है।

इसके अलावा आप रात का खाना खाने के 2 घंटे बाद इसका सेवन कर सकते हैं। जो आपको डिप्रेशन से राहत दिलाता है।

12. बालों के लिए फायदेमंद

माना जाता है कि च्यवनप्राश बालों के झड़ने को कम करता है और बालों के विकास को बढ़ावा देता है।

च्यवनप्राश में मौजूद फ्लेवोनोइड्स जैसे फाइटोकेमिकल्स कंपाउंड क्षतिग्रस्त बालों के रोम की मरम्मत करते हैं जो बालों के झड़ने को कम करने में मदद करते हैं।

शोध से यह भी पता चलता है कि आंवला का अर्क बालों के झड़ने को कम करने में मदद करता है और बालों को चिकना भी बनाता है।

13. च्यवनप्राश त्वचा के लिए लाभ

स्वास्थ्य लाभ के साथ-साथ त्वचा के लिए भी कई च्यवनप्राश लाभ हैं।

1. त्वचा में निखार लाता है

रोजाना 1-2 चम्मच च्यवनप्राश खाने से आपको स्वस्थ और दमकती त्वचा मिल सकती है। च्यवनप्राश में आंवला एक एंटी-यूवी एजेंट है, जो त्वचा को हाइपरपिग्मेंटेशन और काले धब्बों से बचाता है।

यह त्वचा में मेलेनिन को भी कम करता है और त्वचा को हल्का करने वाले घटक के रूप में काम करता है। विटामिन-ए, सी, ई और जिंक जैसे अन्य पोषक तत्व भी स्वस्थ और चमकती त्वचा के लिए मदद करते हैं।

2. त्वचा की उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करता है

च्यवनप्राश यूवी विकिरण के लक्षणों जैसे एरिथेमा और खुरदरी त्वचा से लड़ने में फायदेमंद है, जो त्वचा की फोटोजिंग या समय से पहले बूढ़ा होने में मदद करता है।

यह केराटिनोसाइट्स (त्वचा की मरम्मत के लिए जिम्मेदार कोशिकाएं) के उत्पादन को बढ़ावा देता है और त्वचा की उम्र बढ़ने को धीमा करता है। च्यवनप्राश विटामिन-सी का एक समृद्ध स्रोत है।

इस कारण यह त्वचा की उम्र बढ़ने को धीमा करने में मदद करता है। त्वचा में विटामिन-सी की कम सांद्रता समय से पहले उम्र बढ़ने की प्रक्रिया की ओर ले जाती है।

3. त्वचा के संक्रमण के इलाज में मदद करता है

च्यवनप्राश में एंटीऑक्सिडेंट, जीवाणुरोधी और एंटीफंगल गुण होते हैं जो त्वचा के संक्रमण के इलाज में फायदेमंद होते हैं।

विटामिन-सी त्वचा की एलर्जी, एटोपिक जिल्द की सूजन और अन्य त्वचीय संक्रमणों के उपचार में प्रभावी है। इसलिए च्यवनप्राश विटामिन-सी का अच्छा स्रोत होने के कारण त्वचा के संक्रमण के इलाज में कारगर है।

14. दूध के फायदे के साथ च्यवनप्राश

दूध पोषण का स्रोत है, खासकर शाकाहारियों के लिए। दूध कैल्शियम, प्रोटीन, पोटेशियम, फास्फोरस और विटामिन-ए और डी का एक समृद्ध स्रोत है। शोध के अनुसार च्यवनप्राश की दैनिक अनुशंसित खुराक निम्नलिखित आवश्यकताओं को पूरा नहीं करती है-

  • 30 ग्राम प्रोटीन
  • 64.96 ग्राम वसा
  • 272 ग्राम कार्बोहाइड्रेट
  • 700 ग्राम कैल्शियम
  • विटामिन-ए का 490 आईयू
  • 969 मिलीग्राम फास्फोरस

इन पोषक तत्वों की कमी को दूध से पूरा किया जा सकता है। इसलिए च्यवनप्राश के साथ दूध, च्यवनप्राश के लाभों को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

15. वजन घटाने के लिए च्यवनप्राश

शोध के अनुसार आंवला के सेवन से शरीर पर मोटापा विरोधी प्रभाव पड़ता है। चूंकि च्यवनप्राश में आंवला अधिक मात्रा में होता है, इसलिए यह वजन कम करने में मदद कर सकता है।

इसके अलावा च्यवनप्राश आहार फाइबर का एक अच्छा स्रोत है, जो पाचन में सुधार और वजन घटाने में सहायता करता है।

अगर आपने तनाव के कारण वजन बढ़ाया है, तो रोजाना च्यवनप्राश खाने से वजन कम करने में फायदा हो सकता है। शोध के अनुसार अश्वगंधा चिंता और तनाव को कम करने में मदद करता है।

यह थायराइड में शरीर के वजन को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। इसके अलावा, च्यवनप्राश शरीर के हार्मोन को संतुलित करने में कारगर है। यह थायराइड हार्मोन को विनियमित करने में मदद कर सकता है।

च्यवनप्राश खाने के क्या नुकसान है?

chyawanprash side effects hindi

च्यवनप्राश का प्राकृतिक नुस्खा सभी प्राकृतिक और आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों और अन्य प्राकृतिक अवयवों की अच्छाई से समृद्ध है।

इन प्राकृतिक अवयवों में विभिन्न औषधीय गुण होते हैं, जिन्हें हमारे पूर्वजों ने महसूस किया। फिर उन्होंने बीमारियों का इलाज करने, लंबे जीवन का आनंद लेने और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए इसका उपयोग किया।

प्राकृतिक और आयुर्वेदिक च्यवनप्राश रेसिपी के कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं हैं जो हर चम्मच में शून्य मिलावट और 100% शुद्धता का वादा करता है।

हालांकि च्यवनप्राश व्यंजनों के हाइपोएलर्जेनिक होने के बावजूद, किसी को प्राकृतिक जड़ी-बूटी से एलर्जी हो सकती है (हालांकि दुर्लभ, ऐसा हो सकता है)।

ऐसे मामले में पहले किसी चिकित्सक या आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करना बुद्धिमानी हो सकती है और यह सुनिश्चित कर लें कि च्यवनप्राश बनाने में उपयोग की जाने वाली प्राकृतिक सामग्री से किसी को ऐसी कोई एलर्जी नहीं है।

च्यवनप्राश किसे नहीं खाना चाहिए

च्यवनप्राश को खट्टा-मीठा स्वाद देने के लिए इसको बनाने के दौरान शुगर, गुड़ या शहद का उपयोग किया जाता है। इसलिए जिन लोगों को हाई ब्लड शुगर लेवल की समस्या है, उन्हें इसका सेवन करते समय सावधानी बरतनी चाहिए।

ब्लड शुगर कंट्रोल हो तो व्यक्ति रोजाना लगभग 3 ग्राम च्यवनप्राश खा सकता है। किसी भी मामले में डायबिटीज़ रोगी के लिए च्यवनप्राश को अपने आहार में शामिल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना सबसे अच्छा विकल्प है।

हालांकि कई स्वास्थ्य बीमारियों के इलाज में इसको बेहद फायदेमंद बताया गया है, फिर भी इसे निर्धारित मात्रा में सेवन करना आवश्यक है।

यदि डॉक्टर के पूर्व परामर्श के बिना अत्यधिक मात्रा में सेवन किया जाता है, तो यह अपच, पेट फूलना, पेट में सूजन, ढीले मल और पेट की दूरी का कारण बन सकता है।

च्यवनप्राश का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए यदि किसी व्यक्ति को निम्नलिखित स्वास्थ्य बीमारियाँ हैं:

  • अनियंत्रित डायबिटीज़
  • उच्च अम्लीय मूत्र या गहरे पीले रंग का मूत्र
  • निशामेह (रात में अत्यधिक पेशाब आना)
  • स्वप्नदोष
  • पुराना कब्ज
  • ढीली मल
  • दस्त
  • पेट में गैस या पेट का बढ़ना
  • धीमी पाचन प्रक्रिया

च्यवनप्राश के नुकसान

1. पेट में जलन महसूस होना

च्यवनप्राश के मिश्रण में कई मजबूत जड़ी-बूटियां मौजूद होती हैं। यदि आप च्यवनप्राश का अधिक सेवन करते हैं, तो इससे पेट में जलन हो सकती है। चूंकि इसमें कई गर्म पदार्थ मौजूद होते हैं, जिनका ज्यादा सेवन जलन पैदा कर सकता है।

2. दस्त

यदि आवश्यक मात्रा में इसका सेवन किया जाए तो च्यवनप्राश का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। च्यवनप्राश के अधिक सेवन से मल ढीले हो सकते हैं।

इससे आपको बार-बार टॉइलेट का चक्कर लगाना पड़ सकता है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व कई बार शरीर में पचते नहीं हैं। इस कारण से आपको दस्त की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

3. बढ़ा हुआ शुगर लेवल

आजकल कंपनियाँ इसके स्वाद को थोड़ा मिट्ठा करने के लिए कुछ च्यवनप्राश प्रकारों में शुगर की अधिक मात्रा मिलाई जाती है।

अगर आप डायबिटिक हैं, तो आपको बिना चीनी वाला वैरिएंट जरूर खरीदना चाहिए। इसके लिए आपको च्यवनप्राश के डिब्बे पर अच्छे से पढ़ना है।

4. च्यवनप्राश के हानिकारक प्रभाव

अन्य दवाओं के साथ च्यवनप्राश का सेवन करना संभवतः सुरक्षित है। हालाँकि, यदि आप कुछ दवाओं पर हैं, तो आपके लिए यह सलाह दी जाएगी कि अन्य दवाओं के साथ च्यवनप्राश का सेवन करने से पहले किसी स्वास्थ्य चिकित्सक से संपर्क करें।

इसमें पाई जाने वाली जड़ी-बूटियाँ कई बार अन्य पदार्थों के साथ रिएक्शन करने का खतरा बन जाता है। अगर आप भी दवाइयों का सेवन कर रहे हैं, तो आपको इसके सेवन से पहले अपने डॉक्टर को सूचित करना होगा।

क्योंकि हमारे द्वारा बताए गए लाभ अलग-अलग व्यक्तियों पर अलग-अलग होते हैं।

इनको भी जरुर पढ़ें:

Final Thoughts:

तो दोस्तों ये था च्यवनप्राश के फायदे और नुकसान, हम उम्मीद करते है की इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको च्यवनप्राश के बेनेफिट्स और साइड इफेक्ट्स के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी.

क्या आपको च्यवनप्राश के बारे में इतनी जानकारी थी? और इस पोस्ट को शेयर जरुर करे ताकि अधिक से अधिक लोगो को इस आर्टिकल से सही जानकारी मिल पाए.

Please share:

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.