चीटी और कबूतर की कहानी – Ant and Dove Story in Hindi with Moral



Ant and Dove Story in Hindi with Moral – नमस्कार दोस्तों आज एक बार फिर हम आपके साथ एक बहुत ही अच्छी कहानी शेयर करने वाले हैं और इस स्टोरी का नाम है चींटी और कबूतर की कहानी

आज की यह कहानी एक बहुत ही बढ़िया सीख आप लोगों को देने वाली है जिसके बारे में हम इस कहानी के अंत में आपको बताएंगे इसलिए हम आपसे यह रिक्वेस्ट करेंगे कि आप इस कहानी को पूरे अंत तक पढ़े. दोस्तों यह कहानी हमारी सबसे मन पसंदीदा स्टोरी है क्योंकि इस कहानी में जो बात आपको देखने को मिलेगी वह आजकल के जमाने में बहुत कम लोग करते हैं

चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए आज की इस मजेदार चींटी और कबूतर की चोरी की शुरूआत करते हैं

पढ़े – लोमड़ी और अंगूर की कहानी

चींटी और कबूतर की कहानी हिंदी में

Ant and Dove Story in Hindi with Moral

chiti aur kabootar ki kahani

एक पेड़ पर एक कबूतर रहती थी और उसी पेड़ पर एक चींटी भी रहती थी वह दोनों एक दूसरे के बहुत अच्छे मित्र थे और एक ही साथ उस पेड़ में मिलजुल कर रहते थे

उन दोनों की दोस्ती बहुत ज्यादा अच्छी थी और वह दोनों हमेशा एक दूसरे के साथ रहते थे एक दूसरे के साथ उनका बहुत अच्छा रिलेशन था और वह दोनों हमेशा एक दूसरे की मदद किया करते थे

कबूतर और चींटी की दोस्ती बहुत ज्यादा पक्की थी. बरसात का मौसम था एक दिन चींटी खाना लेने के लिए जमीन पर चल रही थी

अचानक से बहुत जोर की बारिश आ गई जिसकी वजह से चींटी अपने आपको संभाल नहीं पाए और वह नदी में बहने लगी

चींटी जोर-जोर से चिल्लाने लगी बचाओ बचाओ और चीटी की यह आवाज कबूतर की कानों में गूंज उठी. क्योंकि कबूतर और चींटी बहुत अच्छे मित्र थे और वह लोग हमेशा एक दूसरे का साथ दिया करते थे इस वजह से चींटी ने तुरंत ही पेड़ के कुछ पत्ते तोड़े और तुरंत ही चींटी के पास पानी में डालना शुरू कर दिया

पढ़े – Donkey in the Lion’s Skin Story in Hindi

चींटी मैं अपनी पूरी कोशिश करते कबूतर द्वारा फेंके गए पत्ते पर चढ़ गई और उसकी वजह से उसकी जान बच गई उसने बाहर आकर कबूतर का बहुत शुक्रिया अदा और धन्यवाद कहा

और उसने कबूतर से यह भी कहा कि तूने मेरी जान बचाकर मुझ पर बहुत बड़ा एहसान किया है और इस वजह से हमारी दोस्ती और भी ज्यादा गहरी हो गई है और भविष्य में कभी भी तुमको मेरी जरूरत पड़ेगी या तुम कोई मुसीबत में होगी तब मैं तुम्हारी जरूर मदद करूंगी

एक दिन कबूतर पेड़ की डाल पर बैठी हुई थी तभी वहां पर एक शिकारी आ गया. कबूतर को पता ही नहीं चला कि शिकारी उस पर निशाना लगा रहा है. कबूतर इस बात से पूरी तरीके से अनजान थी

जैसे ही शिकारी ने कबूतर पर निशाना साधा और गोली चलाने ही वाला था उस समय पर वहां पर वह चींटी आ गई और उसने देखा कि शिकारी मेरे दोस्त कबूतर की हत्या करने वाला है

तभी तुरंत चींटी ने शिकारी के पैर में जोर का काट लिया और शिकारी का निशाना चूक गया. गोरी की तेज आवाज सुनकर कबूतर वहां से तुरंत उड़ गई

और इस तरीके से चींटी में उस कबूतर की जान बचा ली. उस दिन के बाद चींटी और कबूतर और भी ज्यादा गहरे दोस्त हो गए और उनमें बहुत ज्यादा मेल-मिलाप हो गया

पढ़े – बंदर और दो बिल्ली की कहानी

इस कहानी से क्या सीख मिलती है हमको दोस्ती

Moral of this Hindi Story

दोस्तों चींटी और कबूतर की कहानी सुनकर हमको यह सीख मिलती है कि हमको हमेशा अपने दोस्तों की मदद करना चाहिए

हमको मुसीबत में अपने मित्र का कभी भी साथ नहीं छोड़ना चाहिए. जो मित्र सच्चा होता है वह आपका मुसीबत के समय में जरूर साथ देता है

लेकिन जो मित्र आपका सच्चा दोस्त नहीं होता है वह मुसीबत के समय पर आपका साथ नहीं देता है और ठीक इसी तरीके से कबूतर ने चींटी की जान बचाई थी और फिर बाद में मुसीबत के समय पर चींटी ने कबूतर की जान बचाई और वह दोनों ने अपनी दोस्ती को पूरी ईमानदारी और वफादारी से निभाई

इस कहानी से हमको यह भी बात पता चलती है कि यदि हम जीवन में दूसरों की मदद करेंगे तब दूसरे भी मुसीबत के समय पर हमारा मदद करने के लिए आगे आएंगे

लेकिन यदि हम स्वार्थी बने रहेंगे और कभी भी मुसीबत के समय पर किसी की मदद नहीं करेंगे तब जब हमारा बुरा वक्त आता है उस समय पर हमारी भी कोई मदद नहीं करता है

इसलिए हमको हमेशा अपने दोस्तों की कदर करनी चाहिए और बुरे समय पर अपनों का साथ और अपने दोस्तों का साथ जरूर देना चाहिए क्योंकि जो दोस्त मुसीबत के समय पर काम आते हैं वही सच्चे दोस्त होते हैं

पढ़े – प्यासा कौवा स्टोरी

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था चींटी और कबूतर की कहानी ( Ant and Dove Story in Hindi with Moral ) हम उम्मीद करते हैं कि आज की यह कहानी पढ़कर आपको बहुत बढ़िया सीखनी ही होगी

यदि आपको हमारी यह स्टोरी पसंद आई हो तो कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ और दूसरे लोगों के साथ Facebook WhatsApp Twitter और Google plus पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि उन लोगों को पता चल पाया कि हम लोगों को कभी भी जीवन में स्वार्थी नहीं बनना चाहिए और मुसीबत के समय में दूसरों की और अपनों की मदद करनी चाहिए धन्यवाद दोस्तों