1 दिन में कितनी सिगरेट पीनी चाहिए (Research Study)

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले है की 1 दिन में कितना सिगरेट पीना चाहिए। दोस्तों आज के टाइम पर स्मोकिंग करना एक फैशन ट्रेंड बन गया है।

और बहुत गजब की बात तो ये है की कुछ सालों पहले केवल लड़के ही हमको स्मोकिंग करते दिखाई देते है लेकिन आज तो जमाना इतना ज्यादा वेस्टर्न कल्चर में डलने लगा है की आपको लड़कियां भी खुले आम सिगरेट पीते हुए नजर आ जाती है।

हां गांव में अभी ये ज्यादा नहीं देखने को मिलता है लेकिन बड़े बड़े शहर जैसे की मुंबई और दिल्ली में आपको लड़कियां बिंदास होकर स्मोकिंग करती नजर आ जाएगी।

हम सभी जानते हैं कि धूम्रपान हमारे लिए बहुत हानिकारक है। लेकिन सदियों से इंसान धूम्रपान का आदि रहा है। इसके नुकसान को जानते हुए भी हम लगातार सिगरेट पीते हैं।

कुछ लोग कहते हैं कि हम कुछ दिनों के अंतराल से सिगरेट पीते हैं। लेकिन वो यह नहीं जानते कि हमारे द्वारा पी गई प्रत्येक सिगरेट कहीं न कहीं हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाती है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक सिगरेट पीने का कोई सुरक्षित (सेफ) लेवल नहीं है। आमतौर पर हमारे द्वारा पी गई प्रत्येक सिगरेट से हम हार्ट अटैक जैसी बीमारियों को अपनी ओर बुलाते हैं। सिगरेट से निकलने वाला धूँआ हमारे फैफड़ों को डैमेज कर उन्हें कमजोर बनाता है।

1 दिन में कितनी सिगरेट पीनी चाहिए

1 din me kitni cigarette pini chahiye

क्या हमको सिगरेट पीनी चाहिए?

अगर आप सोचते हैं, कि मैं किसी ओर प्रकार कोई नशा नहीं करता हूँ। सिर्फ और सिर्फ सिगरेट पीता हूँ, तो मुझे इससे ज्यादा नुकसान नहीं होने वाला है।

लेकिन हमारा एक भ्रम है, क्योंकि हाल में हुए अध्ययन इस ओर इशारा करते हैं कि धूम्रपान ने इंसान की ज़िंदगी को काफी कम कर दिया है।

यहां तक कि अगर आप कसरत करते हैं, फल और सब्जियां खाते हैं, तब भी धूम्रपान करना ठीक नहीं है। आज तक ऐसा कोई शोध नहीं हुआ जिसमें यह दिखाया गया है कि अगर आप बढ़िया भोजन और एक्सर्साइज़ करते हैं, तो सिगरेट से निकलने वाले धुएँ से आपको कोई नुकसान नहीं होगा।

धूम्रपान आपके शरीर में कहीं भी कैंसर का कारण बन सकता है। साथ इससे ही स्ट्रोक, हृदय रोग और फेफड़ों की बीमारी भी हो सकती है।

“धूम्रपान के जोखिम को कम करने का सबसे अच्छा तरीका धूम्रपान पूरी तरह से छोड़ना, अधिक व्यायाम और बेहतर भोजन करना है।”

सिगरेट पीने के नुकसान

जो लोग रोजाना एक सिगरेट पीते हैं, फिर उनकी मृत्यु का खतरा धूम्रपान न करने वालों की तुलना में 64% तक बढ़ जाता है।

जो लोग रोजाना एक से लेकर 10 सिगरेट के बीच में धूम्रपान करते हैं, उनकी मृत्यु का खतरा पहले की तुलना में 87% तक बढ़ जाता है।

इसलिए बड़े से बड़े शोधकर्ताओं ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि धूम्रपान कभी नहीं करना चाहिए। रिसर्चर्स ने जब सिगरेट पीने वाले लोगों पर अध्ययन किया तो उन्हें इस बात का पता चला, कि सिगरेट से फैफड़ों का कैंसर होता है।

रोजाना एक सिगरेट पीने वालों में इस बीमारी से मरने का खतरा नौ गुना अधिक था। जो लोग प्रतिदिन एक से 10 सिगरेट के बीच धूम्रपान करते हैं, उनमें फेफड़ों के कैंसर से मरने का जोखिम धूम्रपान न करने वालों की तुलना में लगभग 12 गुना अधिक था।

सिगरेट पीने से होती है अन्य बीमारियाँ

शोधकर्ताओं ने सांस की बीमारी से मृत्यु के जोखिम को देखा, जैसे कि emphysema, साथ ही हृदय रोग से मृत्यु का जोखिम।

जो लोग एक दिन में एक से 10 सिगरेट के बीच धूम्रपान करते थे, उनमें कभी धूम्रपान न करने वालों की तुलना में सांस की बीमारियों से मरने का जोखिम छह गुना अधिक था और धूम्रपान न करने वालों की तुलना में हृदय रोग से मरने का जोखिम लगभग डेढ़ गुना था।

धूम्रपान के स्वास्थ्य पर कई हानिकारक प्रभाव पड़ते हैं, हालांकि लगातार कम तीव्रता वाले धूम्रपान के स्वास्थ्य प्रभावों का अच्छी तरह से अध्ययन नहीं किया गया है और कई धूम्रपान करने वालों का मानना ​​है कि कम तीव्रता वाला धूम्रपान उनके स्वास्थ्य को प्रभावित नहीं करता है।

क्या कम सिगरेट पीना सेफ है?

Myth: अलग-अलग फिल्टर, कागज या तंबाकू के मिश्रण से बनी सिगरेट को हल्का, अल्ट्रालाइट या माइल्ड के रूप में लेबल किया जाता है।

इसलिए कुछ लोग इसे यह सोचकर खरीदते हैं, कि यह हमारे लिए बेहतर हैं। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी सच नहीं है, आप एक नियमित सिगरेट की तरह एक हल्की सिगरेट पीने से उतना ही टार प्राप्त करते हैं।

जो हमारे शरीर को क्षतिग्रस्त करता है। रिसर्च से पता चलता है कि “हल्की सिगरेट स्वास्थ्यवर्धक नहीं होती है, और कई तरह से उत्पादों का निर्माण और विज्ञापन भी इसी तरह से किया जाता है, जो पूरी तरह से भ्रामक होता है।”

क्या ई-सिगरेट एक स्वस्थ विकल्प है?

ई-सिगरेट का अध्ययन करने पर पाया गया कि ई-सिगरेट में एरोसोल में हानिकारक रसायन हो सकते हैं, जिसमें निकोटीन, अल्ट्राफाइन कण शामिल हैं।

जब यह रसायन हमारे फैफड़ों में जाते हैं, तो उनको बहुत क्षति पहुंचाते हैं। हालांकि हम यह नहीं जानते कि जब लोग ई-सिगरेट का उपयोग करते हैं तो इसके दीर्घकालिक प्रभाव क्या हैं।”

हालांकि यह नॉर्मल सिगरेट की तुलना में कम हानिकारक हो सकती है, लेकिन पूरी तरह से सुरक्षित कभी भी नहीं हो सकती।

ई-सिगरेट ज्यादा पीने से फेफड़ों की गंभीर बीमारी होने का जोखिम बना रहता है। इनमें अस्थमा, ब्रोंकाइटिस और इमफाइसीमा जैसी कई बीमारियां जीवन को जल्दी से खत्म कर सकती हैं।

रोजाना एक सिगरेट पीना

दिन में सिर्फ एक बार सिगरेट पीने से हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा जितना हो सकता है, वो हमारी सोच से कहीं गुना अधिक है। “हृदय रोग के लिए धूम्रपान का कोई सुरक्षित स्तर मौजूद नहीं है।”

धूम्रपान करने वालों को अपने जोखिम को कम करने के लिए जितना जल्दी हो सके सिगरेट पीना छोड़ देना चाहिए।

साथ ही यह युवाओं के लिए एक चेतावनी भी है, कि तथाकथित “हल्के” धूम्रपान से हमारा शरीर भारी कीमत चुकाता है।

वर्तमान समय में एक राहत वाली स्टडि सामने आ रही है, कि “युवा वयस्क अक्सर पुराने वयस्कों की तुलना में कम मात्रा में धूम्रपान करते हैं।” ये हल्के-धूम्रपान करने वाले युवा वयस्क अक्सर खुद को धूम्रपान करने वाले भी नहीं मानते हैं।

लेकिन उनको इस बात का पता नहीं है कि वे सिगरेट की थोड़ी मात्रा में भी धूम्रपान करने से कोरोनरी हृदय रोग विकसित करने का जोखिम ले रहे हैं।

सिगरेट पीने के नुकसान

शुरू में सिगरेट पीने का नुकसान का इस तरह अनुमान लगाया गया कि जो लोग रोजाना एक सिगरेट पीते हैं, उनको ज्यादा सिगरेट पीने वालों की तुलना में कम खतरा है।

लेकिन बाद में रिसर्च से पता लगाया गया कि रोजाना एक सिगरेट भी इंसान के शरीर को भारी क्षति पहुंचाती है।

जब शोधकर्ताओं ने कई अन्य जोखिम कारकों के लिए नियंत्रित अध्ययनों पर ध्यान केंद्रित किया, तो उन्होंने पाया कि एक दिन में सिर्फ एक सिगरेट पीने से महिलाओं में हृदय रोग का खतरा दोगुना हो जाता है।

हैकशॉ ने एक जर्नल समाचार विज्ञप्ति में कहा “हमने दिखाया है कि कोरोनरी हृदय रोग और स्ट्रोक के जोखिम का एक बड़ा हिस्सा प्रतिदिन केवल एक-दो सिगरेट पीने से आता है।”

निकोटीन पैच और गम

Myth: कुछ लोग सोचते हैं कि निकोटीन ही कैंसर का कारण बनता है, लेकिन वास्तव में इसका समर्थन करने के लिए बहुत कम शोध है।

हालांकि निकोटिन बहुत नशे की लत है, लेकिन जिस तरह से यह आपके शरीर में जाता है वह खतरनाक हो सकता है।

तंबाकू का धुंआ हजारों रसायनों से बना होता है, जिनमें 70 से अधिक रसायन होते हैं जो कैंसर का कारण बनते हैं। सिगरेट में जो निकोटिन उपयोग किया जाता है, वो बहुत अधिक हानिकारक होता है।

यह शरीर को खत्म करने का सबसे जहरीला तरीका है। लेकिन अगर आप औषधीय निकोटीन प्रतिस्थापन उत्पादों के माध्यम से निकोटीन पीते हैं, तो नुकसान नाटकीय रूप से कम होता है।

Final Thoughts:

दोस्तों हम उम्मीद करते है की इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप सभी को ये पता चल गया होगा की हमको 1 दिन में कितनी सिगरेट पीनी चाहिए।

अगर आप हमसे कोई भी सवाल या डाउट पूछना चाहते है तो उसको हमारे साथ कमेंट में जरूर शेयर करे और क्या आप भी रोज सिगरेट पीते है ? अगर हां तो दिन में आप कितना स्मोक करते हो हमारे साथ कमेंट में जरूर शेयर करे।

दोस्तों पोस्ट अच्छी लगी तो प्लीज इसको शेयर भी जरूर करे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो को इस पोस्ट से हेल्प मिल पाए।

Please share:

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.