53 Martin Luther King Quotes In Hindi | मार्टिन लूथर किंग के अनमोल विचार वचन



Martin Luther King Quotes In Hindi

मार्टिन लूथर किंग के अनमोल विचार वचन

मार्टिन लूथर किंग कोट्स इन हिंदी में

  1. मानव की प्रगति कभी अपने आप नहीं होती। न्याय के लक्ष्य की ओर बढ़ाए गए हर कदम पर बलिदान, संघर्ष और तकलीफे होती है।” ~ मार्टिन लूथर किंग जूनियर लक्ष्य के लिए समर्पित व्यक्तियों का अथक परिश्रम और जूनून होता है
  2. अंत में, दुशमनों के कहे शब्द नहीं दोस्तों की चुप्पी याद रहती है।” ~ मार्टिन लूथर किंग जूनियर
  3. दमनकर्ता और अत्याचारी कभी अपनी ख़ुशी से स्वतंत्रता नहीं देंगे। अत्याचार व दमन भुगतने वालो को इसकी मांग करनी होगी, तभी यह मिलेगी।
  4. दीर्घायु होना नहीं बल्कि जीवन की गुणवत्ता का महत्व होता है
  5. व्यक्ति जब तक व्यक्तिगत चिन्ताओ के दायरे से ऊपर उठकर पूरी मानवता की वृहद चिंताओं के बारे में नहीं सोचता तब तक उसने जिंदगी जीना ही शुरू नहीं किया है।” ~ मार्टिन लूथर किंग जूनियर
  6. मेरा एक सपना है की मेरे चारो बच्चे एक दिन ऐसे राष्ट्र में रहेंगे जहां उन्हें कोई भी उनकी स्किन के रंग से नहीं पहचानेगा बल्कि उनके चरित्र के गुणों से पहचानेगा
  7. यदि कोई व्यक्ति ऐसा लक्ष्य नहीं ढ़ूँढ़ पाया जिसके लिए वो मर सकता है तो वो जीवित रहने के लायक नहीं है
  8. प्रत्येक व्यक्ति को यह फैसला कर लेना चाहिए कि वह रचनात्मक परोपकारिता के आलोक में चलेगा या विनाशकारी खुदगर्जी के अंधेरे मे
  9. हमने चिडि़यों से हवा में उड़ना सीखा,  हमने मछलियों से समुद्र में तैरना सीखा लेकिन हम पृथ्वी पर भाई-बहनों की तरह रहना नहीं सीख सके
  10. सबसे बड़ी त्रासदी बुरे व्यक्तियों का अत्याचार और दमन नहीं बल्कि इस पर अच्छे लोगो का मौन रहना है
  11. शांति हीरा, चांदी और सोने से ज़्यादा कीमती होती है
  12. शिक्षा का कार्य किसी व्यक्ति को ऐसे शिक्षित करना है कि वो सूक्ष्म रूप से सोचे और अधिक सोचे
  13. हर व्यक्ति महान है क्योंकि हर व्यक्ति सेवा कर सकता है। आपको सेवा के लिए किसी महाविद्यालय की डिग्री की ज़रूरत नहीं है। सेवा करने के लिए बस आपके हृदय में दया होनी चाहिए और आत्मा जो प्रेम से उत्पन्न हो
  14. विश्वास किसी भी कार्य की पहली सीढ़ी है जब तक कि आपने संपूर्ण सीढि़यां नहीं देखी हों
  15. सच्ची अज्ञानता और जानबूझ कर दिखाई गई अज्ञानता से ज़्यादा खतरनाक इस विश्व में कुछ भी नहीं है
  16. किसी भी व्यक्ति को जानने का पैमाना यह नहीं है कि वो आराम और सुविधा के क्षणों में कहाँ रहता है पर यह है कि वो चुनौती और विवादों के क्षणों में कहाँ पर है
  17. एक अन्यायपूर्ण कानून को न मानना एक व्यक्ति का मौलिक अधिकार है
  18. आप केवल अन्धकार में ही सितारों को देख सकते हैं
  19. भगवान के प्रति निरंतर और संपूर्ण समर्पण से ही प्रेम के प्रति वास्तविक अभिव्यक्ति उत्पन्न होती है
  20. हर काम दुसरो के हिसाब से नही किया जा सकता, क्योकी सब का सामर्थ्य अलग होता है। कोयले और सोने मे बहुत अन्तर होता है। पर दोनो का महत्व अपने स्थान पर कायम रहता है। अतः कोई निम्न नही, सब का उपयोग है
  21. यदि बुरा व्यक्ति कोई आधार लाता है, तो उस पर अच्छे व्यक्ति को योजना बनानी होगी। यदि बुरा व्यक्ति विध्वंस करता है, तो अच्छे व्यक्ति को निर्माण करना होगा। यदि बुरा व्यक्ति बुरे शब्दों के साथ कोई बात कहता है तो अच्छे व्यक्ति को उसमें प्यार की चमक देनी होगी
  22. सौ सफल विचार बनाने से अच्छा, एक सफल विचार को गति देना है,ये सफलता का मूल मंत्र है
  23. किसी विवाद के समापन में हम अपने शत्रुओं के कहे शब्द याद नहीं रखते बल्कि उस दौरान अपने मित्रों के मौन को याद रखते हैं
  24. वास्तविक नेता सर्वसम्मति की तलाश नहीं करताउसे निर्मित करता है
  25. किसी विवाद के समापन में हम अपने शत्रुओं के कहे शब्द याद नहीं रखते बल्कि उस दौरान अपने मित्रों के मौन को याद रखते हैं
  26. कोई भी व्यक्ति आपको इस पतन पर नहीं ले जा सकता कि आप उससे नफरत करो
  27. जि़न्दगी का निरंतर महत्वपूर्ण प्रश्न है कि आप दूसरों के लिए क्या कर रहे हो
  28. मैंने प्यार के साथ जुड़ने का निर्णय लिया है। नफरत का भार बहुत ज़्यादा होता है, जिसे उठाया नहीं जा सकता
  29. विकास का तात्पर्य धन और वैभव नही, अपितु चरित्र और विवेक होता है। अतः अपना आत्मव्लोकन करो
  30. समय बहुत तेज है, इसके साथ चलने वाले ही यहाँ सफल होते है, और विपरीत दिशा मे जाने वाले अपने विनाश को ही आमंत्रित करते है
  31. सत्य से डराना अच्छी बात है, सत्य से डरना नही, अतः इसके सामने के लिए हमेशा तैयार रहो
  32. आशा करना अच्छी बात है, पर उसपे निर्भर रहना नही। क्योकी आशा परिश्रम पे निर्भर होता है
  33. नैतिकता से प्रतिष्ठा मिलती है, और प्रतिष्ठा से यश र्कीर्ति, गौरव स्वयं चारो दिशाओ मेँ फैल जाते है
  34. हमें भाईयों की तरह मिलकर रहना सीखना पड़ेगा, वरना मूर्खों की तरह लड़कर सभी बर्बाद हो जाएंगे
  35. सही काम को करने के लिए, समय हर क्षण सही होता है
  36. आँख के बदले आँख” के प्राचीन सिद्धान्त से तो एक दिन सभी अंधे हो जाएंगे
  37. मैंने प्रेम को ही अपनाने का निर्णय किया है. घृणा करना तो बेहद कष्टदायक और बोझिल काम है
  38. हमारे जीवन का उस दिन अंत होना शुरू हो जाता है जिस दिन हम उन विषयों के बारे में चुप रहना शुरू कर देते हैं जो मायने रखते हैं
  39. हमें परिमित निराशा को स्वीकार करना चाहिए, लेकिन अपरिमित आशा को कभी नहीं खोना चाहिए
  40. मानव की प्रगति कभी अपने आप नहीं होती। न्याय के लक्ष्य की ओर बढ़ाए गए हर कदम पर बलिदान, संघर्ष और तकलीफे होती है। लक्ष्य के लिए समर्पित व्यक्तियों का अथक परिश्रम और जूनून होता है
  41. अंधकार से अंधकार को दूर नहीं किया जा सकता है, केवल प्रकाश से ही ऐसा किया जा सकता है। नफरत से नफरत को नहीं हटाया जा सकता है, केवल प्यार से ही ऐसा किया जा सकता है
  42. दमनकर्ता और अत्याचारी कभी अपनी ख़ुशी से स्वतंत्रता नहीं देंगे। अत्याचार व दमन भुगतने वालो को इसकी मांग करनी होगी, तभी यह मिलेगी
  43. कानून- व्यवस्था न्याय की स्थापना के लिए होते है और जब वे इसमें नाकाम रहते है तो वे खतरनाक ढंग से बने बांध की तरह हो जाते है, जो सामाजिक प्रगति के प्रवाह को थाम लेते है
  44. यदि तुम उड़ नहीं सकते हो तो दौड़ो, यदि तुम दौड़ नहीं सकते हो तो चलो, यदि तुम चल नहीं सकते हो तो रेंगो। लेकिन, तुम जैसे भी करो, तुम्हे आगे बढ़ना ही होगा
  45. प्रत्येक व्यक्ति को यह फैसला कर लेना चाहिए कि वह रचनात्मक परोपकारिता के आलोक में चलेगा या विनाशकारी खुदगर्जी के अंधेरे मे
  46. प्रेम एकमात्र ऐसी शक्ति है, जो शत्रु को मित्र में बदल सकती है
  47. हमारी वैज्ञानिक शक्ति ने हमारी आध्यात्मिक शक्ति को कुचल दिया। हमारे पास गाइडेड मिसाइल तो है, लेकिन लोग मिस गाइडेड है
  48. सबसे बड़ी त्रासदी बुरे व्यक्तियों का अत्याचार और दमन नहीं बल्कि इस पर अच्छे लोगो का मौन रहना है
  49. आपके ऊपर तब तक कोई सवार नहीं हो सकता जब तक की आपकी कमर झुकी नहीं हो,इसीलिए अपनी कमर सीधी करे और लक्ष्य के किए काम में जुट जाए
  50. सबसे बड़ी त्रासदी बुरे व्यक्तियों का अत्याचार और दमन नहीं बल्कि इस पर अच्छे लोगो का मौन रहना है
  51. एक सच्चा लीडर लोगो के विचारों के पीछे नहीं चलता बल्कि वो लोगो के विचारो को बदल देता है
  52. व्यक्ति का निर्णायक आकलन इससे नहीं होता है कि वह सुख व सहूलियत की घड़ी में कहा खड़ा है, बल्कि इससे होता है कि वह चुनौती और विवाद के समय में कहां खड़ा होता है
  53. हमारे जीवन का उस दिन अंत होना शुरू हो जाता है, जिस दिन हम उन मुद्दो के बारे में चुप हो जाते है जो आम समाज के लिए मायने रखते है


शेयर करो
error: Content is protected !!