बुरी संगति का असर पर कहानी – कुसंगति का फल स्टोरी



कुसंगति का फल स्टोरी – नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से हम आपके साथ एक बहुत ही अच्छी कहानी लेकर आए हैं जो कि छोटे बच्चों के लिए बहुत ही अच्छी शिक्षा प्रदान करने वाली है. आज के इस आर्टिकल में हम आपके साथ बुरी संगति का असर पर एक छोटी कहानी आप लोगों के साथ शेयर करेंगे जिसको पढ़कर आपको पता चल जाएगा कि कुसंगति का फल क्या होता है.

चलिए दोस्तों ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए आज की कहानी की हम शुरुआत करते हैं और आप लोग इस कहानी को पूरा जरूर पढ़ें आप लोगों को बहुत अच्छी सीख मिलेगी.

पढ़े – जैसी करनी वैसी भरनी कहानी

बुरी संगति का असर पर कहानी
कुसंगति का फल स्टोरी

Buri Sangati Ka Asar Kahani

किसी शहर में एक बहुत बड़ा धनवान आदमी रहता था. उसका केवल एक ही पुत्र था. वह बहुत ही भला और आज्ञाकारी था. दुर्भाग्य से वह कुछ बुरे लोगों की संगति में आ गया था.

वह हमेशा अपनी गली में रहने वाले बुरे लड़कों के साथ इधर-उधर घूमता और आवारागिरी करता रहता. वह लड़का अपने माता-पिता का कहना भी नहीं मानता था और उनकी बताई गई बातों पर भी बिल्कुल ध्यान नहीं देता था.

वह केवल अपनी मनमानी करता था और किसी की नहीं सुनता था. वह धनवान व्यक्ति अपने लड़के की करतूतों से बड़ा परेशान रहता था. 1 दिन उस इंसान को अपने पुत्र की बुरी संगति से छुटकारा दिलाने के लिए एक दिमाग में आईडिया आया.

उस लड़के के पिता ने एक टोकरी सेब बाजार से मंगवाई और उसमें एक सड़ा हुआ सेब डाल दिया. फिर उसने वह सेब की टोकरी अपने बेटे के अलमारी में रखने के लिए दे दिया. उसके बेटे ने वह सेब की टोकरी अपने अलमारी में रख दिया.

दो दिन बाद उस लड़के के पिता ने अपने लड़के से कहा कि वह सेब की टोकरी अलमारी से जरा लेकर आओ. जैसे ही लड़का वह सेब की टोकरी लेने के लिए अलमारी में गया तो वह आश्चर्यचकित हो गया उसने देखा की टोकरी में सभी सेब सड़ चुके हैं.

उस लड़के को यह बात पता थी कि अच्छे सेब 1 हफ्ते तक खराब नहीं होते हैं. और उसको यह समझ में नहीं आ रहा था कि टोकरी में रखे हुए सभी सेब खराब कैसे हो गए.

पढ़े – अकल बड़ी या भैंस पर स्टोरी

तब उसके पिता ने अपने लड़के से कहा कि यह सारे सेब केवल एक सड़े सेब के कारण खराब हो गए हैं. उसके पिता ने बेटे को समझाया कि जैसे एक सड़े हुए सेब अपने पूरे टोकरी में रखे सेबो को सड़ा दिया और खराब कर दिया ठीक उसी तरह अगर एक अच्छा व्यक्ति बुरी संगति के साथ आता है तब वह भी खराब हो जाता है और बिगड़ जाता है.

और यदि तुम उन बुरे लड़कों के साथ ऐसे ही घूमते रहोगे हमारा कहना नहीं मानोगे और आवारागर्दी और मार पिटाई करते रहोगे तब तुम्हारी भी जीवन पूरी तरीके से नष्ट और बर्बाद हो जाएगा.

यह बात सुनकर उस लड़के की आंखें खुल गई और उसको सब कुछ समझ में आ गया. उस लड़के ने अपनी बुरी संगति का साथ देना छोड़ दिया और अपने माता-पिता का कहना मानता बहुत भली प्रकार जीवन व्यक्त करने लगा.

शिक्षा – दोस्तों इस कहानी से हम लोगों को यह सीख मिलती है की हमें कभी भी बुरी संगति के साथ नहीं रहना चाहिए और हमेशा अपने माता-पिता का कहा हुआ मानना चाहिए. क्योंकि पूरे संगति का असर हमेशा बुरा ही होता है.

जैसी आपकी संगति होगी वैसे ही आप बनोगे, अगर आपकी संगति बुरी है तब आप पर भी उनका बुरा असर पड़ेगा यदि आप लोगों की संगति अच्छी है सब आप लोगों पर उनका अच्छा असर होगा

इसलिए हम लोगों को बुरे लोगों के साथ कभी भी नहीं रहना चाहिए और हमेशा अच्छे लोगों की संगति में रहना चाहिए

आपकी और दोस्तों

दोस्तों यह था बुरी संगति का असर पर छोटी कहानी, हम उम्मीद करते हैं कि आज का यह आर्टिकल पढ़ने के बाद आप लोगों को पता चल गया होगा कि कुसंगति का फल क्या होता है.

यदि आप लोगों को हमारी यह कहानी पसंद आई हो तो कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ और घर परिवार वालों के साथ जरुर शेयर करें ताकि हर किसी को पता चल पाएगी हमको कभी पूरी संगति का साथ नहीं देना चाहिए क्योंकि उसका असर हम पर बहुत खराब होता है.

और दोस्तों ऐसी ही कहानी और दिलचस्प आर्टिकल पढ़ने के लिए नियमित रूप से हमारे ब्लॉग पर आया करें धन्यवाद.